हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

जॉब से संबंधित तनाव के प्रकार

By:Rahul Sharma, Onlymyhealth Editorial Team,Date:Oct 14, 2014
यदि आप अपने काम से बोर हो रहे हैं, पहले की तरह काम में बेहतर प्रदर्शन नहीं कर पा रहे हैं तो संभवतः आप जॉब स्ट्रेस का शिकार हो रहे हैं। जॉब से संबंधित तनाव कई प्रकार के होते हैं।
  • 1

    जॉब बर्नआउट और वर्क स्ट्रेस

    यदि आप अपने काम से बोर हो रहे हैं, पहले की तरह खुद को अपने काम से जोड़कर नहीं देख पा रहे हैं, जिस जुनून के साथ आप पहले काम करते थे, अब वह आपमें झुंझलाहट का कारण बनता जा रहा है, तो तो इसका अर्थ है कि आप जॉब बर्नआउट (थकान) या जॉब स्ट्रेस का शिकार हो रहे हैं। काम से संबंधित तनाव किसी व्यक्ति की कार्यकुशलता को प्रभावित करता है। कई लोग तो अक्सर इसके कारण अपनी नौकरी छोड़ने तक का मन भी बना लेते हैं। जॉब से संबंधित तनाव कई प्रकार के होते हैं, गंभीर परिणामों से बचने के लिए इन्हें पहचानना और इनका निदान करना जरूरी होता है। तो चलिये जानें जॉब से संबंधित तनाव के प्रकार और इनके निदान के बारे में।
    Image courtesy: © Getty Images

    जॉब बर्नआउट और वर्क स्ट्रेस
  • 2

    सभी तनाव एक से नहीं

    अमेरिकन इंस्टिट्यूट ऑफ़ स्ट्रेस के प्रेजिडेंट पॉल जे रोश के अनुसार, तनाव नसों को अस्तव्यस्त कर सकता है और हृदय रोग और अवसाद जैसी स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बन सकता है। रोश के अनुसार लगातार काम का तनाव शारीरिक और भावनात्मक स्वास्थ्य दोनों के लिए खतरा बन सकता है। इसलिए अपने तनाव के कारण को ढूंढना, इससे लड़ाने का पहला कदम होता है। सौभाग्य से, विशेषज्ञों ने ऐसे कुछ विशिष्ट कार्य स्थितियों की पहचान की है, जो आपको तनाव में डाल सकती हैं।
    Image courtesy: © Getty Images

    सभी तनाव एक से नहीं
  • 3

    ओवरवर्क अंडरलाइंग (Overworked underling)

    यदि आप काम मिलने से दफ्तर छोड़ने तक व्यस्थ रहते हैं, और आप किसी और के समय निर्धारण पर चलते हैं। तो ये तनाव का कारण बन सकता है। इस प्रकार की जॉब मनोवैज्ञानिक तनाव कारण बन सकती हैं। शोध बताते हैं कि इस प्राकार के तनाव से बचने के लिए आपको अपने निर्णय लेने की काबिलियत को बढ़ाना चाहिए।
    Image courtesy: © Getty Images

    ओवरवर्क अंडरलाइंग (Overworked underling)
  • 4

    असंतुष्टी (Frustrated go-getter)

    जब आप अपनी पूरी क्षमता से काम करते हैं, लेकिन आपको लगता है कि आपको अपने काम का पर्याप्त क्रेडिट या मेहनताना नहीं मिल रहा है तो यह एक प्रकार का तनाव पैदा करता है। तो ऐसे में अपने बॉस के साथ अपने कैरियर के लक्ष्यों पर चर्चा करने की कोशिश करें। हो सकता है कि इससे आपको पर्याप्त क्रेडिट या मुआवजा न मिले, लेकिन आप अपनी स्थिति और दृष्टिकोण में सुधार करने के बारे में कुछ जानकारी जरूर हासिल कर पाएंगे और तनाव भी कम कर पाएंगे।
    Image courtesy: © Getty Images

    असंतुष्टी (Frustrated go-getter)
  • 5

    बेकारी (Castaway)

    यदि आप जॉब में खुद को अकेले और नाखुश महसूस करते हैं। और आपको अपने बॉस द्वारा उचित मदद या मार्गदर्शन नहीं मिल रहा है तो यह भी एक प्रकार का तनाव पैदा करता है। तो ऐसे में अपनी पर व्यावहारिक और भावनात्मक दोनों आवश्यकताओं पर काम करें।
    यदि आप अपने बॉस की मदद चाहते हैं, तो इस पर खुल कर बात करें और सहकर्मियों की मदद भी लें।
    Image courtesy: © Getty Images

    बेकारी (Castaway)
  • 6

    टेक प्रिज़नर (Tech prisoner)

    नई टेक्नोलॉजी के आने और आपके मल्टीमीडिया फोन और कंपनी के लैपटॉप के चलते आप चौबीस घंटे बॉस और काम की पहुंच में रहते हैं। जिस कारण अपनी निजी जिंदगी पर प्रभाव पड़ता है और आपको तनाव होता है। इससे बचने के लिए समय से काम करें और बाकी समय इन चीजों को बंद कर अपनी निजी जिंदगी जियें। दफ्तर को दफ्तर में ही रहने दें।
    Image courtesy: © Getty Images

    टेक प्रिज़नर (Tech prisoner)
  • 7

    डोरमेट (Doormat)

    यदि आप बहुत ज्यादा डिमांडिंग और गुस्सैल ग्राहकों के साथ व्यवसाय करते हैं, लेकिन नौकरी की गरिमा को बचाने के लिए सारा गुस्सा पी कर रह जाते हैं, तो यह भी एक प्रकार का तनाव पैदा करता है। यदि आप ग्राहकों से संतुष्ट नहीं कर पा रहे हैं तो तनाव से बचने के लिए अपने बॉस को इस प्रकार के मामलों से निपटने के लिए एक अतिरिक्त प्रशिक्षण का अनुरोध करें। इससे आप हतोत्साहित हुए बिना ही बेहतर काम कार पाएंगे।   
    Image courtesy: © Getty Images

    डोरमेट (Doormat)
  • 8

    ओईसीडी की रिपोर्ट

    आर्थिक सहयोग और विकास संगठन (ओईसीडी) की एक रिपोर्ट के मुताबिक दुनिया भर में हर पांच में से एक कामकाजी इंसान तनाव या किसी अन्य मानसिक तकलीफ से जूझ रहा होता है। इससे उसके काम पर बुरा प्रभाव पड़ता है।
    Image courtesy: © Getty Images

    ओईसीडी की रिपोर्ट
Load More
X
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर