सीजोफ्रेनिया के लक्षणों का सामना कैसे करें

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Jun 21, 2014
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • सीजोफ्रेनिया एक मानसिक बीमारी अर्थात मेंटल डिसआर्डर है।
  • सीजोफ्रेनिया किसी को भी और कसी भी आयु में हो सकता है।
  • सीज़ोफ़्रेनिया से पीड़ित व्यक्ति अधिकतर भ्रम में जीता है।  
  • आनुवांशिक तथा पारिवारिक तनाव भी हो सकते हैं कारण।

सीजोफ्रेनिया एक मानसिक विकृति है, जिसे दुर्भाग्यवश (विशेषकर हमारे देश में) अधिकांश लोग पागलपन कहते हैं। इस रोग में मिथ्या भ्रम, स्वाभाविक सोच जैसे लक्षण देखने को मिलते हैं। कई बार इस रोग को कुछ रूड़ीवादी लोगों द्वारा भूत प्रेत का साया पड़ जाने से भी जोड़ दिया जाता है, जो पूरी तरह दुर्भाग्यपूर्ण और हास्यायपद है। यह रो ग भी बुखार या किसी अन्य स्वास्थ्य समस्या की तरह ही एक समस्या है जिसका समय से चिकित्सकीय परामर्श लेने पर इलाज संभव है। तो चलिये सीजोफ्रेनिया, इसके लक्षणों, कारणों तथा इलाज तथा इसके लक्षणों का सामना करने के तरीकों के बारे में विस्तार से जानें।

 

दरअसल सीजोफ्रेनिया एक मानसिक बीमारी अर्थात मेंटल डिसआर्डर की स्थिति है, जिसमें पीड़ित व्यक्ति को अक्सर तरह-तरह आवाज़ें सुनाई देती रहती हैं और लगता है सभी लोग उनके ख़िलाफ़ षड़यंत्र रच रहे हैं। यहां तक कि कई बार तो वे खुद को भगवान भी मान लेते हैं।

 

Schizophrenia Symptoms in Hindi

 

 

मानसिक रोग विशेषज्ञ बताते हैं कि सीजोफ्रेनिया किसी को भी और कभी भी हो सकता है। कोई ऐसी मानसिक चोट, जिससे दिमाग को आघात पहुंचे, सीजोफ्रेनिक का कारण बन सकती है। सीजोफ्रेनिया ज्यादातर तब होता है, जब मनुष्य के दिमाग में मौजूद डोपामिन नामक एक केमिकलका का स्राव अधिक होने लगता है। डॉक्टर के अनुसार सीजोफ्रेनिया अनुवांशिक भी हो सकता है। अर्थात यदि  परिवार में इस बीमारी का कोई इतिहास हो तो यह आगे चलकर परिवार के किसी दूसरे सदस्य को भी हो सकती है।

सीजोफ्रेनिया के लक्षण

सीजोफ्रेनिया की प्रारंभिक स्थिति में रोगी गुमसुम सा रहता है, और वह अक्सर लोगों पर शक करता है। कई बार वह तो सीजोफ्रेनिया का मरीज आत्महत्या या किसी की हत्या तक का विचार भी करने लगता है। इस स्थिति में उनके सोचने समझने की शक्ति गड़बड़ा जाती है और उनको ल गने लगता है कि कोई उनको आत्महत्या के लिए उकसा रहा है। इस रोग में मरीज़ को हर समय एक डर के साये में जीती है। उसे काफ़ी गुस्सा आता है। सीज़ोफ़्रेनिया से पीड़ित व्यक्ति भ्रम में जीता है और जिन यादों व बातों (काल्पनिक) में वह खोया रहता है, उन्हें ही हकीकत मानने लगता है। फिर भले वह दौर दो-चार सौ साल पुराना ही क्यों न हो। वह अपने बुने भ्रम में फंसता चला जाता है। सोच-समझ, भावनाओं और क्रियाओं के बीच कोई तालमेल नहीं रहता है। इस प्रकार के रोगी को अकेले रहने की आदत हो जाती है। कुछ रोगियों को तो भूत-प्रेत का भी अहसास होने लगता है। इस रोग के ज़्यादा बढ़ जाने पर रोगी की स्थिति विक्षिप्तों जैसी हो जाती है।

 

Schizophrenia Symptoms in Hindiणों

 

 

सीजोफ्रेनिया के कारण

हालांकि सीजोफ्रेनिया होने का अभी तक कोई निश्चित कारण तो पता नहीं चल सका है, लेकिन इतना ज़रूर है कि इसकी एक से ज़्यादा वजह जरूर हो सकती है। इसके पीछे आनुवांशिक कारण, मनोवैज्ञानिक कारण, पारिवारिक तनाव, तनावपूर्ण जीवन, सामाजिक, सांस्कृतिक प्रभाव, बचपन में क्षतिपूर्ण विकास या कोई बुरी यादें, गर्भावस्था और प्रसूति के दौरान तकलीफ आदि इसके प्रमुख कारण माने जाते हैं। इसके अलावा ये रोग डिप्रेशन, तनाव तथा किसी बात या घटना से आघात आदि के कारण भी हो सकता है।

 

सीजोफ्रेनिया का इलाज

रोग के ज्यादा बढ़ जाने पर मरीज़ों को अंत में मेंटल हॉस्पिटल भेजना पड़ता है, लेरिन यदि शुरुआती दौर में ही उपचार शुरू कर दिया जाए तो यह बीमारी पूरी तरह ठीक हो सकती है। ऐसे मामलों  की पुष्टी होने पर मरीज़ों के साथ बेहतर व्यवहार किया जाना चाहिए। उन्हे बार-बार मानसिक रोगी होने का अहसास कराकर तनाव नहीं दिया जाना चाहिए। उन्हें ठीक से सुनना  चहिए और उसी के अनुसार बातचीत कर उसे संतुष्ट करना चाहिए। उचित चिकित्सक व परामर्श के साथ ही निश्चित समय पर दवा वगैरह देते रहना चहिए। इस रोग को एंटीसाईकोटिक दवाओं, इंजेक्शन, ईसीटी से दूर किया जा सकता है। उचित इलाज मिलने पर सीजोफ्रेनिया का मरीज जल्द ही सामान्य जीवन जी सकता है। हालांकि रोग ठीक होने के बाद ये दोबारा भी हो सकता है।


हां योग के माध्यम से भी सीजोफ्रेनिया के लक्षणों में कमी लाई जा सकती है। एक शोध में शोधकर्ताओं ने कुछ ऐसे लोगों पर अध्ययन किया, जो नियमित रूप से योग करते थे। शोध के दौरान उन्होंने पया कि सीजोफ्रेनिया के रोगियों पर योग का सकारात्म प्रभाव हुआ और उनकी समस्या में कमी आई।


चिकित्सकों का मानना है कि भाग दौड़ भरी जिंदगी में लोगों प र काम का शारीरिक से ज्यादा मानसिक दबाव हो गया है। ऐसे में कई बार व्यक्ति पर गहरा तनाव हावी हो जाता है। जिस कारण लगों में कई बार इस रोग के लक्षण उभर आते हैं। चिकित्सकों का कहना है कि इस रोग के प्रति गंभीर सोच होना बेहद जरूरी है। इसलिए इस रोग से संबंधित लक्षण दिखने पर चिकित्सक से तत्काल संपर्क करना चाहिए।

 

 

Read More Article On Mental Health In Hindi.

Write a Review Feedback
Is it Helpful Article?YES8 Votes 3259 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर