युवाओं में हाई बीपी का खतरा, कारण और उसके निदान

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Mar 05, 2014
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • युवाओं में भी फैल रहा है उच्‍च रक्‍तचाप।
  • मोटापा और दिनचर्या है हाई बीपी है कारण।
  • करें डॉक्‍टर की सुझायी दवाओं का सेवन।
  • पारिवारिक इतिहास के कारण भी बढ़ जाता है खतरा।

युवाओं का दिल अधिक जोर से धड़कता है इसलिए उनमें डास्‍टोलिक (निचला रक्‍तचाप) अधिक होता है। वहीं, बुजुर्गों में सिस्‍टोलिक (ऊपरी रक्‍तचाप) अधिक होता है। ऐसा इस उम्र में धमनियों के सख्‍त होने के कारण होता है।

पहले रक्‍तचाप को केवल बुजुर्गों की बीमारी समझा जाता था। और ऐसा माना जाता था कि युवाओं को यह रोग नहीं हो सकता। लेकिन, आज तस्‍वीर ऐसी नहीं है। मोटापे और बदली हुई जीवनशैली के कारण युवा भी उच्‍च रक्‍तचाप के शिकार हो रहे हैं।

कैसे करें रक्‍तचाप को नियंत्रित

युवाओं को रक्‍तचाप पर काबू करने के लिए अपने जीने के अंदाज को बदलना चाहिए। इसके साथ ही यदि आवश्‍यकता हो तो दवाओं का भी सेवन करना चाहिए-

high blood pressure in youngsters

वजन कम करें

अगर आप मोटे हैं अथवा आपका वजन सामान्‍य से अधिक है, तो उसे घटाने का प्रयास कीजिए। अपने कद के हिसाब से ही शरीर का भार रखिए। इसके लिए आप किसी विशेषज्ञ से मदद ले सकते हैं।


आहार योजना

आप अपने आहार में ऐसे खाद्य पदार्थों को शामिल कीजिए जो पोषक तत्‍वों से भरपूर हों। आपको फल, सब्जियां और लो-फैट दुग्‍ध उत्‍पादों का सेवन करना चाहिए। इसके साथ ही अधिक वसायुक्‍त आहार से भी आपको दूर रहना चाहिए।

नमक करें कम

यदि आप रक्‍तचाप को काबू करना चाहते हैं अथवा उच्‍च रक्‍तचाप से बचना चाहते हैं, तो बहुत जरूरी है कि आप नमक का सेवन कम करें। खाने में नमक करना भी किसी दवा की भांति ही असर दिखाता है।

नियमित व्‍यायाम दिलाये आराम

आपको नियमित रूप से व्‍यायाम करना चाहिए। इसके साथ ही अगर आप चाहें तो किसी शारीरिक गतिविध में जरूर संलग्‍न रहें। रोजाना कम से कम तीस मिनट का व्‍यायाम करना आपके रक्‍तचाप को काबू में रखने का काम करता है। इसके अलावा इससे आपकी संपूर्ण सेहत पर भी सकारात्‍मक प्रभाव पड़ता है।

अल्‍कोहल का सेवन करें कम

यदि आप अल्‍कोहल का सेवन बंद कर सकें तो बहुत अच्‍छा, नहीं तो कम से कम इसकी मात्रा पर जरूर काबू रखें। रोजाना दो पैग से ज्‍यादा शराब का सेवन पुरुषों के लिए अच्‍छा नहीं, वहीं महिलाओं को एक पैग से ज्‍यादा शराब का सेवन नहीं करना चाहिए।

यदि जीवनशैली में परिवर्तन करने के बाद भी आपका रक्‍तचाप नियंत्रित न हो, तो समय है कि आप दवाओं का सहारा लें। इसके लिए आप समय रहते डॉक्‍टर से मिलें। बाजार में उच्‍च रक्‍तचाप को नियंत्रित करने के लिए कई दवायें मौजूद हैं। हां, दवाओं के साथ-साथ जीवनशैली के सकारात्‍मक बदलावों को अपनाये रखें।

युवा अगर इलाज न करवायें अथवा अपने रक्‍तचाप को काबू में न रखें, तो भविष्‍य में उन्‍हें कई प्रकार की बीमारियां हो सकती हैं। इसलिए उन्‍हें इसी उम्र में अपने रक्‍तचाप को काबू करने के प्रयास करने चाहिए और सकारात्‍मक जीवनशैली अपनानी चाहिए।

इन बातों का भी रखें ध्‍यान

उच्‍च रक्‍तचाप के कारण फेफड़ों की बीमारी, स्‍ट्रोक अथवा हृदयाघात जैसी गंभीर स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍यायें हो सकती हैं। कुछ हालिया शोध इस बात की तस्‍दीक करते हैं कि उच्‍च रक्‍तचाप के कारण स्‍तंभन दोष होने का खतरा ढाई गुना तक बढ़ जाता है।

युवाओं में उच्‍च रक्‍तचाप के जोखिम कारक

जानकार मानते हैं कि युवाओं में उच्‍च रक्‍तचाप का खतरा काफी तेजी से बढ़ रहा है। उच्‍च रक्‍तचाप किसी भी उम्र में हो यह हमेशा ही खतरनाक होता है। ऐसे में कुछ ऐसे जोखिम कारकों के बारे में जानना जरूरी है जो आपके ब्‍लड प्रेशर को बढ़ा सकते हैं।

मोटापा अथवा अधिक वजन

 

मोटापा और अधिक वजन हाईबीपी का एक महत्‍वपूर्ण कारक है। इसके चलते आपके दिल पर अधिक जोर पड़ता है। इसलिए यदि आप उच्‍च रक्‍तचाप के खतरे को कम करना चाहते हैं तो अपने शरीर पर जमा अतिरिक्‍त चर्बी को कम कीजिए।


मेटाबॉलिक सिंड्रोम

यह कई जोखिम कारकों का मेल है, जिनमें कमर और छाती पर अधिक चबी, उच्‍च कोलेस्‍ट्रॉल और इनसुलिन प्रतिरोधकता शामिल होते हैं) ये जोखिम कारक, उच्‍च रक्‍तचाप, दिल की बीमारियां और डायबिटीज के खतरे को बढ़ा देते हैं।

 

high blood pressure

पारिवारिक इतिहास

यदि आपके परिवार अथवा नजदीकी संबंधी में से किसी को उच्‍च रक्‍तचाप की शिकायत है, तो आपको भी यह बीमारी होने का खतरा होता है। ऐसे में आपको अतिरिक्‍त सावधानी बरतने की जरूरत होती है।

तनाव प्रबंधन

तनाव और चिंता रक्‍तचाप बढ़ाने में महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। आजकल युवाओं में तनाव आम हो गया है। काम और‍ निजी जीवन की भागमभाग के चलते उनका रक्‍तचाप सामान्‍य से अधिक हो जाता है। उन्‍हें चाहिए कि वे इसे काबू करने का प्रयास करें। योग, ध्‍यान और प्राणायाम आदि के जरिये वे तनाव को कम कर उच्‍च रक्‍तचाप के खतरे को भी घटा सकते हैं।


डॉक्‍टरी सलाह को नजरअंदाज न करें

यदि आपके डॉक्‍टर के अनुसार आपको उच्‍च रक्‍चाप है, तो किसी भी सूरत में उस सलाह को नजरअंदाज न करें। यदि उच्‍च रक्‍तचाप का इलाज न करवाया जाए, तो आपके स्‍वास्‍थ्‍य को कई खतरे हो सकते हैं। आजकल बाजार में उच्‍च रक्‍तचाप की प्रभावकारी दवायें मौजूद हैं। अपने डॉक्‍टर की सलाह का पालन करें और उस हिसाब से अपने जीवन में जरूरी बदलाव लाएं।

 

Image Courtesy-GettyImages.in

 

Read More Articles on High Blood Pressure in Hindi

Write a Review Feedback
Is it Helpful Article?YES32 Votes 6149 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर