हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

माता-पिता को पता होनी चाहिए बच्‍चे की नींद से जुड़ी बातें

By:Pooja Sinha, Onlymyhealth Editorial Team,Date:May 09, 2014
ब्रिटिश अध्‍ययन के अनुसार बच्‍चों में नींद से जुड़ी समस्‍या लंबी अवधि में गणित और भाषा कौशल में कमी पैदा कर सकता है। अगर आपका बच्‍चा भी इस समस्‍या से जुझ रहा हैं तो आप यहां पर दिये हुये कुछ उपायों को अपना सकते हैं।
  • 1

    बच्‍चे की नींद से जुड़ी बातें

    माता-पिता होने के नाते आपको इस बात की जानकारी होनी चाहिए कि लगभग 25 प्रतिशत बच्‍चे बचपन से ही नींद से जुड़ी परेशानियों का अनुभव करते हैं। ऐसे बच्‍चों को रात को ठीक से नींद नहीं आती है। कई बच्‍चे तो रात को पूरी रात जागते रहते हैं। अगर इस समस्‍या का समाधान समय पर ना किया जाये तो बच्‍चों के व्‍यवहार में कई तरह के बदलाव देखने को मिलते है। जैसे मूड में गड़बड़ी, चिड़चिड़ापन, ध्‍यान और सक्रियता में कमी आदि। हाल में ही हुये ब्रिटिश अध्‍ययन के अनुसार बच्‍चों में नींद से जुड़ी समस्‍या लंबी अवधि में गणित और भाषा कौशल में कमी पैदा कर सकता है। अगर आपका बच्‍चा भी इस समस्‍या से जुझ रहा हैं तो आप यहां पर दिये हुये कुछ उपायों को अपना सकते हैं। image courtesy : getty images

    बच्‍चे की नींद से जुड़ी बातें
  • 2

    अनदेखा

    माता-पिता को यह सलाह दी जाती है कि एक बार बिस्‍तर पर जाने के बाद बच्‍चे की प्रतिक्रिया को अनदेखा करना चाहिए। यह बहुत ही प्रभावी हैं और ऐसा करने से कुछ नुकसान भी नहीं होता है। हालांकि, कई माता पिता को यह मुश्किल लगता है। image courtesy : getty images

    अनदेखा
  • 3

    चेकिंग

    हालांकि यह सलाह दी जाती है कि एक बार बच्‍चे के बिस्‍तर पर जाने के बाद उसकी किसी बात पर प्रतिक्रिया न करें लेकिन रात में कुछ अंतराल के बीच जाकर अपने बच्‍चे की चेकिंग जरूर करनी चाहिए। कुछ बच्चे सोने के थोड़ी देर बाद उठकर अपनी मम्‍मी को तलाशने लगते हैं। इसलिए थोड़ी-थोड़ी देर बाद कमरे में देख लें कि बच्चा सोते-सोते जाग तो नहीं गया। image courtesy : getty images

    चेकिंग
  • 4

    अकेले सोने की आदत

    कुछ बच्चे चाहते हैं कि माता-पिता भी उनके साथ ही सोने जाएं। लेकिन यह अच्‍छी आदत नहीं है क्‍योंकि उनके जरा से दूर होने पर वह सो नहीं पाते हैं। इसलिए बच्‍चे को अपनी बाहों या सोफे पर नहीं बल्कि बिस्‍तर पर सोने की आदत डाले। ऐसा करने से उसमें सही तरीके से सोने की आदत आएगी और आपकी माता-पिता की उपस्थिति में सोने की बुरी आदत से भी बच जायेगा। image courtesy : getty images

    अकेले सोने की आदत
  • 5

    सोने की सकारात्मक दिनचर्या

    इसका मतलब है कि बच्‍चे के लिए सोने की सकारात्‍मक दिनचर्या, उसके समय को सुखद बनाता है। कुछ चीजें जैसे नहाना, दांत साफ करना, पजामा पहनना और सोते समय कहानी सुनना किसी भी बच्‍चे के लिए अद्भुत हो सकता हैं। वैसे ही सोने की पॉजिटीव दिनचर्या बच्चों को अच्‍छे से सोने में मदद करती है। image courtesy : getty images

    सोने की सकारात्मक दिनचर्या
  • 6

    सोने और जागने का नियमित शेड्यूल

    बच्चों और किशोरों के लिए निश्‍चित शेड्यूल होना चाहिए। माता पिता को इस बात की जानकारी होनी चाहिए कि आपके बच्‍चे को उस उम्र में कितने घंटे की नींद की जरूरत हैं और इसके मद्देनजर उठने का समय भी निश्‍चित करना चाहिए। साथ ही अगर आपका बच्‍चा स्‍कूल नहीं जा रहा है तो भी उसको इस शेड्यूल को ध्‍यान में रखना चाहिए। image courtesy : getty images

    सोने और जागने का नियमित शेड्यूल
  • 7

    कैफीन से बचें

    बच्‍चे की नींद न आने की परेशानी से बचाने के लिए जरूरी है कि उसे दोपहर के बाद किसी भी कै‍फीन युक्त उत्‍पाद को देने से बचना चाहिए। सोडा, कॉफी, चॉकलेट और कोल्‍ड टी इसके चार प्रमुख उदाहरण हैं। image courtesy : getty images

    कैफीन से बचें
  • 8

    शांत वातावरण

    कई अध्‍ययनों से यह बात साबित हुई है कि बच्‍चों को शांत वातावरण में बेहतर नींद आती है। रात को बच्‍चों को टीवी और वीडियो गेम से दूर रखना चाहिए। अध्‍ययन के अनुसार, बच्‍चों में सोने की समस्‍याओं के बढ़ाने का सबसे बड़ा कारण बेडरूम में टीवी की मौजूदगी है। image courtesy : getty images

    शांत वातावरण
  • 9

    नैपी का ध्‍यान

    बच्‍चों को गीलेपन में नींद नहीं आती हैं इसलिए सुनिश्चित करें कि नैपी की संख्‍या और अवधि आपके बच्‍चे की उम्र के उपयुक्त ही होनी चाहिए। पांच साल की उम्र के बाद, ज्‍यादातर बच्‍चों को नैपी की आवश्‍यकता नहीं होती है। हालांकि, प्रत्‍येक बच्‍चे की उम्र अलग होती है इसलिए इस बात के लिए  कोई कठोर नियम नहीं है। image courtesy : getty images

    नैपी का ध्‍यान
  • 10

    सोने से पहले खेल-कूद से दूर रखें

    अपने बच्‍चे को सोने से पहले खेल-कूद न करने दें क्‍योंकि इससे तनाव हार्मोंन का उत्‍पादन बढ़ने के साथ ही शरीर का तापमान भी बढ़ जाता है। यह दोनों नींद की क्षमता को बाधित कर सकते हैं।  image courtesy : getty images

    सोने से पहले खेल-कूद से दूर रखें
  • 11

    स्‍नैक्‍स से दूरी

    अगर आपको बच्‍चा सोने की कोशिश कर रहा है तो उसे स्‍नैक्‍स न दें, विशेष रूप से चीनी से भरपूर स्‍नैक्‍स से तो बिल्‍कुल भी नहीं देने चाहिए क्‍योंकि यह स्नैक्स अचानक से एनर्जी पैदा कर देते हैं। जिससे आपके बच्‍चे की नींद खुल जाती हैं। image courtesy : getty images

    स्‍नैक्‍स से दूरी
Load More
X
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर