Health Videos »

बच्चों की जीवनशैली और खान-पान कैसा हो

Onlymyhealth Editorial Team, Date:2015-08-11

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

बच्‍चों के संपूर्ण विकास पर उनकी जीवनशैली और खानपान का विशेष असर पड़ता है खासकर 15 साल की उम्र तक। इसलिए बच्‍चों में शुरूआत से ही अच्‍छी आदतें डालें, उनको सुबह जल्‍दी उठायें। कोशिश करें कि बच्‍चे स्‍कूल जाने से एक घंटे पहले उठ जायें। उठने के बाद बच्‍चे व्‍यायाम या फिर कोई योगासन जो उन्‍होंने स्‍कूल में किया हो उसे 15-20 मिनट करें। इससे बच्‍चे पूरे दिन एक्टिव रहेंगे और चोट लगने की संभावना कम होगी और कंस्‍ट्रेशन का स्‍तर भी बढ़ेगा। बच्‍चों को जंकफूड से बचना चाहिए, और बाजार के खाने जैसे - चिप्‍स, मैदा से बने आहार से बचायें। बच्‍चों को फ्रेश फूड दें और उच्‍च प्रोटीन डायट दीजिए। बच्‍चों को विटामिन जरूर दीजिए, इससे संक्रमण से बचाव होगा, फलों और सब्जियों में यह अधिक पाया जाता है। बच्‍चों में जल्‍दी सोने की भी आदत डालें। इसके अलावा बच्‍चों को पढ़ाई के साथ आउटडोर एक्टिविटी में लगायें। इससे उनमें विटामिन डी और कैल्सियम की कमी नहीं होंगी। लड़कियों को डायट में हीमोग्‍लोबिन और आयरनयुक्‍त सब्जियों का सेवन करना चाहिए।
Related Videos
  • आज कल की जीवनशैली और खान-पान कैसा होआज कल की जीवनशैली और खान-पान कैसा हो

    वर्तमान में युवाओं को ऐसी बीमारियां हो रही हैं जो कि उम्रदराज लोगों को होती थीं, इसके लिए सबसे अधिक जिम्‍मेदार हमारी जीवनशैली और खानपान की अस्‍वस्‍थ आदतें हैं।

    read more
  • डायबिटीज में कैसा हो खान पानडायबिटीज में कैसा हो खान पान

    डायबिटीज को नियंत्रित करने के लिए डाइट पर विशेष ध्यान देना चाहिए। डाइट मैनेजमेंट के जरिए ही डायबिटीज मैनेजमेंट किया जा सकता है।

    read more
Post Comment

प्रतिक्रिया दें

Disclaimer +

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।