विपस्सना मेडिटेशन किस तरह से करें

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Dec 08, 2015
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • बौद्ध परंपरा से संबधित है विपस्सना मेडिटेशन
  • विपस्सना मेडिटेशन से जागृत करते है चेतना
  • अनुभवी ट्रेनर के मार्गदर्शन तहत करना उचित
  • शरीर को शांति औऱ एकाग्रता देता है ध्यान

बौद्ध परंपरा का विपस्सना मेडिटेशन पूरी तरह से आपके वर्तमान चेतना को सक्रिय करता है। लक्ष्य समृद्धि को प्राप्त करना नही है चूंकि अधिकतर ग्रहण करना होगा, बल्कि अधिक से अधिक जागरूकता तक पहुँचना है। विपस्सना करने के बहुत से तरीके है और उन्नत स्तर एक अनुभवी ट्रेनर के मार्गदर्शन के तहत किया जाना चाहिए। 
सबसे बुनियादी विपस्सना तकनीको का निम्नलिखित तरीके से अभ्यास किया जा सकता है:


  • कम डिस्ट्रेक्शन और मध्यम तापमान के साथ एक मेडिटेशन के लिए रूम का चयन करें। यह न तो बहुत आलीशान और न ही बहुत असहज होना चाहिए। एक कुर्सी या एक गलीचा के साथ एक खाली कमरा सबसे उपयुक्त है। पहने हुए कपड़े ढीले-ढाले हो। चमकदार रंगो और कठोर मेटिरियल वाले कपड़ो को न पहने चूंकि ये अपका ध्यान भंग कर सकते है।




  • विपस्सना का उस समय अभ्यास किया जा सकता है जब आप क्लासिक लोटस पॉजिशन में बैठे हो, नीचे लेटे हो, जब कुर्सी पर बैठे हो, खड़े हो या फिर चल रहे हो। आरम्भकर्ता को लोटस(कमल की मुद्रा में) की मुद्रा का अभ्यास करने सलाह दी जाती है चूंकि यह एकाग्रता साधना आसान करता है। 




  • सबसे पहले अपनी दाईं हथेली को सीधा अपनी गोद में अपने बाएँ ओर शीर्ष पर रखे। अपनी आँखें बंद कर अपने आकृति का एक पहलू पर ध्यान केंद्रित करने की कोशिश करो। आमतौर पर, साधक सोलर प्लैक्सस(स्नायु गुच्छ) या नाभि के ऊपर की जगह का चयन करते है। इस चक्र को करने में आपकी ऊर्जा लगती है और यह माध्यम एक बढ़िया विकल्प है।




  •  हालांकि आपका सोलर प्लेक्सस तब विकसित होता है जब आप साँस अंदर लेते है और संकुचित तब होता है जब आप साँस बाहर छोड़ते है। भारी साँस लेने की कोई ज़रूरत नहीं है। बस अपनी सांस को प्राकृतिक रूप से लेने पर ध्यान दे और यह स्वतः ही धीमी और गहरी हो जाएगी।




  • विपस्सना करने का अर्थ, खुद से अलग करना नही है। जो भी विकर्षण आप के लिए आते हैं उनको परिशुद्ध करने के लिए अपनाते हैं। यदि आप इसे जानने के लिए दूर से एक ध्वनि सुने, लेकिन यह आप को प्रभावित नहीं करता। ध्यान दे, किसी भी अन्य ध्वनि के रूप में ध्वनि और अपने निम्नलिखित सोलर प्लेक्सस करने के लिए वापसी स्थिति में जाए



  • मेडिटेशन के दौरान आप को खुजली और दर्द महसूस हो सकता है। किसी भी अन्य वस्तु के रूप में आप उन को पहचानो। यदि खुजलाना और पॉजिशन बदलना जरूरी हो जाता है, तो करें और इसे करे। हालांकि, अपनी गतिविधियों को अच्छी तरह से जाने। यह प्रक्रिया का हिस्सा है। अपने कार्यों को थोड़ा रूक रूक कर करें और एहसास करे कि आप कुछ भी कर सकते है। इसके अलावा आप शांति पर भी ध्यान दें। आप खुद को इसका आनंद लेने से न रोके। अभी तक महसूस कर रही है और वापस एकाग्रता में ध्यान लगाएं। 




शारीरिक असुविधा के प्रारंभिक बाधाओं को आपके द्वारा पार करने के बाद, कुछ भावनाओं के उठने की संभावना हैं। कुछ साधक भी सपने देख सकते हैं। जो भी भावनाए उठती है आप उऩ्हे दबाएं नही। दूसरी ओर आप पूरी तरह न तो उऩ में मग्न होए, न ही उऩ्हे पूरी तरह से बाहर निकाले। विपासन के दौरान सभी वस्तुएं बराबर होती है। भावनाएँ भी वस्तुएं मानी जाती है। आपको उपरोक्त समान निर्देशों को अपनाने की जरूरत है। सभी उद्देश्य पाने के लिए जो शारीरिक और भावनात्मक स्तर पर होते है और अपने मूल लक्ष्य पर ध्यान केंद्रित करने के साथ आगे बढ़े।

 

 Image Source-Getty

Read More Article on Meditation in Hindi

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES50 Votes 18636 Views 0 Comment
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर