हाई ब्‍लड प्रेशर पर काबू पाने वाले प्रभावशाली घरेलू उपाय

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Nov 20, 2012
Comment

Subscribe for daily wellness inspiration

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • आज हाई ब्‍लड प्रेशर सामान्‍य समस्‍या बन गई है।
  • रक्त का गाढा होना हाई बीपी का प्रमुख कारण है।
  • प्याज के नियमित सेवन से ब्‍ल्‍ड प्रेशर नियंत्रित होता है।
  • नींबू से रक्‍त वाहिनियां कोमल व लचकदार हो जाती हैं।

अनियमित दिनचर्या और आधुनिक जीवन शैली के चलते आज हाई ब्‍लड प्रेशर सामान्‍य समस्‍या बन गई है। ग्रामीण इलाकों की तुलना में शहरी लोग अधिक तेजी से इसके शिकार हो रहे हैं।

हाई ब्लड प्रेशर में रोगी को चक्कर आने और सिर घूमने की समस्‍या होती है। रोगी का किसी काम में मन नहीं लगता। उसमें शारीरिक काम करने की क्षमता नहीं रहती और रोगी अनिद्रा का शिकार रहता है। लेकिन घबराइए नहीं क्‍योंकि घरेलू उपचार के सावधानीपूर्वक इस्तेमाल से बिना दवाई लिए इस भयंकर बीमारी पर पूर्णत: नियंत्रण पाया जा सकता है। जरूरत है संयमपूर्वक नियम पालन की। आइए जानें हाई ब्लड प्रेशर के लिए घरेलू उपाय।

high blood pressure

 


नमक का कम प्रयोग

नमक ब्लड प्रेशर बढाने वाला सबसे प्रमुख कारक है। इसलिए यह बात सबसे महत्‍वपूर्ण है कि हाई बी पी वालों को नमक का प्रयोग कम कर देना चाहिए।

 

लहसुन

उच्च रक्तचाप का एक प्रमुख कारण होता है रक्त का गाढा होना। रक्त गाढा होने से उसका प्रवाह धीमा हो जाता है। इससे धमनियों और शिराओं में दवाब बढ जाता है। लहसुन ब्लड प्रेशर ठीक करने में बहुत मददगार घरेलू उपाय है। यह रक्त का थक्का नहीं जमने देती है। धमनी की कठोरता में लाभदायक है। रक्त में ज्यादा कोलेस्ट्रॉल होने की स्थिति का समाधान करती है।


प्याज

प्याज के नियमित सेवन से ब्‍ल्‍ड प्रेशर नियंत्रण में रहता है और अगर आपका ब्‍लड प्रेशर बढ़ गया है तो उसे तुरंत करने के लिए प्‍याज का सेवन करें। इसके सेवन से शरीर से कोलेस्ट्रॉल की मात्रा भी नियंत्रित होती है। इसमें क्योरसेटिन पाया जाता है, यह एक ऐसा ऑक्सीडेंट फ्लेवेनॉल है, जो दिल को बीमारियों से बचाता है। प्‍याज को खाने के साथ और सलाद के साथ भी प्रयोग कर सकते हैं।

ginger in hindi

अदरक

प्याज और लहसुन की तरह अदरक भी काफी फायदेमंद होता है। बुरा कोलेस्ट्रॉल धमनियों की दीवारों पर प्लेक यानी कि कैल्‍शियम युक्त मैल पैदा करता है जिससे रक्त के प्रवाह में अवरोध खड़ा हो जाता है और नतीजा उच्च रक्तचाप के रूप में सामने आता है। अदरक में बहुत हीं ताकतवर एंटी-ऑक्सीडेटस होते हैं जो कि बुरे कोलेस्ट्रॉल को नीचे लाने में काफी असरदार होते हैं। अदरक से आपके रक्तसंचार में भी सुधार होता है, धमनियों के आसपास की मांसपेशियों को भी आराम मिलता है जिससे कि उच्च रक्तचाप नीचे आ जाता है।

नींबू का रस

नींबू के रस से रक्‍त वाहिनियां कोमल व लचकदार हो जाती हैं। इससे रक्‍तचाप सामान्‍य बना रहता है। यह हृदयाघात के खतरे को भी कम करता है। एक-एक चम्‍मच शहद, अदरक और नींबू के रस को गुनगुने पानी में मिलाकर सप्‍ताह में दो-तीन बार पीना चाहिए। यह ब्‍लड प्रेशर के लिए बहुत अच्‍छा टॉनिक है। इसके अलावा बढे हुए ब्लड प्रेशर को जल्दी कंट्रोल करने के लिये आधा गिलास पानी में आधा नींबू निचोड़कर 2-2 घंटे के अंतर से पीते रहें। यह बहुत ही लाभकारी उपचार है।

तिल

तिल का सेवन करने से रक्‍तचाप सामान्‍य हो जाता है। तिल का तेल और चावल की भूसी को एक साथ खाने से ब्लड प्रेशर नियंत्रण में रहता है। यह हाइपरटेंशन के मरीजों के लिए भी लाभदायक होता है। माना जाता है कि यह रक्‍तचाप कम करने वाली अन्य औषधियों से ज्यादा बेहतर है। रक्‍तचाप बढ़ने पर इसका सेवन कीजिए।

तरबूज के बीज और खसखस

तरबूज के बीज को छीलकर उसके बीच की गिरी और खसखस दोनों को बराबर मात्रा में मिलाकर पीस लें। रोज सुबह-शाम एक चम्मच खाली पेट पानी के साथ लें। एक महीने तक इसका सेवन करें। यह हाई ब्‍लड प्रेशर के रोगियों के लिए बहुत फायदेमंद होता है।

flaxseed in hindi


अलसी

अलसी में अल्फा लिनोनेलिक एसिड भरपूर मात्रा में पाया जाता है। यह एक प्रकार का ओमेगा 3 फैटी एसिड है। कई शोधों में भी पता चला है कि जिन लोगों को हाइपरटेंशन की शिकायत होती है, उन्हें अपने आहार में अलसी का इस्तेमाल शुरू कर देना चाहिए। इस औषधि में कोलेस्‍ट्रॉल की मात्रा भी कम होती है, और इसके सेवन से रक्‍तचाप भी कम हो जाता है।


इसके अलावा हाई ब्‍लड प्रेशर को कम करने के लिए आप अपनी दिनचर्या में एक बडा चम्मच आंवले का रस और इतना ही शहद मिलाकर सुबह-शाम लेने ले सकते है।
साथ ही जब ब्लड प्रेशर बढा हुआ हो तो आधा गिलास मामूली गर्म पानी में काली मिर्च पाउडर एक चम्मच घोलकर 2-2 घंटे के अंतराल से पीते रहें। ब्लड प्रेशर सही करने का बढिया उपचार है। इसके अलावा पांच तुलसी के पत्ते तथा दो नीम की पत्तियों को पीसकर 20 ग्राम पानी में घोलकर खाली पेट सुबह पिएं। 15 दिन में लाभ नजर आने लगेगा

Image Courtesy : Getty Images

 

Read More Article on Home-Remedies in hindi.

Write Comment Read ReviewDisclaimer Feedback
Is it Helpful Article?YES847 Votes 35723 Views 2 Comments
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर