हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

सुरक्षित सेक्स और यौन स्वास्थ्य के बारे में 10 मिथ

By: ओन्लीमाईहैल्थ लेखक, Onlymyhealth Editorial Team,Date:Jan 13, 2014
यौन स्‍वास्‍थ्‍य और सुरक्षित सेक्‍स के बारे में हमेशा लोगों के मन में मिथ होते हैं, यौन स्‍वास्‍थ्‍य को लेकर हमेशा मतभेद होता है।
  • 1

    यौन संबंधित मिथक

    यौन स्‍वास्‍थ्‍य और सुरक्षित सेक्‍स के बारे में हमेशा लोगों के मन में मिथ होते हैं। कुछ लोगों को लगता है कि यौन संचारित रोगों को लगता है कि टॉयलेट सीट पर होने वाले संक्रमण से भी यौन रोग हो सकता है। और कुछ को लगता है कि पहली बार सेक्‍स करने से गर्भधारण नहीं होता। आपके इन्‍हीं मिथ के बारे में हम आपको स्‍लाइडशो में बता रहे हैं।

    यौन संबंधित मिथक
  • 2

    टॉयलेट शीट और एसटीडीज

    यौन संचारित रोग संक्रमण से फैलते हैं। ये बीमारी असुरक्षित यौन संबंधों से फैलती है। इसके बैक्‍टीरिया शरीर के बाहर नहीं पनपते। हालांकि ये बीमारियां एक व्‍यक्ति के दूसरे में फैल सकती हैं, लेकिन टॉयलेट सीट एसटीडीज के लिए बिलकुल भी जिम्‍मेदार नहीं होती। यदि इस संक्रमण से ग्रस्‍त किसी व्‍यक्ति ने आपका टॉयलेट प्रयोग किया है और उसके तुरंत बाद आप भी उस बाथरूम का प्रयोग कर रहे हैं तो आपके संक्रमित होने का खतरा जरूर हो सकता है।

    टॉयलेट शीट और एसटीडीज
  • 3

    पहली बार सेक्‍स और गर्भधारण

    लोगों के अंदर यह भावना रहती है कि पहली बार सेक्‍स करने से गर्भधारण की संभावना कम होती है। जबकि सच यह है कि आपने सही समय पर सेक्‍स किया है तो आप गर्भधारण कर सकती हैं, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि वह पहली बार है या दूसरी बार। ओव्‍यूलेशन का वक्‍त गर्भधारण के लिए होता है, यदि आपने इस दौरान सेक्‍स संबंध बनाये हैं तो गर्भधारण की संभावना रहती है।

    पहली बार सेक्‍स और गर्भधारण
  • 4

    पीरियड और गर्भधारण

    कुछ महिलाओं को लगता है कि पीरियड्स के दौरान सेक्‍स संबंध बनाने से गर्भधारण की संभावना कम होती है। जबकि सच्‍चाई यह है कि आपने यदि पीरियड के समय असुरक्षि‍त यौन संबंध बनाये हैं तो आप गर्भवती हो सकती हैं। कुछ महिलाओं का पीरियड का समय अधिक होता है, जो ओव्‍यूलेशन की शुरूआत तक जा सकता है। ऐसे में आपके द्वारा बनाया गया सेक्‍स संबंध प्रेग्‍नेंसी का कारण बन सकता है।

    पीरियड और गर्भधारण
  • 5

    ओरल सेक्‍स खतरनाक नहीं

    ओरल सेक्‍स करने से कोई खतरा नहीं होता, इस बात का भ्रम लोगों में हमेशा रहता है, जबकि ओरल सेक्‍स बीमारियों को फैलाने के लिए जिम्‍मेदार है। ओरल सेक्‍स से सेक्‍सुअली ट्रांसमिटेड बीमारियों के फैलने का ज्‍यादा खतरा होता है। ओरल सेक्‍स के दौरान अगर मुंह या गले में कही कटा हो तो इससे यौन रोगों के फैलने का खतरा होता है। कुछ लोगों को तो इससे कैंसर तक हो सकता है।

    ओरल सेक्‍स खतरनाक नहीं
  • 6

    फोरप्‍ले नही करना चाहिए

    कुछ लोग सेक्‍स के दौरान फोरप्‍ले को सही नहीं मानते, जबकि सेक्‍स का आनंद लेने के लिए फोरप्‍ले बहुत जरूरी है। फोरप्‍ले के सही तरीके अपनाकर आप अपने पार्टनर को खुश कर सकते हैं।

    फोरप्‍ले नही करना चाहिए
  • 7

    प्रीमेच्‍योर इजेकुलेशन बीमारी नहीं

    समय से पहले शुक्राणुओं का निकलना यानी शीघ्रपतन यौन संबंधित बीमारी है, जो पुरूषों में सबसे सामान्‍य है। सेक्‍स के लिए तैयार होते वक्‍त फोरप्‍ले के दौरान ही अगर सीमन बाहर आता है तो इसे प्रीमेच्‍योर इजेकुलेशन कहते हैं। ऐसी स्थिति में पुरूष अपनी महिला पार्टनर को संतुष्‍ट नही कर पाता है। इसकी वजह से सेक्‍स की इच्‍छा में कमी भी हो सकती है।

    प्रीमेच्‍योर इजेकुलेशन बीमारी नहीं
  • 8

    सेक्‍स क्षमता बढ़ाने वाली दवायें

    यह भी भ्रम है कि सेक्‍स के दौरान सेक्‍स पॉवर बढ़ाने वाली दवाओं का प्रयोग करना चाहिए। बाजारों में मिलने वाली विभिन्‍न प्रकार की दवाओं का प्रयोग करके कुछ समय के लिए आप अपनी सेक्‍स क्षमता को बढ़ा सकते हैं लेकिन इन दवाओं का साइड इफेक्‍ट ज्‍यादा होता है। इसलिए इन दवाओं का प्रयोग न करें। इसके कारण तनाव, सिरदर्द, हल्‍का बुखार और चकत्‍ते पड़ सकते हैं।

    सेक्‍स क्षमता बढ़ाने वाली दवायें
  • 9

    गर्भावस्‍था के दौरान सेक्‍स न करें

    गर्भवती महिलायें गर्भधारण के बाद सेक्‍स करने से बचती हैं, इसके पीछे उनकी मान्‍यता होती है कि इससे बच्‍चे को चोट लग सकती है। जबकि सच यह है कि गर्भावस्‍था के दौरान भी सेक्‍स संबंध बनाये जा सकते हैं। लेकिन गर्भावस्‍था की निश्चित अवधि के बाद सेक्‍स संबंध बिलकुल नही बनाने चाहिए।

    गर्भावस्‍था के दौरान सेक्‍स न करें
  • 10

    मीनोपॉज के बाद सेक्‍स लाइफ समाप्‍त

    महिलाओं को यह लगता है कि मीनोपॉज के बाद महिलाओं की सेक्‍स लाइफ समाप्‍त हो जाती है। जबकि मीनोपॉज के बाद भी महिलाएं सेक्‍स संबंध बना सकती हैं। मीनोपॉज बंद होने का मतलब यह नही कि महिलाओं की सेक्‍स लाइफ समाप्‍त हो गई।

    मीनोपॉज के बाद सेक्‍स लाइफ समाप्‍त
  • 11

    खान-पान और सेक्‍स

    कुछ लोगों को लगता है कि खानपान का सेक्‍स लाइफ पर कोई असर नहीं पड़ता, जबकि सच यह है कि खानपान सेहत के साथ-साथ सेक्‍स लाइफ पर भी असर डालता है। वास्‍तविक यह है कि सेक्‍स पॉवर आपकी डाइट चार्ट पर निर्भर करती है। अगर आप हेल्‍थी और पोषणयुक्‍त आहार का सेवन करते हैं तो आपकी सेक्‍स पॉवर ज्‍यादा होगी।

    खान-पान और सेक्‍स
Load More
X