कैसे पहचानें आपको सामान्‍य बुखार है या डेंगू फीवर

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Sep 23, 2015
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • डेंगू और साधारण बुखार में फर्क मालूम होना चाहिये।
  • साधारण बुखार डेंगू रोग की तरह संक्रामक नहीं होता।
  • डेंगू बारिश के मौसम के बाद के महीनों में फैलता है।
  • डेंगू वायरस (डी-1, डी-2, डी-3, डी-4) से होता है।

डेंगू आजकल महामारी की तरह फैला हुआ है। इसके बुखार का प्रकोप थम नहीं रहा है। अस्पतालों में मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। लेकिन डेंगू बुखार के लक्षण अन्य बीमारियों से मिलते-जुलते होने के कारण शुरूआत में डेंगू को पहचानना मुश्किल होता है। हालांकि डेंगू बुखार से व्यक्ति की त्वचा ठंडी पड़ जाती है। शरीर पर लाल-गुलाबी चकते पड़ जाते हैं। लेकिन कुछ डॉक्‍टर साधारण बुखार को डेंगू बता रहे हैं। इसलिए आपको डेंगू और साधारण बुखार में फर्क मालूम होना चाहिये। आइए इस आर्टिकल के माध्‍यम से साधारण बुखार है या डेंगू फीवर के बारे में जानें।  
fever check in hindi

कैसे होता है साधारण और डेंगू बुखार

साधारण बुखार डेंगू रोग की तरह संक्रामक नहीं होता, बल्कि मौसम में बदलाव के कारण अक्‍सर हो जाता है। लेकिन डेंगू एक संक्रामक रोग है जो एडीज नामक मच्‍छर के काटने से फैलती है।


कब फैलता हैं बुखार  

साधारण बुखार के फैलने का कोई विशेष मौसम नहीं होता। लेकिन आमतौर पर डेंगू बारिश के मौसम में या इसके बाद के महीनों में फैलता है। सामान्यत: जुलाई से अक्टूबर तक इसके फैलने की सबसे अधिक संभावना रहती है, क्योंकि बरसात के मौसम के बाद मच्छरों की तादाद बढ़ जाती है।


कैसे फैलते हैं दोनों तरह के बुखार

साधारण बुखार शरीर की प्रक्रिया है, जिसमें मस्त‍िष्क का तापमान बढ़ने पर शरीर उसे बैलेंस करने के लिये खुद गर्म होने लगता है। हालांकि बुखार आने के कई अन्य कारण निमोनिया, फ्लू या किसी प्रकार का इंफेक्शन भी होता है। लेकिन डेंगू 4 प्रकार के डेंगू वायरस (डी-1, डी-2, डी-3, डी-4) से होता है। यह वायरस दिन में काटने वाले दो प्रकार के मच्छरों से फैलता है। यह एक व्यक्त‍ि से दूसरे में मच्छर के काटने से ही पहुंचता है।


दोनों के सामान्य लक्षणों में अंतर  

सामान्‍य बुखार में ठंड लगना, कंपकपी, छींके आना और कभी-कभी खांसी भी हो जाती है। साथ ही बुखार उतरने पर बहुत सारा पसीना आने लगता है। लेकिन डेंगू में ठंड के साथ तेज बुखार, सिर मांसपेशियों तथा जोड़ों में दर्द, आंखों के पिछले भाग में दर्द, कमजोरी, भूख लगना, शरीर पर लाल-गुलाबी ददोरे या दाने आना शामिल है। इसके अलावा बेचैनी और बल्ड प्रेशर कम होना भी शामिल है।


शरीर का तापमान

साधारण बुखार में शरीर का तापमान 100 से 102 डिग्री तक रहता है। हालांकि कभी-कभी 103 डिग्री फेरनाइट तक हो जाता है। लेकिन डेंगू में शरीर का तापमान 103 डिग्री फेरनाइट से ऊपर चला जाता है। जो बढ़कर 105 डिग्री तक हो जाता है।


कैसे पता चलता है कि आपको कौन सा बुखार है  

अगर बुखार दो से तीन घंटे में आराम करने से उतर जाये, तो बुखार सामान्य होता है। आमतौर पर साधारण बुखार का पता पहली खुराक में उतरने पर ही लग जाता है। लेकिन असाधारण बुखार जल्दी उतरता नहीं और इसका पता ब्‍लड टेस्‍ट के माध्यम से किया जाता है। अगर ब्‍लड में डेंगू वायरस हो तो तुरंत उपचार दिया जाना चाहिये।


दोनों के खतरे में अंतर  

जहां एक ओर साधारण बुखार में कई बार पेट में इंफेक्‍शन होने पर उल्‍टी-दस्‍त शुरू होने से डीहाईड्रेशन का खतरा बढ़ जाता है। और बुखार के बढने पर मस्त‍िष्क कोशिकाएं क्षतिग्रस्त हो जाती हैं, जिससे मरीज का ब्रेन डेड हो जाता। ऐसे में व्यक्त‍ि की कोमा जैसी हालत हो जाती है। लेकिन दूसरी तरफ डेंगू बुखार में प्‍लेटलेट्स के कम होने का खतरा कई गुना बढ़ जाता है। हालांकि किसी भी तरह के बुखार में प्लेटलेट्स कम होते हैं लेकिन डेंगू बुखार होने की स्थिति में प्‍लेटलेट्स की संख्‍या बहुत तेजी से गिरने लगती है। डेंगू बुखार का उपचार सही समय पर न करवाने पर प्लेटलेट काउंट इतने ज्यादा गिर जाते हैं, कि प्रतिरक्षा प्रणाली पूरी तरह ध्वस्त हो जाती है।

इन सब चीजों को जानने के बाद आप आसानी से साधारण बुखार और डेंगू बुखार के अंतर को समझ सकते हैं।


इस लेख से संबंधित किसी प्रकार के सवाल या सुझाव के लिए आप यहां पोस्‍ट/कमेंट कर सकते हैं।

Image Source : Getty
Read More Articles on Dengue Fever in Hindi

Write a Review Feedback
Is it Helpful Article?YES74 Votes 13641 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर