स्वस्थ फेफड़ों और मजबूत दिमाग के बीच होता है संबंध

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Aug 14, 2014
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • फेफड़े स्वस्थ हों तो दिमाग़ स्वस्थ व तेज़ बना रहता है।
  • 50 से 85 के बीच की आयु वाले 832 लोगों पर हुआ शोध।
  • धूम्रपान, तम्बाकू और वायु प्रदूषण फेंफड़ों के सबसे बड़े दुष्मन।
  • अनुलोम-विलोम के बाद कपालभाति करने से होता है लाभ।

अगर आपके फेफड़े अच्‍छी तरह काम कर रहे हैं तो आपका मस्तिष्‍क भी बेहतर काम करेगा। एक ताजा शोध में इस बात की ओर इशारा भी किया गया है। इसमें कहा गया है कि यदि स्‍वस्‍थ फेफड़े हों, तो उम्र बढ़ने के साथ-साथ दिमाग की कमजोरी होने की रफ्तार भी धीमी हो जाती है। समस्या को सुलझाने के रूप में इस तरह के मानसिक क्षमताओं को रखने के लिए एक महत्वपूर्ण तरीका हो सकता है। फेफड़ों के स्वास्थ्य में गिरावट, याद्दाश्त में कमजोरी से संबंधित होती है।


दरअसल फेंफड़े हमारे शरीर का महत्वपूर्ण अंग होते हैं। इसके खराब होने से अस्थमा, टीबी, दमा या फेंफड़े से संबंधित अन्य कोई भी गंभीर रोग हो सकता है। और उपरोक्त खबर के अनुसार याद्दाश्त भी। फेंफड़ों के स्वस्थ्य रहने से जहां संपूर्ण शरीर स्वस्थ्य रहता है वहीं यह दिमाग को भी सेहतमंद बनाए रखता है। एक शोध से पता चला है कि फेंफड़ों का स्वास्थ्य का असर दिमाग पर पड़ता है। फेंफड़ों में भरपूर शुद्ध हवा होने से दिमाग में ऑक्सिजन की पूर्ति भी होती रहती है।

 

Healty Lungs in Hindi

 

ये तथ्य लगभग दो दशकों तक मरीजों पर किये गए एक स्वीडिश अध्ययन से सामने आये। समय के साथ यह संज्ञान में आया कि  फेफड़े के कार्य करने की क्षमता कम होने पर ये संज्ञानात्मक नुकसान का कारम बन सकते हैं। इसका विपरीत होता है या नहीं इस बात के कोई तथ्य नहीं है (कि कमजोर दिमाग को फेफड़ों के स्वास्थ्य को प्रभावित करता है या नहीं)।  
 

इस अध्ययन में 50 से 85 के बीच की आयु वाले 832 लोगों को शामिल किया गया। शोधकर्ताओं ने देखा कि एक सेकेंड में एक व्यक्ति फेंफड़ों से कितनी हवा बाहर फैंक सकता है। साथ ही यह भी देखा कि गहरी सांस लेने के बाद छोड़ी हुई हवा की मात्रा क्या थी। इसके साथ-साथ ही शोधकर्ताओं ने इन लोगों के मस्तिष्क के संग्रहीत ज्ञान, स्मृति, और लिखने की क्षमता आदि को भी मापा। परिणामों में ये साफ पता चला कि फेफड़ों में कमजोरी और दिमाग की क्षमता (प्रोब्लम सोल्विंग क्षमता) में संबंध है।

 

Healty Lungs In Hindi

 

क्यों होते हैं फेंफड़े खराब

फेंफड़े आमतौर पर धूम्रपान, तम्बाकू और वायु प्रदूषण के अलावा फंगस, ठंडी हवा, भोजन में कुछ पदार्थ, ठंडे पेय, धुएं, मानसिक तनाव, इत्र और रजोनिवृत्ति जैसे कारणों से रोग ग्रस्त हो सकते हैं। और जब किसी व्यक्ति के नाक, गला, त्वचा आदि पर इसका प्रभाव होता है तो इसे एलर्जी कहा जाता है।

कैसे रखें फेंफड़े को स्वस्थ

फेंफड़ों को स्वस्थ्य और मजबूत बनाए रखने के लिए धूम्रपान से दूर रहना चाहिए, खान-पान का ध्यान रखना चाहिए और अनुलोम-विलोम का अभ्यास करना चाहिए। अनुलोम-विलोम के बाद कपालभाति, भस्त्रिका और कुम्भक प्राणायाम भी करने चाहिए। इससे फेंफड़े स्वस्थ बने रहते हैं और दिमाग भी दुरुस्त रहता है।



Read More Articles On Lung Diseases in Hindi

Write a Review Feedback
Is it Helpful Article?YES14 Votes 5119 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।

संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर