एनीमिक होने से बचें

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Aug 23, 2011
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Man in tensionलोग एनीमिया को गंभीरता से नहीं लेते। लेकन क्या आप जानते हैं खून की कमी से आप कई बीमारियों के शिकार हो सकते हैं। एनीमिया दरअसल खून में लाल रक्त कोशिकाओं की कमी होना है यानी लाल रक्त कोशिकाओं में मौजूद हिमोग्लोबिन में कमी होना। लेकिन पोषक तत्वों के प्रयोग से एनीमिया से बचा जा सकता हैं। आइए जानें एनीमिक होने से बचने के लिए क्या किया जाना चाहिए।

 

  • हिमोग्लोबिन शरीर के कोने-कोने तक ऑक्सीजन पहुंचाने का जरिया है। इसकी कमी से शरीर में कई और भंयकर रोग हो सकते है। एनीमिया कई बार वंशानुगत तो कई बार किसी बीमारी के कारण हो जाता है।
  • खून की कमी से इम्यून सिस्टम कमजोर हो जाता है।
  • एनीमिया का सही इलाज न होने पर सेहत कमजोर होने लगती है और चलने या काम करने में जल्दी थक जाना, सांस फूलने जैसी समस्याएं आने लगती है।
  • लौह तत्वों की पूर्ति से एनीमिया को दूर किया जा सकता है।

    विटामिन सी युक्त आहार जैसे-गाजर, टमाटर ,नींबू, मौसमी, हरी साग सब्जी, अनाज, दालों का उचित मात्रा में सेवन करने से शरीर में आयरन की पूर्ति होती है।
  • हिमोग्लोबिन का स्तर अगर सामान्य से कम होता है तो आप  डॉक्टर की सलाह पर आयरन कैप्सूल भी ले सकते हैं।
  • एनमीया से बचने के लिए दूध, दही, हरी सब्जी और फलों का सेवन करना बेहद जरूरी है।
  • मूंगफली गुड़ खाना भी एनीमिया जैसी बीमारी में लाभदायक है ।
  • एनीमिया से बचने के लिए व्यायाम करना चाहिए, सैर करनी चाहिए और अच्छी नींद लेनी चाहिए।


    इन टिप्स को अपनाकर आप निश्चित तौर पर एनीमिक होने से बचेंगे और अपना हिमोग्लोबिन बढ़ाने में भी सफल होंगे।
Write a Review
Is it Helpful Article?YES43 Votes 17183 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर