Health Videos »

इन 5 तरीकों से बढ़ायें अपने लेदर शूज की उम्र

Onlymyhealth Editorial Team, Date:2016-06-24

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

चाहे लड़का हो या लड़की, लेदर शूज़ हर किसी की पर्सनैलिटी और लुक्स में चार चांद लगा देता है। इस कारण जूतों की अहमियत को कोई दरकिनार नहीं कर सकता। लड़कों की एसेसरीज में तो लेदर शूज काफी अहम हिस्‍सा रखते हैं। लेकिन लेदर शूज के साथ एक समस्या है। इनकी अच्‍छी तरह से देखभाल करनी पड़ती है नहीं तो ये जल्‍दी खराब हो जाते हैं। इस कारण लेदर शूज को देखभाल की जरूरत फॉर्मल शूज से ज्‍यादा होती है।ऐसे में इस वीडियो में इसके देखभाल करने के तरीके जानें। सबसे पहले जूते सही तरीके से उतारें। कई लोगों की आदत होती है कि बिना शू-लेस खोले ही शूज पैरों से निकाल देते हैं। लेदर के शूज कम लोचदार नहीं होते इसलिए अगर इन्हें सही तरीके से नहीं निकाला जाए तो बहुत जल्द लेदर पर स्ट्रेट मार्क बनने लगते हैं और लेदर समय से पहले कटना शुरू हो जाता है। फिर इन जूतों के लिए सही पॉलिश चुनें। लिक्विड से आपके लेदर शूज को नुकसान हो सकता है, और इसके ज्‍यादा इस्‍तेमाल से आपके जूते सामान्‍य जूतों की तरह दिखने लगते हैं। इसलिए लेदर शूज पर कभी भी लिक्विड-बेस पॉलिश का इस्तेमाल ना करें। बल्कि लेदर शूज के लिए हमेशा वैक्स-बेस पॉलिश का इस्तेमाल करें। इसके साथ ही जूतों को पानी, धूल और नमी से बचायें रखेँ। महंगे लेदर शूज को बारिश के दिनों में पहनकर निकलने या धूल-मिट्टी या गंदगी भरी जगहों पर जाने में बिल्कुल समझदारी नहीं है। लेदर शूज को पानी से बचाने के लिए आप उनपर अलसी के तेल की कोटिंग भी कर सकते हैं। इससे लेदर वाटरप्रूफ हो जाता है और पानी जूते के भीतर नहीं जाता। इन जूतों के शू-बॉक्स को ना फेंके। क्योंकि जब आप इन जूतों का इस्तेमाल ना कर रहे हों तो इन्हें इन बॉक्स में ही रख दें।
Related Videos
Post Comment

प्रतिक्रिया दें

Disclaimer +

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।