हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

योगासन जो बालों को रखें स्‍वस्‍थ

By:Pooja Sinha, Onlymyhealth Editorial Team,Date:Jul 18, 2014
प्रदूषण, तनाव और अनियमित दिनचर्या के चलते बालों की समस्याएं आम हो रही हैं। लेकिन कुछ योगासन को अपनाकर आप इस समस्‍या से छुटकारा पाकर सुंदर और घने बाल पा सकते है।
  • 1

    बालों के लिए योग

    काले, घने व सुंदर बाल कौन नहीं चाहता! लेकिन, प्रदूषण, तनाव और अनियमित दिनचर्या के चलते बालों की समस्याएं आम हो रही हैं। इस समस्या से निजात पाने के लिए तरह-तरह के तरीके भी अपनाये जाते हैं। खान-पान की आदतें और लाइफस्‍टाइल को बदल कर बालों को स्‍वस्‍थ रखा जा सकता है। लेकिन, योग आपको बालों की समस्‍याओं से छुटकारा दिला सकता है। आइए जानें ऐसे ही कुछ योगासनों के बारे में। image courtesy : getty images

    बालों के लिए योग
  • 2

    मत्स्यासन

    मत्यासन पेट के रोगों जैसे कब्ज, एसिडिटी के लिए उत्तम होता है। साथ ही यह आसन बालों के स्वास्थ्य के लिए अच्छा माना जाता है। इसके लिए अपने पैरों को पीछे की ओर मोड़कर बैठिये। और अपनी कमर के बल ले‍ट जाइये। दोनों हाथ जांघों के समांतर रखें। कोहनी पर दबाव डालकर पेट को जरा ऊपर की ओर खींचे। इसी पोजीशन में तीस सेकेण्‍ड तक रुकिये और फिर पहली पोजीशन में चले जाइए। image courtesy : getty images

    मत्स्यासन
  • 3

    पवनमुक्तासन

    पवन मुक्तासन से शरीर की दूषित वायु बाहर निकल जाती है। जिससे आप का शरीर स्‍वस्‍थ रहता है। यह आसन पीठ के बल लेटकर किया जाता है। इसे करने के लिए शवासन में लेट जाएं। और दोनों पैरों को एक-दूसरे से मिला लें फिर हाथों को कमर से मिलाएं। उसके बाद घुटनों को मोड़कर पंजों को जमीन से टिकाएं। इसके बाद धीरे-धीरे दोनों घुटनों को छाती पर रखें। फिर अपने दोनों हाथों से घुटनों को पकड़ें। image courtesy : getty images

    पवनमुक्तासन
  • 4

    माण्डुकी मुद्रा

    इस आसन को करने के लिए किसी शांत एवं स्वच्छ वातावरण वाले स्थान का चयन करें। शांति में किसी भी सुविधाजनक आसन में बैठ जाएं। अब मुंह बंद करके जीभ को तालु में घुमाये और सहस्रार से टपकती हुई बुंदों का जीभ से पान करें। यह माण्डुकी मुद्रा है। इस मुद्रा के नियमित अभ्यास से बाल झडऩा बंद हो जाता हैं। image courtesy : getty images

    माण्डुकी मुद्रा
  • 5

    अनुलोम-विलोम

    अनुलोम-विलोम के लिए दरी पर बैठकर अपने बाएं पैर को मोड़कर दाईं जांघ पर और दाएं पैर को मोड़कर बाई जांघ पर रखें। अब दाहिने हाथ के अंगूठे से नाक के दाएं छिद्र को बंद करके, नाक के बाएं छिद्र से 5 तक की गिनती में सांस को भरे। फिर बायीं नाक को अंगूठे के बगल वाली दो अंगुलियों से बंद कर दें। उसके बाद दाहिनी नाक से अंगूठे को हटा दें और दायीं नाक से सांस छोड़ें। image courtesy : getty images

    अनुलोम-विलोम
  • 6

    व्रजासन

    बालों के झड़ने की समस्‍या में पाचन शक्ति का अहम रोल होता है। इस आसन से आपकी पाचन शक्ति ठीक रहती है। इस आसन में घुटनों को मोड़कर इस तरह से बैठें कि नितंब दोनों एड़ियों के बीच में आ जाएं। दोनों पैरों के अंगूठे आपस में मिले रहें और एड़ियों में अंतर भी बना रहे। दोनों हाथों को घुटनों पर रखें। पीछे की ओर अधिक न झुकें। शरीर को सीधा रखें ताकि संतुलन बना रहे। हाथों और शरीर को पूरी तरह ढीला छोड़ दें और कुछ देर के लिए अपनी आंखें बंद कर लें। अपना ध्यान सांसों पर केंद्रित रखें। इस आसन में पांच मिनट तक बैठना चाहिए। image courtesy : getty images

    व्रजासन
  • 7

    उष्ट्रासन

    इस आसन को करने के लिए जमीन पर दरी बिछाकर घुटनों के बल खड़े हो जाये। इसके बाद दोनों घुटनों, एड़ी व पंजों को मिलाकर रखें। फिर सांस अंदर खींचते हुए धीरे-धीरे शरीर को पीछे की ओर झुकाकर दोनों हाथों से दोनों एड़ियों को पकड़ने की कोशिश करें। इस स्थिति में ठोड़ी ऊपर की ओर व गर्दन और दोनो हाथों को बिल्कुल सीधा रखें। image courtesy : getty images

    उष्ट्रासन
  • 8

    बालायम योग

    उम्र से पहले बालों का सफेद होना एक आम समस्या है और इससे निजात पाने के लिए कारगर है- ग्रे हेयर योगा। इस योगा में हाथों के नाखूनों को आपस में रगड़ा जाता है। आप एक हाथ के नेल्स को दूसरे हाथ के नेल्स से रब करें। इसे एक दिन पांच मिनट के लिए 5 बार करें। अगर आप इसे योग को छह महीने के लिए नियमित तौर पर करते हैं तो बालों के असमय सफेद होने से निजात पायी जा सकती है। और इससे बाल घने और सुंदर बन जाते हैं। image courtesy : getty images

    बालायम योग
  • 9

    कपालभाति

    सुखासन या पद्मासन में बैठकर दोनों हाथों को घुटनों पर ज्ञान मुद्रा में रखकर सांस को धीरे से बाहर की ओर फेंके। सांस बाहर आएगी, तो पेट तेजी से अंदर की ओर जाएगा। बार-बार सांस को बाहर निकालते रहें। इससे सांस अपने आप ही अंदर की तरफ जाएगी। इस क्रिया को शुरू में 20 से 30 बार करके आखिर में सारी सांस बाहर निकाल दें। इस प्रक्रिया को धीरे-धीरे बढ़ाते जाएं। image courtesy : getty images

    कपालभाति
Load More
X
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर