Health Videos »

इस बरसात मे बीमार हुए बिना यूं लें बारिश का मज़ा

Onlymyhealth Editorial Team, Date:2016-07-13

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

बारिश का मौसम इतना सुहावना होता है कि इसमें भीगने का मन करता है, लेकिन साथ ही बीमारियों का डर भी सताता है। तमाम चीजों के बावजूद बरसात में भीगने से हम खुद को रोक नहीं पाते। अब सवाल यह आता है ऐसे में खुद को बीमार पड़ने से कैसे रोका जा जाये। आइए हम आपको बताते हैं कि बरसात में बीमार पड़े बिना बारिश का मजा लेने के उपाय। हम अकसर पहली बारिश का लुत्फ उठाना चाहते हैं। लेकिन चिकित्सकों के अनुसार बरसात की पहली फुहार प्रदूषित होने के कारण स्वास्थ्य के लिहाज से सही नहीं होती। इससे न सिर्फ स्वास्थ्य बल्कि त्वचा सम्बंधी समस्‍याएं जैसे रैशेज, मुंहासों को कारण भी बनती है। इसलिए इससे बचना चाहिए। साथ ही ज्यादा देर तक भीगे कपड़ों में न रहें। हम जितना अधिक भीगने से बीमार पड़ते हैं, उससे कही ज्यादा भीगे कपड़े में रहने के कारण स्वास्थ्य सम्बंधी समस्याओं से रूबरू होना पड़ता है। बरसात में सबसे ज्यादा हमारे पैरों की अंगुलियां प्रभावित होती हैं और भीगने के कारण पैरों की अंगुलियां ठिठूर जाती हैं। यहां तक कि भीगने की वजह से सफेद तक पड़ जाती है। अगर सही इनकी सफाई न की गई और सूखे कपड़े से न पोछा गया तो इसमें फंगस जैसी बीमारी लगने की आशंका बढ़ सकती है। बरसात की फुहार में भीगने के बाद गुनगुने पानी से नहाने का मजा उठाएं। और बरसात के पानी में मौजूद असंख्य कीटाणुओं से बचने के लिए एंटीसेप्टिक साबुन का उपयोग करें। त्वचा सम्बंधी समस्याओं से बचने के लिए मॉइश्‍चराइजर का इस्तेमाल लाभकारी सिद्ध होता है। इसके अलावा भीगने के तुरंत बाद आपको मसाला चाय पीनी चाहिए। इससे सर्दी, जुकाम आने से पहले ही रफूचक्कर हो जाते हैं।
Related Videos
Post Comment

प्रतिक्रिया दें

Disclaimer +

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।