जानें बादाम से कैसे कम होती है माइग्रेन की समस्‍या

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Jun 29, 2015
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • तनाव और भागदौड़ भरी जिंदगी के कारण होता है माइग्रेन।
  • माइग्रेन मूल रूप से न्यूरोलॉजिकल समस्या मानी जाती है।
  • बादाम मे मौजूद प्रोटीन और मैग्नीशियम देते है आराम।
  • योग और ध्यान-व्यायाम से मिलता है माइग्रेन से राहत।

माइग्रेन या आधा सिरदर्द आजकल की अव्यवस्थित जिंदगी की देन है। जिसमें हम अपने खानपान पर नियमित ध्यान नहीं दे पाते हैं। सबसे बड़ा कारण है भागदौड़ की जिंदगी। जो तनाव से तो भरपूर है पर उससे मुक्त होने के लिए हम कोई उपाय नहीं करते। बस यही सारी वजहें धीरे-धीरे माइग्रेन के रुप में बदलने लगती हैं। जैसे ही आप सामान्य स्थिति से एकदम तनाव भरे माहौल में पहुंचते हैं तो सबसे पहले आपका सिर दर्द बढ़ता है।माइग्रेन को आम बोलचाल की भाषा में अधकपारी भी कहते हैं।
Migraine in Hindi

कारण और लक्षण

यह रोग व्यक्ति को दूसरे रोगों के फलस्वरूप हो जाता है जैसे- नजला, जुकाम, शरीर के अन्य अंग रोग ग्रस्त होना, पुरानी कब्ज इत्यादि| इसके आलावा स्त्रियों में यह रोग मासिकधर्म में गड़बड़ी के कारण हो सकता है| इसके अलावा आंखों में दृष्टिदोष की वजह से भी आधे सिर में दर्द हो सकता है। माइग्रेन मूल रूप से तो न्यूरोलॉजिकल समस्या है। इसमें रह-रह कर सिर में एक तरफ बहुत ही चुभन भरा दर्द होता है। ये कुछ घंटों से लेकर तीन दिन तक बना रहता है। इसमें सिरदर्द के साथ-साथ गैस्टिक, जी मिचलाने, उल्टी जैसी समस्याएं भी हो सकती हैं।। पर्याप्त नींद न लेना, भूखे पेट रहना और पर्याप्त मात्रा में पानी न पीना जैसे कुछ छोटे-छोटे कारणों से भी  माइग्रेन की शिकायत हो सकती है। एलर्जी के कारण भी माइग्रेन हो सकता है और अलग-अलग लोगों में एलर्जी के अलग-अलग कारण हो सकते हैं। कुछ लोगों के लिए खाने-पीने की चीजें भी एलर्जी का कारण बन जाती हैं।
Migraine in Hindi

माइग्रेन मे लाभदायक है बादाम

माइग्रेन के रोगियों के लिए बादाम बहुत फायदेमंद होती है। रोजाना 10-12 नग बादाम का सेवन लाभकारी माना जाता है। बादाम दिमाग से संबंधित रोगों को जड़ से खत्म करता है।बादाम प्रोटीन, मैग्निशियम, पोटैशियम, जिंक, आयरन और फाइबर का भी अच्छा सोर्स है। मैग्नीशियम प्रभावी ढंग से विभिन्न माइग्रेन सक्रियताओं का मुकाबला कर सकता है क्योंकि यह रक्त शर्करा और रक्तचाप के स्तर को नियंत्रित करता है। अपने आहार में 500 मिलीग्राम मैग्नीशियम की खुराक माइग्रेन के दौरों का प्रभावी ढंग से इलाज करने में मदद कर सकती है। 20 ग्राम कच्चे बादाम में हाई क्वालिटी वाला प्रोटीन होता है, जोकि आवश्यक अमीनो एसिड्स में से तीसरा जरूरी एमीनो एसिड है। बादाम तेल से सिर की मालिश करने पर भी आराम मिलता है।
वे लोग जिनके ब्लड मे पित्त अधिक हो उन्हें बादाम नहीं खाना चाहिए।

 

माइग्रेन की अचूक दवा है योग और ध्यान। अगर योग नहीं कर सकते हैं तो व्यायाम करें। इससे आपका तनाव कम होगा। और तनाव कम होने से आपका डिप्रेशन दूर होगा।

 

Image Source -Getty Images

Read More Article on Mental Health in Hindi

Write a Review Feedback
Is it Helpful Article?YES119 Votes 12076 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर