हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

खतरनाक आर्गेज्म डिस्‍आर्डर के कारण और इलाज

By:Pradeep Saxena, Onlymyhealth Editorial Team,Date:Mar 28, 2014
सेक्‍स के दौरान कई महिलाओं को चरमोत्‍कर्ष यानी ऑर्गेज्‍म तक पहुंचने में परेशानी होती है। हालांकि उनका साथी उन्‍हें पूर्ण उत्‍तेजित करता है। आखिर क्‍यों होती है ऐसी समस्‍या और क्‍या हैं इसके कारण, जानने के लिए पढ़़ें यह स्‍लाइड शो।
  • 1

    सेक्सुअल डिस्ऑर्डर क्या है

    सेक्सुअल डिस्ऑर्डर की समस्या को मानसिक स्वास्थ्य से जोड़ कर देखा जाता है। इनमें से कुछ शारीरिक स्वास्थ्य समस्याएं भी हो सकती हैं जैसे डायबिटीज, स्पाइनल कोर्ड इंजरी, पेल्विक डिस्ऑर्डर आदि। यह समस्या महिलाओं और पुरुषों दोनों को हो सकती हैं। इनके लक्षण काफी मिलते जुलते होते हैं। आइए जानें ऑर्गेज्‍म डिस्ऑर्डर के बारे में विस्तार से।

    सेक्सुअल डिस्ऑर्डर क्या है
  • 2

    क्‍या होता है ऑर्गेज्‍म डिस्‍फंक्‍शन

    ऑर्गेज्‍म डिस्‍फंक्‍शन वह स्थिति होती है जब एक महिला को संभोग के दौरान उचित उत्‍तेजना के बाद भी ऑर्गेज्‍म तक पहुंचने में परेशानी होती है। ऑर्गेज्‍म तक पहुंचना महिलाओं में काफी सामान्‍य है। ब्राउन यूनिवर्सिटी के मुताबिक हर तीसरी महिला को भरपूर उत्‍तेजना के बाद भी ऑर्गेज्‍म नहीं होता। महिलाओं में ऑर्गेज्‍म डिस्‍फंक्‍शन को एनोग्रास्मा अथवा फीमेल ऑर्गेज्मिक डिस्‍ऑर्डर भी कहा जाता है। हालांकि पुरुषों में यह समस्‍या महिलाओं की अपेक्षा कम होती है।

    क्‍या होता है ऑर्गेज्‍म डिस्‍फंक्‍शन
  • 3

    क्‍यों होता है ऑर्गेज्मिक डिस्‍ऑर्डर

    ऑर्गेज्‍म तक पहुंचने में होने वाली परेशानी के पीछे कई कारण हो सकते हैं। ये कारण मानसिक और शारीरिक दोनों प्रकार के हो सकते हैं। इसलिए ऑर्गेज्मिक डिस्‍ऑर्डर के लिए किसी एक कारण को रेखांकित करना जरा मुश्किल हो जाता है।

    क्‍यों होता है ऑर्गेज्मिक डिस्‍ऑर्डर
  • 4

    ऑर्गेज्मिक डिस्‍ऑर्डर के संभावित कारण - उम्र

    उम्र इसका एक बड़ा कारण हो सकता है। ज्‍यों-ज्‍यों आपकी उम्र बढ़ती जाती है उनके लिए ऑर्गेज्‍म हासिल करना मुश्किल होता जाता है। महिलाओं में रजोनिवृत्ति इसका एक अहम कारण हो सकता है। इसके साथ ही कोई पुरानी बीमारी भी आपको संभोग के चरम तक पहुंचने से रोक सकती है।

    ऑर्गेज्मिक डिस्‍ऑर्डर के संभावित कारण - उम्र
  • 5

    झिझक या अपराध बोध

    कई बार साथी सेक्‍स को लेकर झिझकते रहते हैं। इससे भी वे सेक्‍स के पूरे आनंद से वंचित रह जाते हैं। महिलायें अकसर सेक्‍स के दौरान वे अपने साथी को अपनी पसंद के बारे में नहीं बताती। वहीं अधिकतर पुरुष भी अपनी महिला साथी की पसंद और उत्‍तेजना के बारे में जानने की जरूरत नहीं समझते। इससे न तो वे और न ही उनकी साथी ऑर्गेज्‍म को प्राप्‍त होते हैं। याद रखिये यदि संभोग के दौरान एक साथी भी असंतुष्‍ट रह गया, तो दूसरा भी चरमानंद नहीं प्राप्‍त कर सकता।

    झिझक या अपराध बोध
  • 6

    हिस्‍ट्रेक्‍टॉमी

    यदि ऑपरेशन के जरिये किसी महिला का गर्भाशय निकाल लिया गया हो, तो वह ऑर्गेज्‍म प्राप्‍त नहीं कर पाती। ऐसा गंभीर परिस्थितियों में ही किया जाता है। इसके साथ ही डायबिटीज अथवा किसी मानसिक रोग के कारण भी ऑर्गेज्‍म में दिक्‍कत आती है।

    हिस्‍ट्रेक्‍टॉमी
  • 7

    कैसे पायें छुटकारा - दवाओं का सेवन

    इसके लिए किसी विशेषज्ञ से मिलकर बात करें और दवाओं के बारे में पता करें। यूं ही किसी भी दवा का सेवन न करें और न ही राह चलते किसी नीम-हकीम के पास ही जाएं। इससे आपकी समस्‍या खत्‍म नहीं होगी, बल्कि और बढ़ जाएगी। बेहतर रहेगा कि आप इसका पूरा इलाज करवायें

    कैसे पायें छुटकारा - दवाओं का सेवन
  • 8

    अवसाद से दूर रहें

    तनाव सेक्‍स का बड़ा दुश्‍मन है। आपको चाहिए कि आप तनाव मुक्‍त रहने का प्रयास करें। यह अच्‍छे सेक्‍स जीवन के लिए बहुत जरूरी है। तनाव को दूर करने के लिए आप योग, ध्‍यान, नियमित जीवनशैली आदि तरीके अपना सकते हैं।

    अवसाद से दूर रहें
  • 9

    साइकोथेरेपी

    आप चाहें तो साइकोथेरेपी की मदद ले सकते हैं। इससे सेक्सुअल डिस्ऑर्डर से ग्रस्त लोगों का इलाज किया जा सकता है। यह इस बीमारी को ठीक करने का बहुत ही आम तरीका है। इस थेरेपी के दौरान एक पुरुष और एक महिला थेरेपिस्ट के साथ रोगी की मीटिंग करायी जाती है। वे रोगी की समस्याओं को सुनने के बाद इलाज का चुनाव करते हैं।

    साइकोथेरेपी
  • 10

    परफॉरमेंस की चिंता न करें

    सेक्‍स के दौरान अपनी परफॉरमेंस को लेकर अधिक विचार न करें। अपने मन से यह बात निकाल दें कि आप अपने साथी को संतुष्‍ट कर पायेंगे अथवा नहीं। या क्‍या आपका साथी संभोग का पूरा आनंद उठा पा रहा है अथवा नहीं। इन सब बातों के बारे में विचार न करें। सेक्‍स के दौरान उसका आनंद उठाने का प्रयास करें। कई पुरुष इसी डर की वजह से सेक्स से मन चुराने लगते हैं। उसकी इच्छा में कमी आने लगती है। डॉक्टरों का मानना है कि 80 फीसदी मामलों में इरेक्टाइल डिस्फंक्शन की वजह शारीरिक होती है, बाकी 20 फीसदी मामले ऐसे होते हैं जिनमें इसके लिए मानसिक कारण जिम्मेदार होते हैं।

    परफॉरमेंस की चिंता न करें
  • 11

    रिश्‍ता सुधारें

    कई बार आपके रिश्‍ते में चली आ रहीं निजी समस्‍यायें भी रिश्‍ते को प्रभावित करती हैं। आपसी मनमुटाव, भरोसे की कमी, रिश्‍तों में तनाव आदि के कारण आप बिस्‍तर पर एक दूसरे के साथ होते हुए भी मानसिक रूप से कहीं अलग होते हैं। ऐसी परिस्थिति में सेक्‍स का आनंद उठाने की बात सोचना भी बेमानी है।

    रिश्‍ता सुधारें
  • 12

    अन्‍य उपाय

    कई बार अनेक कारण मिलकर ऑर्गेज्‍म को मुश्किल बना देते हैं। इन सबके बारे में विचार करते रहने से आपके लिए परेशानियां और बढ़ सकती हैं। और यह भी संभव है कि भविष्‍य में आपके लिए ऑर्गेज्‍म हासिल करना ही मुश्किल हो जाए। तो बेहतर है कि परेशानी का हल निकालें और घबरायें नहीं।

    अन्‍य उपाय
Load More
X
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर