Health Videos »

ब्रिज करने का सही तरीका

Onlymyhealth Editorial Team, Date:2016-06-17

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

अकसर हम एक्सरसाइज में एब्‍स, बाइसेप्‍स, ट्राइसेप्‍स, चेस्‍ट आदि पर तो ज्यादा ध्‍यान देते हैं, लेकिन ग्‍लूट्स यानी नितंबो और कूल्‍हों को नज़रअंदाज़ कर देते हैं और इनकी एक्सरसाइज नहीं करते हैं। जिसके चलते नितंबो और कूल्हों पर चर्बी जमा होने लगती है। इस वजह से बिकनी और स्‍पोर्ट्स एक्टिविटीज करने वालों को अधिक समस्‍या हो सकती है। ग्‍लूटस की मांसपेशियों को मजबूत बनाने और यहां जमा अतिरिक्‍त चर्बी को कम करने के लिए हर रोज ब्रिज एक्‍सरसाइज करना बेहद लाभदायक होता है। ब्रिज एक्सरसाइज करने के लिए सबसे पहले चटाई पर कमर के बल लेट जाएं और बट्स को अंदर की तरफ भींचें और धीरे-धीरे अपने पैरों और हाथों का सहारा लेते हुए उन्हें फर्श से ऊपर उठा दें और सीधा कर लें और 30 सेकंड तक इस स्थिति में रहें। अब धीरे से बट्स को वापस पहले वाली स्थिति में ले आएं। इसके 10 रिपिटेशन करें। आप एडवांस ब्रिज पोज़ भी कर सकते हैं, जिसमें बस आपको ब्रिज पोजीशन में एक पैर को सामने की ओर सीधा करना होता है। इस एक्सरसाइज के नियमित अभ्यास से हिप्स की और कोर मसल्स पर काम होता है। फर्म और कर्वी होते हैं। ब्रिज एक्सरसाइज सभी कोर मांसपेशियों को सक्रिय करती है, खासतौर पर ट्रांसवर्स एब्डोमिनस (तोंद वाला हिस्सा), रेक्टस एब्डोमिनस (सिक्स पैक) और ऑब्लीक्वेस (हौरग्लास फिगर)। तो ब्रिज एक्सरसाइज को बदल-बदल कर अभ्यास करने से इन मांशपेशियों पर काफी असर होता है, और वे मजबूत बनती हैं। जब बात शरीर में ताकत बढ़ाने की हो तो मजबूत ग्‍लूट्स महत्वपूर्ण कारक साबित होते हैं। ऐसे में शरीर की शक्ति ही एथलेटिक प्रदर्शन को बेहतर बनाती है। ग्‍लूट्स को मजबूत बनाने से स्प्रिंट में तेजी आती है और छलांगें आदि लगाने में मदद मिलती है। जिससे एथेलीट मैदान में अच्छा प्रदर्शन कर पाते हैं।
Related Videos
  • ग्लूट ब्रिज करने का सही तरीका और उनके प्रकारग्लूट ब्रिज करने का सही तरीका और उनके प्रकार

    ग्‍लूट ब्रिज करने के लिए पीठ के बल लेटें, आपके घुटने मुड़े और पैर सपाट जमीन पर रहने चाहिए, साथ ही आपकी एड़ियां भी कूल्हों के सबसे निकट होनी चाहिए।

    read more
  • त्रिकोणासनत्रिकोणासन

    नियमित योग करने के बहुत सारे फायदे हैं, योग करने से दिमाग से नकारात्‍मक विचार जाते हैं और सकारात्‍मकता आती है साथ ही यह बीमारियों को दूर कर आपको निरोग रखता है।

    read more
Post Comment

प्रतिक्रिया दें

Disclaimer +

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।