मोटापे और डिप्रेशन में हो सकता है करीबी संबंधः शोध

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
May 06, 2015
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • मोटापे और डिप्रेशन में हो सकता है करीबी संबंध।
  • एक की मौजूदगी में दूसरा खुद-ब-खुद चला आता है।
  • मोटापा और डिप्रशन, थायराइड  भी दे सकता है।
  • डायबीटीज के बाद सबसे ज्यादा लोगों को थायराइड है।

 

मोटापा और डिप्रशन देता है थायराइड

मोटापा और डिप्रेशन (अवसाद) एक ही सिक्के के दो पहलू  हैं। एक अध्ययन की मानें तो अगर आप में इन दोनों में से किसी एक की मौजूदगी है तो दूसरा खुद-ब-खुद आपके पास चला आता है।

 

शोधकर्ताओं के मुताबिक अगर कोई व्यक्ति मोटा है तो अक्सर डिप्रेशन उसे घेर लेता है। इसी तरह डिप्रेशन के शिकार लोग मोटापे की गिरफ्त में आ जाते हैं। अपने अध्ययन के दौरान शोधकर्ताओं ने पाया कि मोटे लोगों के अवसाद से ग्रसित होने की संभावना अधिक होती है, क्योंकि वे खुद को हमेशा दूसरों की अपेक्षा कमतर आंकते हैं। मोटे लोग अक्सर नकारात्मक सोच रखते हैं जो अवसाद का प्रमुख कारण है।

 

Obesity and Depression in Hindi

 

'क्लीनिकल साइकोलाजी' जर्नल में प्रकाशित रिपोर्ट के अनुसार महिलाएं और उच्च वर्ग के लोग अपने स्वास्थ्य को लेकर ज्यादा चिंतित रहते हैं। शोधकर्ताओं ने बताया कि डिप्रेशन के शिकार लोगों के हार्मोन और प्रतिरक्षा तंत्र में कुछ बदलाव आते हैं जिससे वे मोटापे की ओर बढ़ने लगते हैं।

 

शोधकर्ताओं के अनुसार डिप्रेशन और मोटापे से निजात पाने के लिए बेहतर इलाज की जरूरत पड़ती है। उन्होंने कहा कि दोनों का इलाज एक साथ किया जाना चाहिए। शोधकर्ताओं का मानना है कि ऐसे लोगों को योग और व्यायाम से काफी लाभ मिल सकता है।

 

 

Obesity and Depression in Hindi


मोटापा और डिप्रशन देता है थायराइड

आज के समय में इन्फर्टिलिटी, वजन बढ़ जाना और अवसाद सामान्य बीमारियां है, लेकिन बहुत कम लोग जानते हैं कि ये थायराइड की समस्या की शुरुआत हो सकती है। अधिकांश लोगों को इस बात की कोई खास जानकारी न होने के कारण इस रोग की पहचान काफी मुश्किल हो जाती है। विशेषज्ञों के अनुसार 4 करोड़ 20 लाख से भी ज्यादा भारतीयों को थायराइड की समस्या है। डायबीटीज के बाद सबसे ज्यादा लोग थायराइड की समस्या के शिकार हैं और वजन बढ़ने व डिप्रेशन जैसी समस्याओं से जूझ रहे 90 प्रतिशत लोगों को जानकारी ही नहीं है कि उन्हें थायराइड की शिकायत है।

मोटापा और डिप्रशन देता है थायराइड
आज के समय में इन्फर्टिलिटी, वजन बढ़ जाना और अवसाद सामान्य बीमारियां है, लेकिन बहुत कम लोग जानते हैं कि ये थायराइड की समस्या की

शुरुआत हो सकती है। अधिकांश लोगों को इस बात की कोई खास जानकारी न होने के कारण इस रोग की पहचान काफी मुश्किल हो जाती है। विशेषज्ञों के

अनुसार 4 करोड़ 20 लाख से भी ज्यादा भारतीयों को थायराइड की समस्या है। डायबीटीज के बाद सबसे ज्यादा लोग थायराइड की समस्या के शिकार हैं

और वजन बढ़ने व डिप्रेशन जैसी समस्याओं से जूझ रहे 90 प्रतिशत लोगों को जानकारी ही नहीं है कि उन्हें थायराइड की शिकायत है।
Write a Review
Is it Helpful Article?YES8 Votes 11453 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर