प्राकृतिक रूप से किडनी स्टोन से छुटकारा पाने के तरीके

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Dec 13, 2013
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • नमक और अन्‍य खनिज पदाथों के मिलने से पथरी बनती है।
  • इससे निजात के लिए अंगूर, करेला, केला आदि का सेवन करें।
  • दर्द से राहत के लिए जैतून का तेल और नींबू का रस पियें।
  • प्‍याज, बथुआ, अनार, तुलसी और अजवाइन भी है फायदेमंद।

किडनी स्‍टोन यानी गुर्दे की पथरी की समस्‍या आम होने लगी है, खानपान और अनियमित‍ दिनचर्या के कारण लाखों लोग इसकी चपेट में आ रहे हैं। किडनी स्‍टोन होने पर बहुत पीड़ा होती है। यह बीमारी अनुवांशिक भी हो सकती है। पथरी होने पर कई लोग ऑपरेशन करवाना पसंद करते हैं, लेक‍‍िन कुछ ऐसे घरेलू उपाय भी हैं, जिन्‍हें अपनाकर इससे बचा जा सकता है।

Get Rid of Kidney Stone Naturally

जब नमक और अन्य खनिज पदार्थ (ऐसे पदार्थ जो आदमी के मूत्र में मौजूद होते हैं) एक दूसरे के संपर्क में आते है तो स्‍टोन बनना शुरू हो जाता है। किड्नी स्‍टोन का आकार अलग-अलग हो सकता है। कुछ स्‍टोन रेत के दानों की तरह बहुत छोटे आकार के होते हैं तो कुछ बहुत बड़े। आमतौर पर छोटे-मोटे स्‍टोन मूत्र के जरिये शरीर के बाहर निकल जाते हैं, लेकिन जो आकार में बड़े होते हैं वे बाहर नहीं निकल पाते। आइए हम आपको इस समस्‍या से निजात के लिए कुछ प्राकृतिक उपाय बताते हैं।

 

अंगूर का सेवन करें

किड्नी स्‍टोन से छुटकारा दिलाने में अंगूर महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाता है। अंगूर प्राकृतिक मूत्रवर्धक के रूप में कार्य करता है क्योंकि इनमें पोटेशियम नमक और पानी भरपूर मात्रा में होता है। अंगूर में अलबूमीन और सोडियम क्लोराइड बहुत ही कम मात्रा में होते हैं जिनकी वजह से इन्हें किड्नी स्‍टोन के उपचार के लिए अच्‍छा माना जाता है।

 

करेले के द्वारा

करेला बहुत कड़वा होता है और आमतौर पर लोग इसे कम पसंद करते है। लेकिन किड्नी स्‍टोन के मरीजों के लिए यह रामबाण की तरह है। करेले में मैग्‍नीशियम और फॉस्‍फोरस नामक तत्‍व होते हैं, जो पथरी को बनने से रोकते हैं। इसलिए किड्नी स्‍टोन की समस्‍या होने करेले का सेवन करना चाहिए।

 

केला खायें

स्‍टोन की समस्‍या से निपटने के लिए केले का सेवन करना चाहिए। इसमें विटामिन बी-6 होता है। विटामिन बी-6 ऑक्जेलेट क्रिस्टल को बनने से रोकता और तोड़ता है। इसके अलावा विटामिन बी-6, विटामिन बी के अन्य विटामिन के साथ सेवन करना किड्नी स्‍टोन के इलाज में काफी मददगार होता है। एक शोध के मुताबिक विटामिन-बी की 100 से 150 मिलीग्राम दैनिक खुराक किड्नी स्‍टोन के उपचार में बहुत फायदेमंद है।

 

नींबू का रस

जैतून के तेल के साथ नींबू का रस मिलाकर सेवन करने से किड्नी स्‍टोन में फायदा होता है। दर्द होने पर 60 मिली लीटर नींबू के रस में उतनी ही मात्रा में आर्गेनिक जैतून का तेल मिला कर सेवन करने से इसके दर्द से भी आराम मिलता है। नींबू का रस और जैतून का तेल पूरे स्वास्थ्य के लिए अच्छा रहता है और यह आसानी से उपलब्ध भी हो जाता हैं।

 

बथुए का साग

किडनी स्‍टोन को निकालने में बथुए का साग बहुत ही कारगर माना जाता है। इसके लिए आप आधा किलो बथुए के साग को उबाल कर छान लें। अब इसे पानी में जरा सी काली मिर्च, जीरा और हल्‍का सा सेंधा नमक मिलाकर, दिन में चार बार पियें, किड्नी स्‍टोन में फायदा होगा।

 

प्‍याज खायें

प्‍याज में स्‍टोन नाशक तत्‍व होते है इसका प्रयोग कर आप किडनी स्‍टोन से निजात पा सकते है। लगभग 70 ग्राम प्‍याज को पीसकर और उसका रस निकाल कर पियें। सुबह खाली पेट प्‍याज के रस का नियमित सेवन करने से पथरी के छोटे-छोटे टुकड़ों में होकर निकल जाती है।

 

अजवाइन का सेवन

अजवाइन एक महान यूरीन ऐक्ट्यूऐटर है और किडनी के लिए टॉनिक के रूप में काम करता है। किडनी में स्‍टोन के गठन को रोकने के लिए अजवाइन का इस्‍तेमाल मसाले के रूप में या चाय में नियमित रूप से किया जा सकता है।

 

तुलसी का प्रयोग

तुलसी कई बीमारियों के लिए लाभदायक है। तुलसी की चाय पीने से किड्नी स्‍टोन से निजात मिलती है। तुलसी का रस लेने से पथरी को मूत्र के रास्‍ते निकलने में मदद मिलती है। कम से कम एक म‍हीना तुलसी के पतों के रस के साथ शहद लेने से किड्नी स्‍टोन की समस्‍या से छुटकारा मिल सकता है। आप तुलसी के कुछ ताजे पत्तों को रोजाना चबा भी सकते हैं, यह बहुत ही फायदेमंद है।

 

अनार का रस

अनार का रस किड्नी स्‍टोन के खिलाफ बहुत ही अद्भुत और सरल घरेलू उपाय है। अनार के कई स्‍वास्‍थ्‍य लाभ के अलावा इसके बीज और रस में खट्टेपन और कसैले गुण के कारण इसे किडनी स्‍टोन के लिए प्राकृतिक उपाय के रूप में माना जाता है।

 

इन उपायों के जरिये पथरी से छुटकारा पाया जा सकता है। ये उपाय किफायती भी हैं और असरदार भी। लेकिन, इन इलाज का फायदा न हो, तो बिना देर किये चिकित्‍सक से संपर्क करें।

 

Read More Articles On Home Remedies for Diseases in Hindi

Write a Review
Is it Helpful Article?YES186 Votes 5181 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर