हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

जानें क्‍यों सिगरेट से अधिक नुकसानदेह है हुक्‍का

By:Aditi Singh , Onlymyhealth Editorial Team,Date:Jan 18, 2016
एक शोध के अनुसार हुक्के का सेवन सिगरेट की तुलना में ज्यादा नुकसानदायक होता है। इस बारें में विस्तार से जानने के लिए ये स्लाइडशो पढ़े।
  • 1

    सिगरेट से ज्यादा हानिकारक हुक्का

    शहरों के बड़े बड़े मॉल और कॉमप्लेक्स आदि में बने हुक्का बार में आपको युवाओं की बड़ी संख्या में तादाद देखने के मिल जाएगी। इस तादाद में शामिल युवाओं का मानना है कि हुक्का सेहत के लिए नुकसानदायक नहीं होता है। ऐसे भ्रमित युवाओं की जानकारी के लिए बता देते है कि हुक्के का सेवन सिगरेट की तुलना में ज्यादा खतरनाक होता है। यह सिगरेट की तुलना में कैंसर के लिए दोगुना खतरनाक है। आइयें जानते है कि हुक्के के सेवन कैसे आपके शरीर को नुकसान पंहुचा रहा है।
    Image Source-Getty

    सिगरेट से ज्यादा हानिकारक हुक्का
  • 2

    कैंसर की संभावना

    अमरीकन लंग एसोसिएशन (एएलए) ने हुक्का के हानिकारक पहलुओं पर पहली बार गहन शोध किया है। एएलए द्वारा इजारी रिपोर्ट के अनुसार,यह धारणा गलत है कि पानी से धुएं के गुजरने से प्रदूषक तत्व छन जाते हैं और फेफड़ों को नुकसान नहीं पहुंचता। एक शोधकर्ता ने कहा कि मुख, फेफड़ा और ब्लड कैंसर एवं हुक्का सेवन के बीच रिश्ते की पुष्टि हो चुकी है। हुक्का सिगरेट की तरह ही मुख, फेफड़ा और ब्लड कैंसर का वाहक है। इसके अलावा यह हृदय रोग और धमनियों में थक्के जमने की समस्या की भी वजह बन सकता है।
    Image Source-Getty

    कैंसर की संभावना
  • 3

    निकोटिन की मात्रा में बढ़ोत्तरी

    40 से 50 मिनट तक हुक्का पीने से ही शरीर में निकोटिन की मात्रा में 250 फीसदी की बढ़ोतरी हो जाती है। कई लोग इससे कहीं अधिक लम्बे समय तक हुक्का का सेवन करते हैं, जाहिर है कि उनके शरीर में निकोटिन की मात्रा इससे कहीं अधिक होती होगी। शरीर में इतना निकोटिन 100 सिगरेट के सेवन से पैदा होने वाले निकोटिन के बराबर है। इसके अलावा हुक्के में भरे जाने वाले चारकोल से कई तरह के खतरनाक रासायनिक तत्व पैदा होते हैं, जो स्वास्थ्य पर बुरा असर डालते हैं। चारकोल के जलने से कार्बन मोनोऑक्साइड और कुछ दूसरे जहरीले तत्व पैदा होते हैं।
    Image Source-Getty

    निकोटिन की मात्रा में बढ़ोत्तरी
  • 4

    हाथ-पैरों में दर्द और झंझनाहट

    हुक्के की तम्बाकू में पाया जाने वाला एक हानिकारक पदार्थ निकोटिन होता है जो हुक्का पीने पर हमारे शरीर में प्रवेश करता हैं। यह हानिकारक पदार्थ निकोटिन हाथ-पैरों की खून की नलियों में धीरे-धीरे कमजोरी व सिकुड़न पैदा करना शुरू कर देता है। जब साफ खून सप्लाई करने वाली यह हाथ पैर की खून की नलियाँ जब निकोटिन के प्रभाव में आधे से यादा सिकुड़ जाती हैं तो हाथ पैरों को जाने वाली शुध्द साफ की सप्लाई गड़बड़ा जाती हैं, जिससे हाथ-पैरों के लिये आवश्यक ऑक्सीजन की मात्रा में भारी गिरावट आ जाती हैं।
    Image Source-Getty

    हाथ-पैरों में दर्द और झंझनाहट
  • 5

    डॉक्टर से सलाह

    अगर हुक्केबाजों के हाथ व पैर की उंगुलियों में घाव उभर आए तो तुरन्त वैस्क्युलर सर्जन की निगरानी में इलाज़ करें। अब तक आप यह बात समझ गए होगें कि हुक्का पीना हमारे जीवन और हाथ-पैरों के लियें कितना घातक है, उसका हमेशा के लिए परित्याग कर दें। यह भी बात समझ लें कि हुक्के का सेवन कम कर देने से शरीर को कोई लाभ नहीं मिलता इसको पूरी तरह से त्यागने से ही आप हुक्के से नुक्सान होने के ख़तरे से दूर हो पाऐगें।
    Image Source-Getty

    डॉक्टर से सलाह
Load More
X
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर