होली में दमा के मरी़ज रखें ख्याल

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Mar 06, 2012
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Dama ke mareez rakhe khaas khayalहोली के मौके पर आप जी भर कर मस्ती करते हैं। लेकिन कई बार इस मस्ती में आप अपनी सेहत का ध्यान नहीं रखते हैं, जो आपके लिए हानिकारक है। होली में दमा के मरीजो को खास ख्याल की जरूरत होती है। उनके लिए रंगों से दूर रहना ही ठीक होता है। साथ उन्हें खाने-पीने में भी सावधानी बरतनी  चाहिए। उन्हें ठंडी चीजों का सेवन नहीं करना चाहिए। थोड़ी सी भी असावधानी आपकी सेहत पर भारी पड़ सकती है। आईए जानें दमा के मरीज होली कैसे मनाएं-

सूखे रंगों से होली नहीं खेले

अस्थमा के मरीजों को सूखे रंगों से होली नहीं खेलनी चाहिए। यह उनके लिए काफी नुकसानदेह है। सूखे रंगों के कण रोगी के शरीर के अंदर जा सकते हैं जिससे अस्थमा अटैक आने का खतरा हो सकता है। इसलिए आप थोड़े से गुलाल का इस्तेमाल तिलक लगाने के लिए कर सकते हैं।

चेहरे पर रंग नहीं लगाएं

होली पर लोग इस कदर रंग जाते हैं कि उनको पहचानना मुश्किल हो जाता है। लेकिन अस्थमा के मरीजों को चेहरे पर रंग लगवाने से बचना चाहिए। इससे रंगों के मुंह के अंदर जाने की ज्यादा संभावना होती है।

ठंडई से दूर रहें

होली में लोग जी भर कर ठंडई का मजा लेते हैं लेकिन दमा के मरीजों को ठंडई का सेवन नहीं करना चाहिए। यह आपकी सेहत के लिए सही नहीं है। इसके सेवन से आपको सांस लेने में समस्या हो सकती है। ठंडई में दूध, घी, भांग आदि मिला होता है जो नुकसानदेह है अस्थमा के मरीजों के लिए।

भीड़भाड़ से दूर रहें

होली में अक्सर लोग ग्रुप बनाकर होली खेलते हैं जिसमें छीना झपटी व जबरदस्ती होने की संभावना होती है। दमा के मरीजों को ऐसी जगह जाने से बचना चाहिए। भीड़ में रंग आपके मुंह के अदंर जा सकता है। जिससे आपको परेशानी हो सकती है। इसलिए कम लोगों के साथ आराम से होली खेलें।

हर्बल रंगों का प्रयोग करें

होली खेलने के लिए हर्बल रंगो का इस्तेमाल करें। बाजार में मिलने वाले रंगों में रसायनिक पदार्थ काफी मात्रा में होते हैं, जो शरीर को नुकसान पहुंचा सकते हैं। आप घर पर भी हर्बल रंग बना सकते है और अपने दोस्तों को वही रंग दें होली खेलने के लिए।

ओवरईटिंग से बचें

अस्थमा के मरीजों को ओवरईटिंग से बचना चाहिए। होली में घर पर कई प्रकार की  मिठाईयां व व्यंजन बनते हैं , जिससे आप खुद पर कंट्रोल नहीं कर पाते हैं और ओवरईटिंग का शिकार हो जाते हैं। आप उतना ही खाएं जितना आपका शरीर इजाजत दें।

Write a Review
Is it Helpful Article?YES1 Vote 10849 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर