Health Videos »

बच्चों को पीयर प्रेशर से कैसे बचाएं

Onlymyhealth Editorial Team, Date:2016-05-27

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

बच्‍चों में पीयर प्रेशर की समस्‍या बहुत ही सामान्‍य होती जा रही है। हालांकि यह समस्‍या पहले भी थी, लेकिन इसके मरीजों की संख्‍या बहुत कम थी, लेकिन वर्तमान में इससे ग्रस्‍त बच्‍चों की संख्‍या बहुत अधिक हो गई है। बच्‍चों को इस मानसिक बीमारी से बचाने की बहुत जरूरत है। हालांकि आजकल के सुविधायुक्‍त स्‍कूलों में इससे बचने की थेरेपी की व्‍यवस्‍था होती है, लेकिन जिम्‍मेदार अभिभावक होने के नाते हमें बच्‍चों को इससे बचाने के लिए कदम उठाने चाहिए। सबसे पहले बच्‍चे के साथ दोस्‍त की तरह व्‍यवहार करें, उसपर धोंस न जमायें, ताकि बच्‍चा आपसे सभी बातें शेयर कर सके। अगर बच्‍चा आपसे निगेटिव बातें भी शेयर करे तो उसे बढ़ायें नहीं बल्कि उसका समाधान करें, जिससे आगे बच्‍चा आपको सबकुछ बताने में झिझकेगा नहीं। घर पर बहुत ही कठोर नियम न लागू करें, लेकिन बच्‍चों को पूरी तरह से ढील भी न दें, बैलेंस बनाकर चलें। बच्‍चों को आसपास और समाज के माहौल से परिचित करायें। बच्‍चों के दोस्‍तों को भी जानें, उनके साथ भी वक्‍त बितायें। बच्‍चों को पीयर प्रेशर से कैसे बचायें, इसके दूसरे तरीकों के बारे में जानने के लिए इस वीडियो को देखें।
Related Videos
  • रिश्‍ते को कैसे बचाया जाएरिश्‍ते को कैसे बचाया जाए

    रिश्‍ते में दोनों पार्टनर के बीच एक दूसरे के प्रति प्‍यार, सम्‍मान, लगाव, भावनात्मक जुड़ाव, विश्‍वास और समर्पण का होना बहुत जरूरी हैं।

    read more
  • बच्चों को कैविटी से कैसे बचाएंबच्चों को कैविटी से कैसे बचाएं

    बच्चों को कैविटी से कैसे बचाएं इस बारे में आपको अपोलो के सीनियर कंसलटेंट डॉक्‍टर नीरज ए. वर्मा इस विडियो के माध्‍यम से बता रहे हैं।

    read more
Post Comment

प्रतिक्रिया दें

Disclaimer +

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।