रजोनिवृत्ती के बाद दिल की देखभाल

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Dec 27, 2011
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

अधिकतर महिलाओं के लिए रजोनिवृत्ति सबसे डरावनी और तनावपूर्ण हो सकती हैं, ज्यादातर दिल के लिए। एक बार मासिक धर्म चक्र बंद होने के बाद, महिलाओं का दिल असुरक्षित और हार्मोनल परिवर्तन की वजह से कमजोर हो जाता है। रजोनिवृत्ति से पहले महिलाओं को कथित तौर पर पुरुषों की तुलना में हृदय रोग की संभावना कम होती है। तो, यहाँ रजोनिवृत्ती के बाद की महिलाओं के लिए दिल की देखभाल के लिए कुछ सुझाव दिए गए हैं।

एक औरत रजोनिवृत्ती की स्थिती में पहुंचने के बाद धमनियों को अधिक उच्च जोखिम होता हैं, क्योंकि उनमें अवरोध की अधिकतम संभावना उत्पन्न होती हैं। यह दिल की संकेतक में इलेक्ट्रीकल उपद्रव की वजह से होता है। इसे चिकित्सकीय भाषा में अर्थाथिमिआस के रूप में जाना जाता है। इसे रोकने और दिल का अच्छा ख्याल रखने के लिए, महिलाओं को नियमित जाँच करानी चाहीए और दिल की स्थिती और उसके साथ जुड़े जोखिम कारकों का विश्लेषण कराना चाहिए।

आपके वार्षिक चेकलिस्ट में निम्नलिखित शामिल होना चाहिए:

  • रक्त दबाव।
  • रक्त शर्करा।
  • ट्राइग्लिसराइड।
  • वजन।
  • लिपिड प्रोफ़ाइल।
  • थायराइड।
  • हिमोग्लोबिन।


यह सारी जाँच किसी भी आसन्न जोखिम कारकों को आसानी से खोज निकालेगी और इलाज करना आसान होगा। इन परीक्षणों को सालाना या द्वि वार्षिक उपक्रम में कराना, आपके स्वास्थ्य की स्थिति पर निर्भर करेगा, और आपके दिल को सुरक्षित रखेगा। जो महिलाएं धूम्रपान और शराब पिना नियमित आधार पर करती हैं, उनका दिल कमजोर होने की अधिक संभावना होती है, जिससे धमनियों की रुकावट और जिगर की समस्याओं सहित हृदय रोग का खतरा अधिक बढ़ता हैं। क्योकि इस दौरान, एक महिला के शरीर में हार्मोनल उतार - चढ़ाव अधिक होते हैं, तनाव उसे अधिक प्रभावित करने की संभावना है। इसलिए, एक महिला को दिल को खुश रखने के लिए धूम्रपान और शराब पीने की मात्रा संयमित रखनी चाहिए या बिल्कुल छोड़ देनी चाहिए।

दिल का ख्याल रखने का एक और तरीका है व्यायाम करना। एरोबिक्स, फिटनेस सत्र या अपने आवासीय क्षेत्र के पास स्थित योग कक्षाओं के साथ जुड़ें और इसके द्वारा दिल की स्थिती में सुधार करे। एक स्वस्थ शरीर एक स्वस्थ दिल का प्रतीक हैं, इसके विरुद्ध खराब जीवन शैली है, जो कि रजोनिवृत्ति के बाद महिलाऐ सामान्यतः अपनाती है। यह सच है कि महिलाओं को रजोनिवृत्ती के बाद ऊर्जा में काफी नुकसान से गुजरना पडता हैं, लेकिन अगर वे अपनी क्षमता के निर्माण और उसे बनाए रखने की दिशा में लगातार काम करे तो दिल वास्तव में एक खुश हो जाएगा। इसके अलावा, अगर ऐसे व्यायाम संभव नहीं है तो शारीरिक रूप से सक्रिय रहे।

जिन महिलाओं के दिल की हालत कमजोर हैं और जिनको लंबे समय के दौरान उससे कुछ समस्याऐ हो सकती हैं, उनको कई डॉक्टर एस्पिरिन की 81 मिलीग्राम की एक न्यूनतम खुराक के सेवन की सलाह देते हैं। हालांकि, महिलाओं को एस्पिरिन नहीं लेनी चाहिए जब तक डॉक्टर यह निर्धारित नही करते हैं। रजोनिवृत्त महिलाओं के लिए सिफारिश की गयी उच्चतम खुराक 325 मिलीग्राम है, जो दिल को चालु और सुरक्षित रखती है। यह दवा, दवा की दुकानों में आसानी से उपलब्ध है और कई वर्षों तक किसी भी दुष्प्रभाव के बिना ली जा सकती है।

Write a Review Feedback
Is it Helpful Article?YES4 Votes 13111 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर