घरेलू उपचार से अर्थराइटिस का इलाज

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Jan 09, 2013
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • अर्थराइटिस का दर्द होता है बेहद पीड़ादायक।
  • अर्थराइटिस के दर्द के कारण हो सकता है बुखार। 
  • मूली, गाज़र, मेथी, खीरा आदि का सेवन होता है लाभदायक।
  • शरीर में पानी की मात्रा संतुलित रखना भा होता है जरूरी।

अर्थराइटिस का दर्द इतना तेज होता है कि व्यक्ति को न केवल चलने–फिरने बल्कि घुटनों को मोड़ने में भी बहुत परेशानी होती है। घुटनों में दर्द होने के साथ–साथ दर्द के स्थान पर सूजन भी आ जाती है। इस दर्द से राहत दिलाने में आपका सबसे बड़ा हमदर्द होता है आहार और घरेलू नुस्खे। आइए जाने कैसे अर्थराइटिस में घरेलू नुस्खे सबसे सुरक्षित उपचार हैं।

gharelu upchar se arthritis ki chikitsa

 

कभी–कभी दर्द के कारण बुखार भी हो जाता है और यहां तक कि जोड़ों का आकार भी टेढ़ा हो जाता है। कुछ लोग तो अस्पतालों के चक्कर काटकाट कर इतने थक जाते हैं कि वो इस बीमारी के साथ जीने को स्वीकार कर लेते हैं।

ठंड के मौसम में गठिया के मरीज़ों को अधिक परेशानी होती है इसलिए उन्हें ठंड से बचने का हर संभव प्रयास करना चाहिए। इस बीमारी में चिकित्सक आहार पर विशेष ध्यान देने की सलाह देते हैं क्योंकि आप जो भी खाते हैं वो सीधा आपके स्वास्‍थ्‍य को प्रभावित करता है। अर्थराइटिस से बचाव के लिए आपके आहार में ग्लूयकोसामीन और कांड्रायटिन सल्फेवट होना चाहिए। ग्लूसकोसामीन और कांड्रायटिन सल्फेआट हड्डियों और कार्टिलेज के लिए अच्छें होते हैं।



अर्थराइटिस में हमदर्द आहार:



•    अपने आहार में 25 प्रतिशत फल व सब्जि़यों को शामिल करें और ध्यान रखें कि आपको कब्ज़ ना हो। 

•    फलों में सन्तरे, मौसमी, केले, सेब, नाश्पाती, नारियल, तरबूज़ और खरबूज़ आपके लिए अच्छे हो सकते हैं। 

•    सब्जि़यों में मूली, गाज़र, मेथी, खीरा, ककड़ी आपके आदि लें।

•    चोकरयुक्त आटे का प्रयोग करें क्योंकि इसमें फाइबर अधिक मात्रा में होता है । 



दर्द से राहत पहुंचाने वाले घरेलू नुस्खे:


•    दर्द के समय आप सन बाथ ले सकते हैं।

•    5 से 10 ग्राम मेथी के दानों का चूर्ण बनाकर सुबह पानी के साथ लें।

•    4 से 5 लहसुन की कलियों को एक पाव दूध में डालकर उबालकर पीयें।

•    लहसुन के रस को कपूर में मिलाकर मालिश करने से भी दर्द से राहत मिलती है।

•    लाल तेल से मालिश करना भी आरामदायक होता है।

•    गर्म दूध में हल्दीर मिलाकर दिन में दो से तीन बार पीयें।

•    सोने से पहले दर्द से प्रभावित क्षेत्र पर गर्म सिरके से मालिश करें।

•    शरीर में पानी की मात्रा संतुलित रखें।  

•    जोड़ों के दर्द से बचने के लिए सबसे अच्छा। योगासन है गोमुखआसन।

 

अर्थराइटिस जैसी बीमारी लम्बे समय तक रहती है इसलिए मरीज़ को दवाओं से ज्यादा बचाव और सावधानियों पर ध्यान देना चाहिए। आज फीजि़योथेरेपी से लेकर नैचुरोपैथी तक में अर्थराइटिस के बहुत से समाधान निकाले गये हैं, लेकिन घरेलू नुस्खे और सावधानियां सबसे सुरक्षित उपचार हैं।

 

 

Read More Articles on Home Remadies For Disease in Hindi.

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES443 Votes 48092 Views 18 Comments
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर