Health Videos »

अल्जाइमर डिजीज के साथ कैसे जिएं

Onlymyhealth Editorial Team, Date:2016-06-03

हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

अल्जाइमर रोग में इंसान किसी को भी नहीं पहचानता। ऐसे में रोगी की साथ रहने वाले इंसान को मरीज की पूरी तरह से ध्यान रखने की जरूरत होती है। इसे इस तरह से समझ सकते हैं कि इस बीमारी में मरीज दूसरे इंसान पर पूरी तरह से निर्भर हो जाता है। गुड़गांव स्थित पार्क अस्पताल के सलाहकार न्यूरो चिकित्सक डॉ. के. के. शर्मा अनुसार मरीज के करीबी को मरीज का पूरी ध्यान रखने की जरूरत होती है। मरीज के छोटे से छोटे काम के दौरान भी उसके साथ रहने की जरूरत होती है। अल्जाइमर रोग में सबसे ज्यादा जरूरत होती है कि कोई मरीज की प्राथमिक देखभाल करने वाला उसके साथ हमेशा हो। इस बीमारी में मरीज को समझना बहुत जरूरी है। कई लोग बीमारी और उसकी समस्या को ही नहीं समझ पाते। ऐसे में मरीज के संबंधी को ये समझना जरूरी है कि आखिर में वो किसी दौर से गुजर रहा है। इस बीमारी के शुरूआती दौर में नियमित जांच कर के इस पर काबू पाया जा सकता है। लेकिन इसके लिए मरीज का पूरा ध्यान रखना जरूरी है। अल्जाइमर रोग से जुड़ी अन्य जरूरी सलाह के बारे में विस्तार से जानने के लिए ये विडियो देखिए।
Related Videos
  • अल्जाइमर डिजीज के शुरुआती लक्षणअल्जाइमर डिजीज के शुरुआती लक्षण

    अल्जाइमर एक तरह की भूलने की बीमारी है, जो सामान्यत बुजुर्गो में होती है। इस बीमारी से ग्रस्‍त व्‍यक्ति की याद्दाश्‍त धीरे-धीरे कम होने लगती है।

    read more
  • हृदय रोग के साथ कैसे जियेंहृदय रोग के साथ कैसे जियें

    हृदय रोग हममें से अधिकतर लोगों को हो सकता है। अगर आप 80 वर्ष की उम्र तक जीवित रहते हैं, तो आपको हृदय रोग होने की नब्बे फीसदी आशंका रहती है।

    read more
Post Comment

प्रतिक्रिया दें

Disclaimer +

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी ओन्‍लीमाईहैल्‍थ की नहीं है । डिस्‍क्‍लेमर:ओन्‍लीमाईहैल्‍थ पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।