हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

क्या आप कभी ओपन रिलेशनशिप में जाएंगे?

By:Rahul Sharma, Onlymyhealth Editorial Team,Date:Apr 30, 2014
ओपन रिलेशनशिप का कॉन्सेप्‍ट अब भारत में भी खूब फल-फूल रहा है, लेकिन इससे जुड़ी कई जटिलताएं भी हैं जो शायद आपको इसे अपनाने से पहले दो बार सोचने पर मज़बर कर देंगी।
  • 1

    ओपन रिलेशनशिप

    यूरोपीय देशों में डिज़ाइंड ओपन रिलेशनशिप का कॉन्सेप्‍ट अब धीरे-धीरे भारतीय समाज में भी जोर पकड़ रहा है। लोगों का मानना है कि यह रिश्‍ता आज-कल के लाइफ स्‍टाइल के अनुरुप है। इस रिलेशनशिप में दो लोग लिव इन संबंधों में रहते हैं, लेकिन कोई पार्टनर अगर चाहे तो किसी और से संबंध बना सकता है। इस प्रकार के संबंधों में रहने वाले कई लोगों का कहना है कि उन्‍हें रिलेशनशिप में आज़ादी पसंद है लेकिन भारतीय समाज में बहुत सारे लोग इस तरह के संबंधों को स्‍वीकार नहीं करेंगे। यह रिश्‍ता बनाना या नहीं बनाना लोगों के विचार पर निर्भर करता है। लेकिन इससे जुड़े की ज़रूरी पहलू भी हैं, जिन पर गौर किया जाना चाहिए। तो चलिये विस्तार से जानते हैं कि ओपन रिलेशनशिप का कॉन्सेप्‍ट क्या है।

    ओपन रिलेशनशिप
  • 2

    क्या है ओपन रिश्तों का कॉन्सेप्ट

    दुनिया में कई प्रकार के संबंध और उनसे जुडी कई अपेक्षाएं होती हैं और इनका कोई तय नियम नहीं है जिससे हमें ख़ुशी मिले। हो सकता है किसी दूसरे को वही काम सही न लगे जो हमें बेहद आनंद देता है। तो अपने रिश्तों को इसी तरह व्यवस्थित करें कि उनमे संतुलन बना रहे। चलिए ऑपन रिश्तों के कुछ ऐसे ही प्रकारों के बारे में जानते हैं।

    क्या है ओपन रिश्तों का कॉन्सेप्ट
  • 3

    एक से अधिक रिश्ते

    एक से अधिक रिश्ते का अर्थ है अपने साथी कि जानकारी से या उसके बिना एक ही समय में एक से अधिक व्यक्तियों के साथ रिश्ता होना। इस प्रकार के रिश्तों से जुडी एक समस्या ये है कि बिना कॉन्डम के एक से अधिक व्यक्ति के साथ सेक्स करने के कारण आप उन सभी व्यक्तियों को यौन संक्रमण के खतरे में डाल देते हैं, साथ ही मानसिक तौर पर तो ये दुख़ देता है। इस प्रकार के रिश्तों का अर्थ अपने साथी को धोखा देने जैसा ही होता है।

    एक से अधिक रिश्ते
  • 4

    लिव-इन रिलेशनशिप (बिना शादी के साथ रहना)

    कुछ सभ्यताओं में विवाह के बिना भी साथ रहना सामान्य माना जाता है। जबकि कुछ दूसरी सभ्यताएं जैसे कि दक्षिण पच्श्चिमी एशिया के देशों में शादी किये बिना साथ में रहने को सामाजिक स्वीकृति नहीं है। दो लोग बिना शादी करने का फैसला कई कारणो से ले सकते हैं। हो सकता है कि वप सिंगल ही रहना चाहते हैं, उनकी आर्थिक स्थिति शादी कि ज़िम्मेदारियों लेने के अनुरूप न हो, या हो सकता है कि वो समलैंगिक हों और समाज में इसकी स्वीकृति न होने के कारन उनके पास और कोई चारा न हो। बहुत से लोग शादी से पूर्व एक साथ रह कर अपनी परस्पर अनुकूलता कि परीक्षा करना चाहते हैं।

    लिव-इन रिलेशनशिप (बिना शादी के साथ रहना)
  • 5

    असुरक्षा की भावना

    ओपन रिलेशनशिप सिर्फ वैधता या फिर नैतिकता, सामाजिकता या मानसिकता के बदलाव का का ही मामला है। रिश्ता चोहे कोई भी, किसी भी तरह का हो वह बिना 'सुरक्षा' की भावना के खोखला हो जाता है और यह सुरक्षा की भावना 'ओपन रिलेशनशिप' के रिश्ते में नहीं मिल पाती है, जिसका अभाव ओपन रिलेशनशिप का जीवन जी रहे जोड़ों को हर पल सालता रहता है।

    असुरक्षा की भावना
  • 6

    विरोधाभास

    ओपन रिलेशनशिप के साथ एक विरोधाभास जुड़ा हुआ है कि एक ओर परंपरागत सोच-नियमों को दरकिनार करके पुरुष और स्त्री बिना विवाह किए एक साथ रहने व कई लोगों से शारीरिक संबंध बनाने का कदम उठाते हैं। वहीं दूसरी ओर आर्थिक तौर पर एक साथी की दूसरे साथी पर निर्भरता और अलगाव की स्थिति में गुजारे भत्ते की मांग उन्हें उसी परंपरागत श्रेणी में ला खड़ा करती है, जिसे अस्वीकार कर उन्होंने ओपन रिलेशनशिप को अपनाया था।

    विरोधाभास
  • 7

    तैयार रहें

    जब दो लोग थोड़े समय के लिए एक रिश्ते में रहते हैं तो रिश्ते से बाहर जाकर सेक्स करना एक मुश्किल काम होता है, ना सिर्फ शरीरिक तौर पर बल्कि मानसिक तौर पर। लेकिन अक्सर देखा जाता है कि लोग शुरू में इसके लिए तैयार तो हो जाते हैं, लेकिन व़क्त बीतने के साथ इस सच्चाई का सामना नहीं कर पाते और रिश्ता टूट जाता है।

    तैयार रहें
  • 8

    ऐसा भी होगा

    रात को हुई पार्टी में अपने-अपने पार्टी फ्रेंड्स के साथ बिताए अंतरग पलों की चर्चा जब आप सुबह की पहली चाय पर एक-दूसरे के साथ करते हैं तो ना चाहते हुए भी मन में असुरक्षा और जलन की भावना आने लगती है। तो इस बात को स्विकार करें की ओपन रिलेशनशिप में आपको इस मुश्किल स्थिति से अक्सर ही गुज़रना पड़ेगा।

    ऐसा भी होगा
  • 9

    बातों को छुपाएं, लोगों को नहीं

    ओपन रिलेशनशिप, प्यार, वासना और विश्वास का एक नाजुक संतुलन है। अपने संबंधों के बारे में एक-दूसरे से छिपाने पर आपके रिश्ते में अविश्वास की भवना प्रबल हो जाती है और वह अंत की ओर अग्रसर हो जाता है। देखये ओपन रिलेशनशिप आप दोनों के बीच एक यौन समझौता है, तो कभी आपने अन्य सेक्स साथियों के बारे में छुपाएं नहीं।

    बातों को छुपाएं, लोगों को नहीं
  • 10

    जलन

    आपको अपने साथी से जलन महसूस हो सकती है, खासकर के जब उसे लोगों से आपसे अधिक तवज्जो मिल रही हो। याद रखें कि एक लड़की का, जब वो चहे, लोगों का ध्यान अपनी ओर आकर्षित करना आसान होता है। तो इस बात का ख़ुले मन से सामना करें और ईर्ष्या को इस यौन समझौते के रास्ते में ना आने दें।

    जलन
  • 11

    क्या है वास्तविकता

    यहां सवाल ये नहीं है कि ओपन रिशनशिप कितना सही है या गलत है, बल्कि प्रश्न यह है कि युवा पीढ़ी रिश्तों के मायने क्या समझती है? यह बात तो तय है कि समाज के बाहरी स्वरूप में चाहे जितना भी बदलाव क्यों न हो जाए परंतु रिश्तों को निभाने के लिए प्यार और समर्पण हर काल में आवश्यक है। ओपन रिलेशन में जाने वाले लोगों को यह समझना होगा कि शर्तों पर टिके रिश्तों का जीवन अल्पकालीन होता है।

    क्या है वास्तविकता
Load More
X
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर