हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

इनडोर साइकिलिंग के बारे में इन बातों से अनजान हैं आप

By:Rahul Sharma, Onlymyhealth Editorial Team,Date:Sep 11, 2015
हर इंसान आउट डोर साइकलिंग नहीं कर पाता है। ऐसे में सबसे बेहतर विकल्प होता है इनडोर साइकलिंग करना। लेकिन इनडोर साइकिलिंग के भी कुछ तौर-तरीके होते हैं।
  • 1

    इनडोर साइकिलिंग के बारे जरूरी बातें

     
    साइकिलिंग करना कमाल की कार्डियो एक्सरसाइज होती है। लेकिन हर इंसान आउट डोर साइकलिंग नहीं कर पाता है। ऐसे में सबसे बेहतर विकल्प होता है इनडोर साइकलिंग करना। लेकिन इनडोर साइकिलिंग के भी कुछ तौर-तरीके होते हैं। चलिये आज आपको इनडोर साइकिलिंग के बारे में कुछ आवश्यक बातें बताते हैं।
    Images source : © Getty Images

    इनडोर साइकिलिंग के बारे जरूरी बातें
  • 2

    कभी बहुत थकान तो कभी बहुत एनर्जी

     
    इनडोर साइकलिंग करते हुए किसी दिन तो हो सकता है आपको ऐसा लगे की आप किसी सीधे पहाड़ पर साइकल को खींच रहे हैं, और किसी दिन आपको ऐसा भी लग सकता है कि आप मानों साइकल से पूरी दुनिया घूम सकते हैं। ये पूसी तरह सामान्य है, क्योंकि किसी किसी दिन आपकी ऊर्जा कम होती है तो किसी किसी दिन बहुत ज्यादा।
    Images source : © Getty Images

    कभी बहुत थकान तो कभी बहुत एनर्जी
  • 3

    आपको आकर्षक होने का अहसास कराए

     
    जब आप मंद सी लाइट वाले वर्कआउट रूम में किसी कमाल के ट्रेक पर फिट एक्सरसाइज कोस्ट्यूम में साइकलिंग कर रहे होते/होती हैं और पसीने में आपकी स्किन दमक सी सही होती है और आपको खुद के बेहद आकर्षक होने का अहसास होता है।
    Images source : © Getty Images

    आपको आकर्षक होने का अहसास कराए
  • 4

    आपकी तशरीफ़ दर्द कर सकती है


    लगातार इंनडोर साइकलिंग के बाद आपकी तशरीफ़ बाद में थोड़ा दर्द महसूस कर सकती है, खासतौर पर तक जबकि आपने हाल में ही इनडोर साइकलिंग की शुरुआत की हो। लेकिन यह पूरी तरह सामान्य है। साइकलिंग के बाद थोड़ा स्ट्रेच कर आप इस तकलीफ से निजात पा सकते हैं।
    Images source : © Getty Images

    आपकी तशरीफ़ दर्द कर सकती है
  • 5

    साइकलिंग के बाद स्ट्रेच करें

     
    जब आप साइकिल चलाते हैं या फिर शरीर के निचले हिस्से की एक्सरसाइज के लिए किसी मशीन आदि का इस्तेमाल करते हैं तो उस समय आपके क्वाड्रिसेप्स क्रियाशील होते हैं। जब यह मांसपेशियां मजबूत हो जाती हैं, तो घुटनों या कूल्हों के आसपास के क्षेत्र में चोट लगने का जोखिम भी अधिक हो जाता है, इसलिये स्ट्रेच जरूरी हो जाता है।
    Images source : © Getty Images

     साइकलिंग के बाद स्ट्रेच करें
Load More
X
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर