हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

आपको आगे बढ़ने से रोकती हैं ये आठ परेशानियां

By:Rahul Sharma, Onlymyhealth Editorial Team,Date:Sep 11, 2014
यदि आपको लगता है कि आपके जीवन सिर्फ परेशानियों से भरा है, और जीवन में कुछ भी बेहतर नहीं हो रहा? तो संभवतः परेशानियां कहीं दिमाग में ही हैं, जिनके बारे में सोचने और इन्हें दूर करने की जरूरत है।
  • 1

    खुद ही पैदा की गई परेशानियां

    क्या आपको लगता है कि आपके जीवन परेशानियों से भरा है, और जीवन में कुछ भी बेहतर नहीं हो रहा? लेकिन धूप और छांव की ही तरह जीवन में कभी दुख तो कभी सुख आते रहते हैं। जिंदगी की सोच का एक महत्वपूर्ण पक्ष यह भी है कि समस्याएं जितनी अधिक होती हैं, सफलताएं भी उतनी ही तेजी से मिलती हैं। लेकिन कई समस्याएं दरअसल हमारी सोच और आदतों के कारण होती हैं, जो हमें दिखती नहीं, किन्तु लगातार परेशान करती हैं। तो चलिये आज ऐसी ही कुछ समस्याओं और उनके समाधान पर गौर करते हैं.....
    Image courtesy: © Getty Images

    खुद ही पैदा की गई परेशानियां
  • 2

    सूचना जुटाने की लत

    क्या आपको अपने व्यक्तित्व व जीवन में सुधार के लिए बहुत वर्कशौप और सेमिनार में जाते हैं? या अपनी समस्याओं के समाधान के लिए काफी किताबों को पढ़ते हैं। क्या आपको वाकई लगता है कि अपने दिमाग को छोड़कर इन सहारों से आपको समाधान मिल सकता है! लेकिन यह जान लें कि बिना क्रिया करे आप कितना भी पढ़ देख और समझ लें, सब व्यर्थ है। उदाहरण के लिए यह कुछ ऐसा है जैसे सेब के फायदों को जान तो लिया जाए, मगर खाया न जाए।
    Image courtesy: © Getty Images

    सूचना जुटाने की लत
  • 3

    खुद के नकारात्मक कामों में संलग्न रहना

    खुद ही व्यर्थ के काम करना और फिर ये निर्धारित कर लेना कि आप परेशान हैं और कुछ नहीं कर सकते, सबसे बड़ी समस्या है। जैसे

    • मेरे लिए कुछ भी कभी न हीं बदलने वाला।  
    • मेरे साथ कुछ गड़बड़ तो है।  
    • मैं हमेशा एक लूजर रहुंगा।
    • मैं बहुत अच्छा नहीं हूं।
    • मुझ में ये काबिलियत नहीं है।
    • जो चीजें और लोगों के लिए लाभदायक हैं, मेरे लिये नहीं।
    • लोग भाग्यशाली हैं पर में नहीं।


    लेकिन क्या आप ये बातें अपने प्यारे बच्चे को भी बोलना चाहेंगें? शायद कभी नहीं। लेकिन ये बात आप अपने भीतर के बच्चे को बोलते हैं, जो पूरी तरह से व्यर्थ है।
    Image courtesy: © Getty Images

    खुद के नकारात्मक कामों में संलग्न रहना
  • 4

    आप जो करना चाहते हैं, खुद ही उसका विरोध करते हैं

    खुद की भावनाओं पर काबू रखना अच्छी बात है, लेकिन अपनी रचनात्मकता और क्रियाशीलता पर अंकुश लगाना ठीक नहीं। कई बार अपने घर से हमें अंकुश में रहने की आदत पड़ जाती है। इस लिये अपनी सामाएं खुद तैयार करें और सही गलत को समझते हुए, अपनी रचनात्मकता को रूप दें और अपनी कार्यशैली का हिस्सा बनाएं।
    Image courtesy: © Getty Images

    आप जो करना चाहते हैं, खुद ही उसका विरोध करते हैं
  • 5

    खुद पर ही झल्लाहट

    आप अपने आप को ठीक करने के दौरान होने वाले बदलावों पर झल्लाहट दिखाते हैं, तो यह समान्य हो सकता है। लेकिन आपको यह भी सोचना और मानना होगा कि आपके फैंसले सही हैं और आप उनकी जिम्मेदारी ले सकते हैं। हम सभी की अंतरआत्मा सही गलत का इशारा देती है। उसका सम्मान करें और सकारात्मक दिशा में बदलाव करें।
    Image courtesy: © Getty Images

    खुद पर ही झल्लाहट
  • 6

    दोषारोपण की आदत

    यदि आप अपने जीवन में होने वाली परेशानियों को दूसरों की करनी की वजह मानकर बैठ जाते हैं तो ये आपके लिए एक बड़ी समस्या है। अपनी करनी के लिए जिम्मेदारी उटाना सीखें। क्योंकि दोषारोपण शायद थोड़े समय के लिए सुकून दे, लेकिन भविष्य में ये आपको नीचे ले जाता है। जिम्मेदारी लें और समास्याओं का विवेक के साथ समाधान निकालें।  
    Image courtesy: © Getty Images

    दोषारोपण की आदत
  • 7

    जरूरत से ज्यादा आत्मविश्वास

    आत्मविश्वास होना बेहद जरूरी होता है, लेकिन यह हजरूरत से ज्यादा हो जाए तो यह आत्मविश्वास नहीं रहता। फिर यह अहंकार बन जाता है। जो आपको आपके लिए सही चीज का चुनाव करने में बाधा उत्पन्न करता है। इसलिए खुल कर सोचें और आत्मविश्वास को अहंकार रूपी बाधा न बनने दें।   
    Image courtesy: © Getty Images

    जरूरत से ज्यादा आत्मविश्वास
  • 8

    लोग क्या सोचेंगे, इसका डर

    क्या आप लोगों द्वारा खुद को न स्वीकारे जाने या निंदा किये जाने के डर के साये में जीते हैं? यहीं जवाब हां है तो ये आपके लिए एक बड़ी बाधा है। बेहतर होगा कि आप कड़ी मेहनत करें और अपना श्रेष्ट दें। यकीन मानिये जब आप मेहनत कर बेहतर काम करते हैं तो लोगों को कभी न कभी आपके काम का लोहा मानना ही पड़ता है।  
    Image courtesy: © Getty Images

    लोग क्या सोचेंगे, इसका डर
  • 9

    असफलता से डर

    क्या आपको असफला से डर लगता है? लेकिन ऐसा पहले ही सोच लेने से आप एक प्रकार से काम करने से पूर्व ही हार मान रहे होते हैं। असफलता, सफल होना सिखाती है। बड़े-बड़े लोगों ने असफलता का स्वाद चख कर ही सफल होना सीखा है। तो बेहतर होगा की मेहनत की जाए और असफलता को एक सीख की तरह लेकर सफलता की ओर अपने कदम मजबूत किये जाएं।
    Image courtesy: © Getty Images

    असफलता से डर
Load More
X
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर