हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

योनि गांठ और इसके प्रकार

By:Pooja Sinha, Onlymyhealth Editorial Team,Date:Jun 10, 2014
योनि में यह अक्‍सर एक अवरूद्ध त्‍वचा ग्रंथि के कारण उत्‍पन्‍न होती है। यह अक्‍सर त्‍वचा के नीचे पिपल्‍स और गांठ की तरह लगती है। महिलाओं में कुछ आम योनि गांठ इसप्रकार है।
  • 1

    योनि में गांठ

    महिलाओं की आम चिंता का विषय गांठ है, जो अकसर वह योनिमुख के पास पाती है। चितिंत होने से पहले आपको इसके बारे में विस्‍तृत जानकारी लेनी चाहिए। इसके लिए योनि गांठ होने के कारण और इसके प्रकार के बारे में जानना बहुत जरूरी होता है। image courtesy : getty images

    योनि में गांठ
  • 2

    योनि गांठ के कारण

    महिला जननांग में गांठ और पिम्पल्स के कई कारण होते है। और उनमें से ज्‍यादातर संक्रामक नहीं होते, न एसटीडी और जीवन के लिए खतरनाक होते है। सिस्ट होना आम बात है और यह शरीर में कहीं भी हो सकता है। लेकिन योनि ((योनि के निकट क्षेत्र) में यह अक्‍सर एक अवरूद्ध त्‍वचा ग्रंथि के कारण उत्‍पन्‍न होती है। यह अक्‍सर त्‍वचा के नीचे पिपल्‍स और गांठ की तरह लगता है।  image courtesy : getty images

    योनि गांठ के कारण
  • 3

    योनि गांठ के प्रकार

    योनि में गांठ काफी बड़ी या असुविधाजनक होती है इसका इलाज चिकित्‍सक द्वारा सूखाकर या चीरा लगाकर किया जाता है। अपने आप इसको फोड़ना अच्‍छा नहीं होता क्‍योंकि इससे बैक्‍टीरिया उत्‍पन्‍न होकर संक्रमण का कारण बन सकता है। महिलाओं में कुछ आम योनि गांठ इसप्रकार है।  image courtesy : getty images

    योनि गांठ के प्रकार
  • 4

    स्‍केन वाहिनी अल्सर

    ये मूत्रमार्ग के दोनों तरफ होता है। इसके कारण कभी-कभी मूत्र करने में दर्द, रुकावट या फोड़े का गठन भी हो सकता है। अगर इसका इलाज आप स्‍वयं कर रहे हैं तो गर्म पट्टी के साथ करें लेकिन इसके बड़ा होने पर इसका इलाज चिकित्‍सक द्वारा ही करवाना चाहिए।  image courtesy : getty images

    स्‍केन वाहिनी अल्सर
  • 5

    बार्थोलिन अल्सर

    यह अल्‍सर, योनि के बाहर के निचले हिस्से भगोष्ठ के दोनों तरफ होता हैं। यह बहुत बड़ा और अखरोट की एक साइड की तरह होता है। आमतौर पर यह आकार और दर्द में तेजी से विकास के कारण नोटिस किया जाता है। इसके इलाज के लिए यदि आवश्‍यक हो तो गर्म उपचार जैसे सिट्ज़ स्‍नान और चीरा और ड्रेनेज शामिल होता है।  image courtesy : getty images

    बार्थोलिन अल्सर
  • 6

    अवरोधित बालों के रोम

    अवरोधित बालों के रोम, या लोम आमतौर पर आम गांठे हैं, जो पुरुषों और महिलाओं के जननांग में देखी जाती है। यह गांठे अक्‍सर उग्र और मुलायम होती है। यह सकंमित होती हे और इसके इलाज के लिए एंटीबॉयोटिक दवाओं और बड़े चीरे या ड्रेनेज की आवश्‍यकता हो सकती है। image courtesy : getty images

    अवरोधित बालों के रोम
  • 7

    पसीने की ग्रंथियां

    पसीने से भरी ग्रंथियां जननांग सहित कहीं भी हो सकती है। यह ग्रंथियां संक्रमित होती है। स्वदग्रंथिशोथ सुप्पुरात्वा एक कंडीशन है जो शरीर में कहीं भी दर्दनाक पसीने की ग्रंथियों के कारण संक्रमण का कारण बनती है। यह कड़े निशान छोड़ देती है। और आमतौर पर एंटीबायोटिक दवाओं और अन्य दवाएं इसके इलाज के लिए आवश्यक होती हैं।  image courtesy : getty images

    पसीने की ग्रंथियां
  • 8

    जननांग दाद

    जननांग दाद एक यौन संचारित रोग है। यह आमतौर पर जलन, दर्दनाक घाव, खुजली और अक्सर एक बग के काटने जैसा पीड़ादायक के रूप में शुरू होता है। लेकिन इसमें छाला या छाले के समूह या फिर खुले अल्सर में कुछ ही दिनों में प्रगति होने लगती है। इसके उपचार में  एंटीवायरल दवाएं और दर्द की दवाएं शामिल होती हैं।  image courtesy : getty images

    जननांग दाद
  • 9

    मानव पैपिलोमा वायरस के कारण गांठ

    संक्रमण का उपप्रकार 6 या 11 मानव पैपिलोमा वायरस (एचपीवी) जननांग में गांठ पैदा कर सकता है। यह एक यौन संचारित रोग है। इसमें गांठ की उपस्थिति फूलगोभी की तरह होती है। इसको स्‍पर्श करना बहुत मुश्किल होता है और यह आसानी से फैल सकता है। इसके उपचार के लिए गांठ को सूखाने की दवाओं और वायरस से लड़ने के लिए प्रतिरक्षा प्रणाली में सुधार भी शमिल करना चाहिए।  image courtesy : getty images

    मानव पैपिलोमा वायरस के कारण गांठ
  • 10

    मोलूस्‍कम कोंटागियोसम

    इस वायरल संक्रमण का कारण खरोज के साथ योनि पर छोटे, मांसल गांठ का बनना है। इसमें गांठ का रंग मोती के रंग की तरह होता है। और यह आमतौर पर इलाज के बिना दूर हो जाते हैं।  image courtesy : getty images

    मोलूस्‍कम कोंटागियोसम
  • 11

    अन्‍य कारण

    महिला जननांगों में गांठ के अन्‍य बहुत से कारण भी है। हालांकि कुछ कारण छोटे होते है, और इसके लिए कम और सीमित उपचार की आवश्‍यकता होती है। जबकि दूसरे एसटीडी के कारण होते हैं। इसलिए अगर आपको किसी भी तरह की गांठ महसूस हो तो तुरंत अपने चिकित्‍सक से जांच करवाये।  image courtesy : getty images

    अन्‍य कारण
Load More
X
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर