Health Videos »

भौंहों और पलकों पर डैंड्रफ के कारण और उपचार

Onlymyhealth Editorial Team, Date:2016-07-12

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

जब जंक फूड हमारी जिंदगी के अभिन्न अंग हो जाते हैं तो कई किस्म की समस्या हमें घेरने लगती है। ऐसी ही एक बीमारी पलकों और भौंहों में डैंड्रफ होना है। टाक्सिक जीवनशैली के कारण त्वचा सम्बंधी समस्या होने लगती है। पलकों के नजदीक के छिद्र बंद हो जाते हैं जो कि परेशानी का सबब बन जाते हैं। असल में सेबोरिया डर्मटाइटिस और ब्लेफराइटिस के कारण भौंहे में डैंड्रफ की समस्या हो जाती है। सेबोरिया डर्मटाइटिस की स्थिति में पलकों और भौहों में डैंड्रफ होने की असली वजह जानी नहीं जा सकती। लेकिन कुछ अनुमानों के अनुसार ऐसा कम पानी पीने से और जंक फूड का अतिरिक्त सेवन करने से हो सकता है। पलकों और भौंहों में हुए डैंड्रफ से पार पाने के लिए आप ड्रगस्टोर से साबुन ले सकते हैं। शिशुओं के इस्तेमाल करने वाले शैम्पू का इस्तेमाल करें। इसे इयर बड के जरिये भौंहों और पलकों में लगाएं। आहिस्ता आहिस्ता पलकों को साफ करें। चूंकि डैंड्रफ के कारण भौंहें और पलकें सूखी होने लगती है। यही नहीं उनकी चमक भी खत्म हो जाती है। ऐसे में यदि इन्हें मसाज किया जाए तो यह बेहतर होगा। मसाज के लिए बदाम के तेल का इस्तेमाल करें। मसाज से सूखापन तो खत्म होता ही है भौंहें और पलकों की सेहत भी अच्छी होती है। इसके अलावा ध्यान रखें कि आंखें, पलकें और भौहों में किसी तरह का मेकअप न करें। यदि मेकअप करते भी हैं तो जल्दी उसे धो दें और अच्छी तरह धोएं ताकि किसी भी तरह का रसायन भौंहों या पलकों में न चिपका हुआ हो। ताजा फल और सब्जी खाए। शराब, कैफीन और जंक फूड के सेवन से बचें। इनकी बजाय बेहतर होगा यदि आप उबली हुई सब्जियां खाएं। यही नहीं प्रत्येक दिन 8 से 10 गिलास पानी पीयें।
Related Videos
Post Comment

प्रतिक्रिया दें

Disclaimer +

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।