प्यार में कैसे करें ना का सामना

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Jun 18, 2013
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • जरूरी नहीं कि आप जिससे प्‍यार करते हैं वो भी आपको उतना ही प्‍यार करे। 
  • प्यार का सही मतलब समझें और ज्यादा उम्मीदें लगाने के बजाए अपना बेस्ट दें।
  • कोशिश करें कि अपने दोस्‍तों के साथ ज्‍यादा से ज्‍यादा समय बितायें।
  • किसी भी रिलेशन में कम्‍युनिकेशन गेप नहीं होना चाहिए।

आपने भी प्‍यार में दिल टूटने की बात सुनी होगी। जरूरी नहीं कि आप जिससे प्‍यार करते हैं वो भी आपको उतना ही प्‍यार करें जितना कि आप। ऐसा हो सकता हैं कि सामने वाला आपके इजहार को ठुकरा दे और आपका प्‍यार एकतरफा प्‍यार बनकर रह जाए। ऐसी स्थिति का सामना कुछ लोग तो सहज ढंग से कर लेते हैं, जबकि कुछ इस सिचुएशन में टूट जाते हैं और वे अपनी जिंदगी तक को दांव पर लगाने का विचार मन में लाने लगते हैं। यदि कभी आपके या आपके दोस्‍त के साथ ऐसा हो तो इसके लिए हम कुछ टिप्‍स बता रहे हैं और खुद को अकेला महसूस करने की बजाय प्‍यार में हुई ना का सामना करें।

 

 

 

हां और ना के लिए पहले से तैयार रहें


सबसे पहले यह जरूरी है कि अपने प्‍यार का इजहार करने से पहले ही हां और ना दोनों के लिए तैयार रहें। ऐसा जरूरी नहीं कि सामने वाला आपके प्‍यार का जवाब हां में ही दे। इस जवाब के लिए खुद को पहले से ही तैयार रखें।


सामने वाले की फीलिंग्‍स का आदर करें


अगर कोई आपके प्‍यार को इनकार कर देता है, तो इसका अर्थ यह नहीं कि उसने आपको रिजेक्‍ट कर दिया है। बल्कि वो आपको इस नजर से नहीं देखता। आप उसके अच्‍छे दोस्‍त हो सकते हैं, लेकिन शायद उसे प्रेम नहीं है। और इश्‍क की आग किसी के भी दिल में जबरदस्‍ती पैदा नहीं की जा सकती। आपको चाहिये कि आप उसकी इस भावना का आदर करें। उसे उसके सुखद भविष्‍य के लिए शुभकामनायें दें। इससे आपके मन को शांति मिलेगी और उसके दिल में आपके लिए जगह बनेगी। ऐसा न हो कि आप उसे पूरी तरह से इग्‍नोर करना शुरू कर दें और कम्‍युनिकेशन गेप बना लें। किसी भी रिलेशन में कम्‍युनिकेशन गेप नहीं होना चाहिए। जिसने आपको मना किया है आपको उसके प्रति नफरत के भाव मन में नहीं लाने चाहिए, उससे हमेशा विनम्रता का व्‍यवहार करें।


रिजेक्‍शन जिंदगी का हिस्‍सा है


प्‍यार में इनकार होने पर यह न मानें कि प्‍यार ही आपकी जिंदगी का उद्देश्‍य था। जिस तरह जिंदगी में जीत और हार लगी रहती है, उसी तरह इसे भी जिंदगी का हिस्‍सा मानकर चलें। प्‍यार में इनकार को निगेटिव नहीं लेना चाहिए बल्कि आपको इस पर सहजता से बर्ताव करना चाहिये।

 

 

खुद को अकेला महसूस न करें


एकतरफा प्‍यार में दूसरी तरफ से मना होने के बाद कुछ लोग खुद को अकेला महसूस करने लगते हैं और अपने ऊपर नकारात्‍मक विचारों को हावी करना शुरू कर देते हैं। निगेटिव फीलिंग्‍स से बचें और खुद को मजबूत बनाएं।

 

 


दोस्‍तों के साथ समय बिताएं


जब प्‍यार में ना होता है तो हो सकता है आपको अजीब महसूस हो और आपका मन न लगें। ऐसे में कोशिश करें कि अपने दोस्‍तों के साथ ज्‍यादा से ज्‍यादा समय बितायें। यदि आपको किताबें पढ़ने का शौक है तो किताबें पढ़ें। मूवी देखना पसंद हैं तो मूवी देखें। खुद को पहले के मुकाबले बिजी रखने की कोशिश करें। इससे आप अपना ध्‍यान उन बातों से हटाकर कहीं और केंद्रित कर पायेंगे।


गलत विचारों को हावी न होने दें


हो सकता है किसी का ठुकराना आपको बुरा लगे लेकिन कोशिश करें कि आप इससे निराश न हों। हालांकि, निराशा होना स्‍वाभाविक है, लेकिन इस निराशा को अपने ऊपर हावी न होने दें। सकारात्‍मक विचारों के जरिये ही आप अपने जीवन में आगे निकल पायेंगे। अपने भविष्‍य के लिए कोई लक्ष्‍य तय करें और फिर पूरी शिद्दत से उसे पाने में जुट जाएं।



केवल अपने प्‍यार को ही महत्‍व न दें


आप केवल अपने ही प्‍यार को अहमियत न दें। कहते हैं ना 'और भी ग़म हैं ज़माने में मोहब्‍बत के सिवा' तो अपने आसपास देखिये। अगर उस रिजेक्‍शन ने आपको दुखी होने की एक वजह दी है, तो आपके आसपास खुश रहने के हजारों कारण बिखरे पड़े हैं। छोटी-छोटी खुशियां चुनें और अपने जीवन को खुशनुमा बनायें।



 

Read More Articles On Dating In Hindi

Write a Review
Is it Helpful Article?YES18 Votes 7215 Views 1 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

टिप्पणियाँ
  • saurabh singh18 Jun 2013

    sabhi ki life me utar chadav hota hi hai, koi kisi ke pyar ko pana chahta hai to koi kisi ke pyar me pada hai. Apka yeh article aise logo ke liye faaydemand aur jankari bhara hai jo pyar me no qwords ko accpt nhi kar pate aur kuchh behuda kaam kar dete hain.

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर