मस्तिष्‍क को सुरक्षित रखकर पायें अपना लक्ष्‍य

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Apr 08, 2014
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • लक्ष्‍यों को पाने के पीछे स्‍वास्‍थ्‍य को न करें नजरअंदाज।
  • शोध के अनुसार लक्ष्‍य बना सकते हैं अल्‍जाइमर रोगी।
  • इसलिए उद्देश्‍यों को पाने के लिए योजनाअनुसार काम करें।
  • खुद पर विश्‍वास रखें और तनाव बिलकुल भी न लें।

सभी के जीवन में कोई न कोई उद्देश्‍य होता है और उसे पाने के लिए लोग कड़ी मेहनत करते हैं। लेकिन जीवन के इन उद्देश्‍यों के बीच में बाहरी रुकावट के साथ-साथ शारीरिक परेशानियां भी आती हैं।

उद्देश्‍यों को पाने की चाह में लोग स्‍वास्‍‍थ्‍य को नजरअंदाज करते हैं जिसका सीधा असर व्‍यक्ति के दिमाग पर पड़ता है। उम्र बढ़ने के साथ-साथ तनाव, हाइपरटेंशन, डायबिटीज जैसी खतरनाक बीमारी के साथ भूलने वाली बीमारी डिमेंशिया के होने का खतरा भी होता है।

इसलिए आप जब भी अपने उद्देश्‍यों के लिए प्रयत्‍न करें तब अपने लक्ष्‍य के साथ-साथ अपने दिमाग को भी सुरक्षित रखने का प्रयास करें। इस लेख में जानिए कि दिमाग को सुरक्षित रखकर कैसे पूरा करें अपने उद्देश्‍यों को।

How Finding Your Purpose Protects Your Brain

क्‍या कहता है शोध

शिकागो की रस यूनिवर्सिटी ने लक्ष्‍य को पाने और दिमाग के स्‍वास्‍थ्‍य को लेकर एक शोध किया। इस शोध में शोधकर्ताओं ने यह पाया कि वे लोग अपने लक्ष्‍य को पाने में अधिक सफल रहे जिन्‍होंने अपने काम के साथ-साथ अपने स्‍वास्‍थ्‍य पर भी ध्‍यान दिया। ऐसे लोंगों मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य भी बेहतर था, उनमें तनाव का स्‍तर भी कम था, अपने काम से वे लोग संतुष्‍ट भी थे, ऐसे लोगों ने काम के दौरान भरपूर नींद भी ली।

 

शोध की अन्‍य बातें

सात सालों तक किये गये इस शोध में लगभग 1 हजार लोग अल्‍जाइमर से पीडि़त पाये गये। अल्‍जाइमर भूलने की एक मानसिक बीमारी है। इस शोध में यह पाया गया कि जिन लोगों ने अपने मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य पर ध्‍यान नहीं दिया उनमें अल्‍जाइमर रोग के होने का जोखिम अधिक था। ऐसे लोगों में उम्र का असर भी दिखा और उम्र बढ़ने के साथ-साथ उनकी याददाश्‍त कमजोर होती गई। अधिक तनाव लेना, खानपान पर ध्‍यान न देना, अनियमित दिनचर्या का होना जिम्‍मेदार थी।

 

लक्ष्‍य निर्धारित करें

दिमाग को सुरक्षित रखने के लिए जरूरी है आप एक लक्ष्‍य निर्धारित करें और उसके हिसाब से प्रयास करें। क्‍योंकि आपका जैसा उदेश्य होगा, आपके दिमाग में उसी तरह का खाका होगा, उसी तरह की तस्वीर होगी। उसके लिए हमेशा आपके दिमाग में विचार आयेंगे और यदि आपका काम अधूरा रहेगा तो तनाव होगा और इसका असर दिमाग पर पड़ेगा।

Finding Your Purpose Protects Your Brain

योजना बनायें

दिमाग पर ज्‍यादा जोर न पड़े इसलिए अपने उद्देश्‍यों को पाने के लिए एक योजना बनाइए, इस योजना के अनुरूप ही काम कीजिए। यदि आपने अपने लक्ष्‍य की योजना के आधार पर काम करना शुरू किया है तो वो दिन दूर नहीं जब आप अपने लक्ष्‍य को पाने में सफल होंगे। इसलिए सपने देखने के बजाय एक योजना बनाकर उसपर काम करें।

 

विश्‍वास रखें

कहते है कि असफलता का जो सबसे कठिन हिस्सा होता वह यह है कि आपको अपने पर कितना विश्वास है कि आप उस काम में कितने सफल होंगे। जब तक आपको अपने पर भरोसा नहीं होगा आप सफल ही नहीं हो पायेंगे, बिना इसके आप ठीक से कोशिश नहीं कर सकते और इसके बदले में केवल आपको तनाव और अवसाद ही मिलेगा।




अपने लक्ष्‍यों को निर्धारित कर उसके लिए मेहनत करना अच्‍छी बात है लेकिन कहीं ऐसा न हो कि इन्‍हें पूरा करने के पीछे अपने स्‍वास्‍थ्‍य को नजरअंदाज करें।

 

Read More Articles on Mental Health in Hindi

Write a Review
Is it Helpful Article?YES26 Votes 1066 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर