इन उपायों से दूर करें चेहरे के ब्‍लैकहैड्स

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Aug 29, 2013
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • प्राकृतिक तेल सीबम का त्वचा के रोम छिद्र में जमा होना।
  • ब्‍लैक हेड और वाइट हेड दो रूपों में चेहरे पर दिखाई देता हैं।
  • हार्मोनल डिसऑर्डर के कारण ब्लैकहेड्स की समस्‍या का होना।
  • ब्‍लैक हेड के लिए त्वचा पील्स का भी उपयोग किया जा सकता है।

ब्‍लैकहेड्स की समस्‍या बहुत ही आम समस्‍या है। जो ओपन पोर्स में ऑयल जमा होने के कारण होता है। प्राकृतिक तेल सीबम का त्वचा के रोम छिद्र में जमा होना ब्‍लैकहेड्स होने का कारण है। यह सीबम सख्त होने पर ब्लैक या वाइट हेड्स का रूप ले लेते हैं। इसकी एक वजह त्‍वचा की सही तरह से सफाई न करना भी है।
blackheads in hindi

ब्‍लैकहेड्स की समस्‍या ज्यादातर ऑयली स्किन के लोगों को ही होती हैं। ब्‍लैक हेड और वाइट हेड दो रूपों में चेहरे पर दिखाई देता हैं। आमतौर पर यह नाक, गर्दन, पीठ, चेस्‍ट और माथे पर ज्यादा होते हैं। हार्मोनल डिसऑर्डर के कारण भी कई लोगों को ब्लैकहेड्स की समस्‍या होने लगती है। इसका मुख्य कारण तेल ग्रन्थियों से तेल का ज्‍यादा निकलना, रोमछिद्र का बंद होना और ब्‍लैकहेड्स का बनना है।

ब्‍लैकहेड्स के कारण

ऑयली या कांबिनेशन स्किन

इस प्रकार की त्वचा में रोमछिद्र बंद होने की संभावना अधिक होती है जिससे ब्लैकहेड्स बन जाते हैं।

रोमछिद्र का बंद होना

त्वचा की गलत देखभाल करने या सही क्लींजिंग न होने से त्वचा पर ऑयल का जमा हो सकता है जिससे रोमछिद्र बंद हो सकते हैं।

हार्मोनल बदलाव

हामोंस का बैलेंस बिगड़ने से ऑयल ग्लैंड्स ज्यादा ऑयल रिलीज करने लगते हैं, जिसकी वजह से पोर डिवेलप हो जाते हैं। यही ब्लैकहेड्स होने की वजह बनते हैं। तनाव भी अधिक ऑयल बनाने में सहायक होता है।

अपर्याप्त त्वचा देखभाल

ऑयली त्वचा पर ऑयली क्रीमों या प्रोडक्ट्स का उपयोग करने से ऑयल की अधिकता हो जाती है जिससे रोमछिद्र बंद होकर ब्लैकहेड्स बनते हैं।

मेकअप

मेकअप लगाने और उसे सही तरह से साफ न करने से भी ब्लैकहेड्स हो जाते हैं। जब आप मेकअप लगाती हैं, तो वह त्‍वचा में समाकर ओपन पोर्स बंद कर देता हैं, जो आगे चलकर ब्लैकहेड्स होने की वजह बनते हैं। blackheads in hindi

ब्‍लैकहेड्स का उपचार

  • ब्लैकहेड्स से पीड़ित लोगों को एक्सफॉइलेशन को अपने त्वचा केयर विधियों में शामिल करना चाहिये। एक्सफॉइलेशन जेल या क्रीमें ओवर-दि-  काउंटर उपलब्ध हैं जिनका इस्तेमाल एकदम सुरक्षित है। ज़्यादा रगड़ने से बचें।
  • ऑयली त्वचा वाले लोगों को ऑयली क्रीमों का उपयोग नहीं करना चाहिये जिससे बनने वाला अधिक ऑयल ब्लैकहेड्स और पिम्पल्स बनाता है।
  • बाजार में ब्लैकहेड्स रिमूवल स्ट्रिप्स भी उपलब्ध हैं। ये एड्हेसिव स्ट्रिप्स होती हैं जो प्रभावित हिस्सों पर चिपकाई जा सकती हैं और कुछ देर बाद निकाल दी जाती हैं। जब पट्टी हटाई जाती है तो ब्लैकहेड्स भी इसके साथ निकल जाते हैं।
  • ब्लैकहेड्स को हेल्थकेयर प्रोफेशनल द्वारा निकाला जा सकता है ब्लैकहेड्स को अपने आप निकालने से बचें क्योंकि ऐसा करने पर दाग बाकी रह सकते हैं।
  • डर्मटोलॉजिस्ट ट्रेटीनायन की सिफारिश भी करते हैं क्योंकि यह डेड त्वचा सेल्स को हटाने में मदद करता है। हालांकि इसके कुछ साइड इफेक्ट्स भी होते हैं।
  • त्वचा पील्स का भी उपयोग किया जा सकता है।

 

ब्‍लैकहेड्स की रोकथाम

त्वचा की देखभाल अच्‍छे तरीके से करनी चाहिए। खासकर ऑयली त्वचा के लिए सही प्रोडक्ट्स उपयोग किये जाने चाहिये। साथ ही एक्सफॉइलेशन और स्क्रबिंग जेल्स का उपयोग किया जा सकता है जो ब्लैकहेड्स को हटाने और इनकी रोकथाम में उपयोगी हैं।

 

 इस लेख से संबंधित किसी प्रकार के सवाल या सुझाव के लिए आप यहां पोस्‍ट/कमेंट कर सकते हैं।

Image Source : Getty

Read More Articles On Skin Problems In Hindi

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES141 Votes 27337 Views 2 Comments
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर