कैल्शियम की अधिकता होती है समय पूर्व जन्म की जिम्मेदार! जानें

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Nov 28, 2016
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • बच्चे के निश्चित समय से पूर्व जन्म लेने को प्रीटर्म बर्थ कहते हैं
  • प्री टर्म बर्थ के पीछे का एक बड़ा कारण खोज निकाला गया है।
  • कैल्शियम क्रिस्टल की अत्यधिक मात्रा का गठन इसका प्रमुख कारण।

प्रीटर्म बर्थ दरअसल वह स्थिति होती है जिसमें बच्चे का जन्म समय से पूर्व अर्थात गर्भावस्था के 37 हफ्ते पूरे होने से पहले ही हो जाता है। इसके पीछे का कारण हर महिला की शारीरिक स्थिति के अनुसार भिन्न हो सकता है। लेकिन हाल में हुए एक शोध में प्री टर्म बर्थ के पीछे का एक बड़ा कारण खोज निकाला गया है।

 

ये कारण है कैल्शियम की अधिकता। चलिए तो जानते हैं कि शोध में क्या निष्कर्ष सामने आए और क्यों और कैसे कैल्शियम की अधिकता प्री टर्म बर्थ का कारण बनती है?


क्या सामने आया शोध में

प्रीटर्म बर्थ नवजात शिशुओं में स्थायी विकलांगता और मृत्यु होने का एक बड़ा कारण है, ऐसे में शोधकर्ताओं ने इसके रहस्य के एक प्रमुख घटक को खोज लिया है।
भ्रूण आवरण द्रव (amniotic fluid) में कैल्शियम क्रिस्टल की अत्यधिक मात्रा का गठन प्रीटर्म प्रीमेच्यौर झिल्ली (PPROM) के टूटना का कारण बन सकता है, जोकि प्रीटर्म डिलिवरी का कारण बनता है।

इसे भी पढ़ें: लेबर के बारे में जो आप नहीं जानतीं

preterm birth

 

ये निष्कर्ष हाल ही में सोसाइटी फॉर मैटरनल-फीटल मेडिसिन साइंटिफिक सेशंस, सैन फ्रांसिस्को, कैलिफोर्निया में प्रस्तुत किए गए। संक्रमण, मैटरनल तनाव तथा प्लेसेंटल ब्लीडिंग आदि प्रीटर्म डिलिवरी का कारण बनते हैं, लेकिन प्रीटर्म डिलिवरी के अन्य कारणों से हम अभी भी अनभिज्ञ हैं। ऐसी स्थिति में महिलाएं जल्दी संकुचन, गर्भाशय ग्रीवा फैलाव और एमनियोटिश थेली के फटने जैसे लक्षण होते हैं।

 

इसे भी पढ़ें: सी सेक्शन के बाद व्यायाम करने के होते हैं काफी लाभ


येल यूनिवर्सिटी में आब्सटेट्रिक्स, गायनोकॉलोजी, एंड रिप्रोडक्टिव साइंसेज विषय की एसोसिएट प्रोफेसर  इरिना ब्यूहिम्सची के साथ काम करने वाली मेडिकल स्टूडेंट लिडिया शॉक के अनुसार, "हमने देखा है कि कई महिलाओं में उनकी एमनियोटिक द्रव में प्रोटीन का विश्लेषण करते हुए सूजन के लक्षण नहीं दिखाई दिए थे और उनमें प्री टर्म बर्थ के कोई लक्षण देखने को नहीं मिले।

शॉक के अनुसार, 'मिनरल-प्रोटीन कॉम्प्लेक्स सामान्य सेलुलर प्रक्रियाओं को बाधित कर सकते हैं तथा कोशिका मृत्यु का कारण बनते हैं। हमें लगता है कि ये प्रोटीन गर्भवती महिलाओं में भ्रूण झिल्ली को नुकसान पहुंचाने का कारण बन सकता है।'


शोधकर्ताओं ने PPROM तथा प्री टर्म बर्थ वाले रोगियों के साथ-साथ पूर्ण अवधि के प्रसव वाली महिलाओं में नाल व भ्रूण झिल्ली के ऊतकों में कैल्शियम के जमाव को देखने के लिए एक स्टेन का इस्तेमाल किया। शोध के परिणामों से पता चला कि वाकई प्रोटीन भी प्री टर्म बर्थ को ट्रिगर कर सकता है।

 

Image source: cyprus ivf treatment&The Nation

Read More Articles on Labour And Delivery in Hindi

Write a Review Feedback
Is it Helpful Article?YES4 Votes 2324 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर