सेफ पीरियड्स के बारे में कैसे जानें

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Jan 31, 2014
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • पीरियड्स के सात दिन बाद ओवुलेशन साइकिल शुरू होती है।
  • कंसीव करने के लिए ओव्‍यूलेशन कैलेंडर की जानकारी जरूरी।
  • मासिक चक्र आपकी प्रजनन प्रणाली में परिवर्तन लाता है। 
  • अधिकतर महिलाओं में पीरियड 28 दिनों के अन्तराल पर होता है।

महिलाएं हमेशा से प्रेग्नेंसी से बचने के लिए अपने सुरक्षित पीरियड की जानकारी रखती है। अगर आप अपने पीरियड की सही तिथि को याद रहेगी तो आपको इसकी गणना करने में काफी आसानी रहेगी।

safe periodsअगर आप कंसीव करना चाहती हैं तो ओव्‍यूलेशन कैलेंडर आपको बताएगा कि आपका कौन सा दिन कंसीव करने के लिये अच्‍छा रहेगा। ऐसा आपके पीरियड का आखिरी दिन देख कर और औसत चक्र की लंबाई को ध्‍यान में रख कर किया जाता है। अगर आप गर्भवती नहीं होना चाहती हैं तो अपने पीरियड की तिथि को नोट करना ना भूलें या फिर कंडोम का प्रयोग जरूर करें।

 

सिर्फ सेक्स करने से महिलाएं गर्भवती नहीं होती हैं। बल्कि सही समय पर सेक्स करना भी मायने रखता है। यह बात ध्यान देने योग्य है कि पुरुष के शुक्राणु हमेशा लगभग एक जैसे ही होते हैं, जो महिला को गर्भवती कर सकते हैं। लेकिन महिला का शरीर ऐसा नहीं होता जो कभी भी गर्भवती हो सके। उसका एक निश्चित समय होता है, एक छोटी सी अवधि होती है। यदि आप उस अवधि को पहचान कर उस समय सेक्स करते हैं तो गर्भधारण की संभावना आश्‍चर्यजनक रूप से बढ़ जाती है।

 

28 दिन के मासिक धर्म के साइकिल में 14वें दिन ओवुलेशन का है जो पीरियड शुरू होने के बाद से गिना जाता है, इस दौरान 12 से 18 दिन के बीच में सेक्‍स करने से गर्भ ठहरता है।


ओवुलेशन चक्र

पीरियड्स के सात दिन बाद ओवुलेशन साइकिल शुरू होती है, और यह माहवारी या पीरियड्स के शुरू होने से सात दिन पहले तक रहती है। ओवुलेशन पीरियड ही वह समय होता है, जिसमें कि महिला गर्भधारण कर सकती है और इस स्‍थिति को फर्टाइन स्‍टेज भी कहते हैं। गर्भधारण के लिए, जब भी सेक्‍स करें तो ओवुलेशन पीरियड में ही करें। अपनी ओवुलेशन साइकिल का पता लगायें। इसके लिए आप चिकित्‍सक से संपर्क भी कर सकते हैं।


मासिक धर्म या पीरियड्स हर माह हर युवती की जिंदगी में तीन से पांच दिन तक रहता है। दूसरे शब्दों में कहें तो, इस समय गर्भाशय से स्त्राव होता है। मासिक चक्र आपकी प्रजनन प्रणाली में परिवर्तन लाता है, जिससे महिलाएं प्रजनन के लिए तैयार होती हैं। इससे माह के 5-7 दिनों तक गर्भाशय की गर्भधारण की क्षमता बढ़ती है। यह क्षमता प्रत्येक महिला में अलग-अलग होती है और कुछ में यह महीने में केवल 2-3 दिनों की भी होती है। प्रजनन प्रणाली प्रत्येक महिला में 12-16 वर्ष की आयु से शुरू होकर मेनोपॉज तक चलती है।


अनियमित मासिक धर्म

अनियमित मासिक धर्म उस तरह के रक्तस्त्राव को कहते हैं जो किसी महिला में पिछले माह के चक्र से अलग होता है। ऐसे में माहवारी देर से या समय से काफी पहले शुरू हो जाती है और उस दौरान रक्तस्त्राव सामान्य या उससे कहीं अधिक होता है। स्वस्थ महिला के शरीर में एस्ट्रोजन, प्रोजेस्टेरोन और टेस्टोस्टेरोन जैसे तीन हार्मोन्स मौजूद होते हैं। कभी-कभार इन हार्मोन्स में गड़बड़ हो जाती है जिसके कारण मासिक धर्म प्रक्रिया में परिवर्तन आते दिखते हैं।

जब कोई लड़की किशोरावस्था में पहुँचती है तब उनके अंडाशय इस्ट्रोजन एवं प्रोजेस्ट्रोन नामक हार्मोन उत्पन्न करने लगते हैं। इन हार्मोन की वजह से हर महीने में एक बार गर्भाशय की परत मोटी होने लगती है और वह गर्भ धारण के लिए तैयार हो जाता है।

इसी बीच कुछ अन्य हार्मोन अंडाशय को एक अनिषेचित डिम्ब उत्पन्न एवं उत्सर्जित करने का संकेत देते हैं। अधिकतर लड़कियों में यह लगभग 28 दिनों के अन्तराल पर होता है।

 

Read More Articles On Women's Health In Hindi

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES60 Votes 15007 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर