गर्भावस्‍था में बार-बार पेशाब आने और अधिक प्‍यास लगने का इलाज

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Feb 18, 2016
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • बार-बार पेशाब करने की इच्छा होना गर्भावस्था का सामान्य लक्षण।
  • श्रोणि क्षेत्र में रक्त प्रवाह बढ़ने से मूत्राशय अधिक सक्रिय हो जाता है।
  • गर्भावस्था के दौरान अधिक पेशाब जाने से अधिक प्‍यास भी लगती है।
  • पेशाब जाने पर ठीक से पेशाब करें और ब्लैडर को पूरी तरह खाली करें।

बार-बार पेशाब करने की इच्छा होना गर्भावस्था का सबसे सामान्य लक्षण है। आमतौर पर गर्भाधान के एक हफ्ते बाद यह लक्षण दिखाई देते हैं। ऐसा दरअसल गर्भाधान के दौरान जब डिम्ब और शुक्राणु के मिलने पर अंडे के निषेचित होने से होता है। ऐसा में अंडा खुद को गर्भाशय की दीवार पर प्रत्यारोपित करता है, जिससे एक एचसीजी (ह्यूमन कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन) नामक प्रेग्नेंसी हार्मोन स्त्रावित होता है। यह हार्मोन शरीर व श्रोणि क्षेत्र में रक्त के प्रवाह को बढ़ा देता है। श्रोणि क्षेत्र में रक्त प्रवाह बढ़ने से मूत्राशय अधिक सक्रिय हो जाता है और बार-बार मूत्र त्याग करने की इच्छा होती है। वहीं अधिक पेशाब जाने से अधिक प्‍यास भी लगती है। ये लक्षण आपको पूरी गर्भावस्था के दौरान रह सकते हैं। हालांकि इनसे निपटने के लिये आप निम्न उपाय कर सकती हैं। -

बार-बार पेशाब आने की समस्या से निपटने के लिये

 

  • जितनी बार पेशाब आप, पेशाब करें, क्योंकि पेशाब को रोक कर रखने की स्थिति में आपका ब्लैडर पूरी तरह खाली नहीं हो पाता है, जिसके कारण मूत्र मार्ग में संक्रमण या UTIs होने की संभावना अधिक होती है।

 

गर्भावस्‍था में

 

  • हर बार पेशाब जाने पर ठीक से पेशाब करें और ब्लैडर को पूरी तरह खाली करें। ब्लैडर को पूरी तरह खाली करने के लिये पेशाब करने के तरीके के बारे में आप अपने डॉक्टर से सलाह ले सकती हैं।
  • रात को सोने से पहले बहुत ज्यादा पानी पीने से बचें। इससे आपको रात में बार-बार पेशान जाने से बचने में आसानी हो सकेगा। लेकिन इसके ये मतलब नहीं कि हाइड्रेट रहने के लिये आप उपयुक्त पानी व अन्य तरल न लें। आपके लिये खुद को हाइड्रेट रखना भी बेहद जरूरी है।
  • गर्भवति महिलाओं में मूत्र रिसाव भी हो सकता है। पेंटी लाइनर्स की मदद से कपड़ों को गीला होने से बचाया जा सकता है। इसके अलावा, कीगल एक्सरसाइज करने से पेल्विक एरिया की मांसपेशियों को मजबूती मिलती है, और मूत्र असंयम से बचाव होता है।

 

अधिक प्यास लगने की समस्या से निपटने के लिये

अधिक प्यास लगना शरीर का संकेत है कि आपको अधिक तरल पदार्थ की जरूरत है। क्योंकि आप अधिक बार पेशाब जा रही हैं और आपके गुर्दे और अधिक कुशलता से मूत्र उत्पादन कर रहे हैं, तरल की कमी को पूरा करने के लिये आपको और तरल पीने की आवश्यकता है। गर्भावस्था के दौरान खून की मात्रा 40 प्रतिशत तक बढ़ जाती है। ऐसे में एमनियोटिक थैली को अधिक तरल की आवश्यकता होती है।

इसलिये दिन में कम से कम 2 से 3 लीटर पानी पियें। सब्जियों का रस एक हेल्दी विकल्प है, और फलों के रस से भी अधिक पौष्टिक होता हैष कैफीन लेने से बचें, क्योंकि यह एक मूत्रवर्धक है। अधिक तरल वाले फल खाएं, जैसे तरबूज, खरबूज़।


Image Source - Getty

Read More Articles On Pregnancy in Hindi.

Write a Review
Is it Helpful Article?YES39 Votes 6777 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर