स्वस्थ आदतें जो बचाए स्तन कैंसर से

By  , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग
Feb 04, 2014
Comment

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

Quick Bites

  • स्तन कैंसर के बारे में ज्यादा से ज्यादा जानकारी हासिल करें।
  • शहरी महिलाएं स्तन कैंसर की चपेट में जल्दी आती हैं।
  • एल्कोहल और स्मोकिंग के कारण इसका खतरा दुगना हो जाता है।
  • खाने में हरी सब्जियों और फलों को शामिल करें।

ब्रेस्ट कैंसर का जोखिम उन महिलाओं में ज्यादा होता है जो दोषपूर्ण जीवनशैली जीती हैं। स्वस्थ आहार का सेवन ना करने से शरीर में पौष्टिक तत्वों की कमी हो जाती है जो कि स्तन कैंसर का कारण हो सकते हैं। हर साल हमारे देश में स्तन कैंसर के एक लाख से सवा लाख तक नए केस सामने आ रहे हैं।


ब्रेस्ट कैंसर लाइलाज समस्या नहीं है। अगर महिलाओं के इस समस्या के लक्षण शुरुआती दौर में ही पता लग जाए तो इस समस्या से निजात पाना बहुत आसान हो जाता है। महिलाओं को ब्रेस्ट कैंसर के प्रति शर्माने की जगह इसके बारे में जानकारी हासिल करनी चाहिए जिससे वे स्तन कैंसर के चपेट में आने से बच सकें। अनियमित खान-पान,एल्कोहल और स्मोकिंग की आदतों के कारण शहरी महिलाएं इस समस्या से ज्यादा ग्रस्त हो रही हैं। स्तन कैंसर से बचने के लिए स्वस्थ आदतों को अपनाएं।

breast cancer treatment


स्वयं परीक्षण करें

ध्यान दें कि कहीं आपके स्तनों में किसी प्रकार की गांठ या उसमें दर्द की समस्या तो नहीं है। स्तनों का जरूरत से ज्यादा कठोर होना, स्तनों में बेवजह दर्द होना, निप्पल में से तरल पदार्थ का स्त्राव होना, आकार में परिवर्तन या जलन होने पर डॉक्टर से जरूर संपंर्क करें। हर माह मासिक धर्म के एक सप्ताह के बाद अपने ब्रेस्ट की स्वयं जांच करें। अपनी गाइनेकोलॉजिस्ट से घर में ब्रेस्ट परीक्षण की सही तकनीक सीखें। 20 से 40 साल की उम्र के दौरान हर साल डॉक्टर के पास जाकर एक बार जांच अवश्य कराएं, ताकि ब्रेस्ट कैंसर का पता जल्द चल सके। 40 साल की उम्र के बाद तीन साल में एक बार मैमोग्राम अवश्य कराएं।


एल्कोहल का सेवन ना करें

विशेषज्ञों के अनुसार, अगर आप शराब, बियर या मिक्स्ड ड्रिंक कुछ भी पीती हैं, तो आप ब्रेस्ट कैंसर का शिकार आसानी से बन सकती हैं। अगर अचानक शराब छोड़ना मुश्किल लग रहा है,तो दिन में एक बार ही पिएं और फिर धीरे-धीरे इसकी मात्रा कम कर दें।


वजन कम करें

ब्रेस्ट कैंसर का संबंध मोटापे से भी है। अपनी उम्र और लंबाई के अनुपात में अधिक वजन होने से इस बीमारी की आशंका बढ़ जाती है। अगर आपका वजन मेनोपॉज होने के बाद बढ़ा है, तो समझिए खतरा बढ़ गया है। दरअसल, एडिपोज टिशू, जो मोटापे के लिए भी जिम्मेदार हैं, एस्ट्रोजन का उत्पादन भी करते हैं। शरीर में एस्ट्रोजन की मात्रा ही ब्रेस्ट कैंसर के लिए उत्तरदायी होती है।

healthy food


व्यायाम करें

नियमित व्यायाम करने से वजन भी कम रहता है और ब्रेस्ट कैंसर का खतरा भी कम हो जाता है। हर दिन कम से कम आधे घंटे तक एक्सरसाइज जरूर करें। अगर आपकी आदत व्यायाम करने की नहीं है, तो इसे आज ही लागू करें और लगातार जारी रखें। आप उन व्यायाम को ज्यादा करें, जिनसे वजन कम होता है, जैसे  वॉकिंग, जॉगिंग, एरोबिक्स आदि। इनसे आपकी हड्डियां भी मजबूत होंगी।


सही साइज की ब्रा पहनें

अध्ययन के मुताबिक दस में से आठ महिलाएं ऐसी होती हैं जो गलत ब्रा पहनने के कारण स्तन कैंसर का शिकार होती हैं। गलत ब्रा पहनने से आरामदायक महसूस नहीं करती हैं जिसकी वजह से कंधे, बांह और बैक पेन की समस्य होती है। क्या आप जानती हैं आपके ब्रा का साइज हमेशा बदलता रहता है। जब भी आपका वजन बढ़ता या कम होता है तो ब्रा का साइज भी बदल जाता है। इसलिए ब्रा का साइज करके ही लें।

 

Read More Articles On Women's Health In Hindi

Write a Review
Is it Helpful Article?YES19 Votes 2060 Views 0 Comment
प्रतिक्रिया दें
disclaimer

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।