हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

इन तरीकों से बच्‍चों को सिखायें प्रकृति के साथ जीना

By:Gayatree Verma , Onlymyhealth Editorial Team,Date:Oct 14, 2015
प्रकृति के साथ पलना-बढ़ना शायद बीते जमाने की बात हो चुकी है, लेकिन इन बातों का ध्‍यान रख बच्‍चों को प्रकृति के करीब ला सकते हैं, आइए हम बताते हैं बच्‍चों को प्रकृति के साथ जीना कैसे सिखायें।
  • 1

    बच्‍चे और प्रकृति

    अब टीवी बंद करने और अपने चिंटू-मिंटू के हाथ से स्मार्टफोन लेने का वक्त आ गया है। आज बच्चों के बेस्ट फ्रैंड उनके फोन बन गए हैं जो कि उनके शरीर और दिमाग पर गहरा असर डाल रहे हैं। इन स्मार्टफोन और टीवी व अन्य तकनीकों की वजह से बच्चे प्रकृति से दूर जा रहे हैं। इससे समय से पहले ही बच्‍चों में कई तरह की बीमारी देखी जा सकती है। प्रकृति के करीब रहना मतलब बीमारियों से दूर रहना। अगर आप अपने बच्‍चों को प्रकृति के करीब ले जायेंगे तो वे शारीरिक और मानसिक रूप से स्‍वस्‍थ रहेंगे। आइए हम आपको बताते हैं कि अपने बच्‍चों को प्रकृति के साथ जीना सिखायें।

    बच्‍चे और प्रकृति
  • 2

    वॉक है जरूरी

    सुबह और शाम को छह बजे अपने बच्चों के साथ एक लॉन्ग वॉक पर निकलें। अगर पार्क या सुनसान रास्तों को, जहां सड़क किनारे में पेड़ लगे हैं, चुनते हैं तो ज्यादा बेहतर होगा। इससे आप लोगों को प्रकृति के करीब जाने का मौका मिलेगा और आपको स्वच्छ ऑक्सीजन मिलेगी। सुबह और शाम की यह लॉन्ग वॉक आपके माइंड को रिफ्रेश करने में मदद करेगी।

    वॉक है जरूरी
  • 3

    खेतों में जाएं

    अभी वह समय है जब सारे फसल पक गए हैं और नई-नई सब्जियों से खेत लद गए हैं। खेत के ये दृश्य देखने में ही काफी मनोरम लगते हैं जो आंखों और दिमाग को बहुत सुकुन पहुंचाएंगे। तो देर न करें और अपने बच्चों को पास के ही फार्म में ले जाएं। बच्चों को भी प्रकृति की अहमियत पता चल जाएगी।

    खेतों में जाएं
  • 4

    सूखे पत्तों पर कूदें

    याद है, बचपन में पतझड़ के मौसम में जो पत्ते झड़ते थे उसको एक जगह इकट्ठा कर आप उस पर कूदा करते थे। अब फिर से यही चीज करिए। लेकिन इस बार अपने बच्चों के साथ करिए और खुद भी एक बार बच्चा बन जाइए। बच्चों को पत्तों के इस गट्ठर पर कूदना और आपका ये नया रुप दोनों अच्छा लगेगा।

    सूखे पत्तों पर कूदें
  • 5

    पेड़ों पर चढ़ना सिखायें

    आज के अधिकतर बच्चे शायद ही कभी पेड़ पर चढ़े होंगे। ऐसे में उन्हें पेड़ पर चढ़ाइए। प्लीज गिरने का डर मत रखिये। क्या आप पहली बार पेड़ पर चढ़े थे तो गिरे थे? और अगर गिरे भी थे तो कितनी चोट लगी थी? चोट लगना अच्छी बात है औऱ वो तुरंत ठीक हो जाएगी। इसलिए पेड़ों पर खुद भी चढ़े और बच्चों को भी चढ़ाएं।

    पेड़ों पर चढ़ना सिखायें
  • 6

    पिकनिक पर जाएं

    ठंड आ रही है और इससे पहले की कड़ाके की ठंड आ जाए, उससे पहले बच्चों को लेकर पास के ही जंगल (जो सुरक्षित हो और जहां लोग जाते हो) में पिकनिक मनाने चले जाए। वहां हर काम का बंटवारा करे। एक जरूरी बात कि अपने बच्चों के फोन और विडियोगेम घर पर ही रख दें और गुल्ली डंडा खेलने के लिए रख लें।

    पिकनिक पर जाएं
  • 7

    तारे गिनना

    मौसम का बदलाव रात के अंधेरे में भी बदलाव लाता है। हर मौसम की रातें अलग-अलग होती हैं जिसके बारे में शायद ही बच्चों को पता हो। ऐसे में बच्चों को आकाश में रात में आ रहे बदलावों के बारे में पढ़ाएं और साथ ही रात को छत में जाकर इसका प्रेक्टिकल भी कर के दिखाएं। गर्मी की रात, सर्दी की रातों से अलग होती हैं। सर्दी की रातों में आसमान साफ नजर आता है।

    तारे गिनना
Load More
X
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर