हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

फुल क्रीम बनाम टोन्ड दूध

By:Rahul Sharma, Onlymyhealth Editorial Team,Date:Oct 07, 2014
दूध कई रूपों जैसे, टोन्ड, फुल क्रीम, डबल टोन्ड और या फिर स्किम्ड में आता है। टोन्ड, फुल क्रीम ही इनमें प्रमुख होते हैं। लेकिन अक्सर लोग जानना चाहते हैं कि इनमें क्या भेद है और कौंन सा दूध पीना चाहिए।
  • 1

    फुल क्रीम बनाम टोन्ड दूध

    दूध सबसे महत्वपूर्ण भोजन में से एक है। इसलिए हमें दूध पीना बंद नहीं करना चाहिए। यह कैल्शियम का एक बड़ा स्रोत होता है, जो स्वस्थ हड्डियों के लिए आवश्यक है। और यह अन्य पेय पदार्थों की तरह शुगर और रसायन से भरा भी नहीं होता है (यदि मिलावट न हो तो)। यह बाजार में मुख्यतः दो से तीन रूपों में मिलता है, टोन्ड, फुल क्रीम, डबल टोन्ड और या फिर स्किम्ड। टोन्ड, फुल क्रीम ही इनमें प्रमुख होते हैं। लेकिन अक्सर लोग जानना चाहते हैं कि इनमें क्या भेद है और कौंन सा दूध पीना चाहिए, तो चलिये जानें फुल क्रीम और टोन्ड दूध क्या है, और इनमें क्या फर्क होता है।
    Image courtesy: © Getty Images

    फुल क्रीम बनाम टोन्ड दूध
  • 2

    टोन्ड दूध

    टोंड दूध बनाने की प्रक्रिया में से वसा को केवल एक ही बार निकाला जाता है। यह स्किम पाउडर दूध और पानी का मिश्रण है, जो भैंस के दूध में वसा कम करने के क्रम में मिलाया जाता है। इसमें वसा न्यूनतम 3.0 प्रतिशत शामिल होनी चाहिए। इसके पोषक मूल्य शुद्ध और ताजा गाय के दूध जितने होते हैं। यह विशेष परिस्थितियों, जैसे कुपोषण तथा गर्भावस्था आदि के लिए प्रोटीन का एक उपयोगी स्रोत होता है।
    Image courtesy: © Getty Image

    टोन्ड दूध
  • 3

    किसे पीना चाहिए टोन्ड दूध

    आमतौर पर दुकानों में मिलने वाला टोन्ड दूध, गाय का दूध होता ​​है। शिशुओं या किशोरों के लिए टोन्ड दूध पीने की सिफारिश नहीं की जाती है। क्योंकि यह बच्चों को उनके शरीर को विकसित करने तथा कैलोरी और प्रोटीन की खपत वाली उम्र होती है। इसलिए माताओं को टोन्ड दूध की जगह फूल क्रीम दूध देने की सलाह दी जाती है।
    Image courtesy: © Getty Images

    किसे पीना चाहिए टोन्ड दूध
  • 4

    फुल क्रीम दूध

    फुल क्रीम दूध को होल मिल्क भी कहा जाता है। इसमें से क्रीम को बाहर नहीं निकाला जाता है। इसके अलावा, यह दूध होमाजनाइज़्ड (एकरूप) होता है। फुल क्रीम दूध में दूध वसा का 3.5 प्रतिशत शामिल होता है। यह बच्चों, किशोरों के साथ बॉडी बिल्डर्स के लिए भी बहुत अच्छा होता है। फुल क्रीम दूध, क्रीम से भरा होता है और पीने में अधिक स्वादिष्ट होता है।
    Image courtesy: © Getty Images

    फुल क्रीम दूध
  • 5

    किसे पीना चाहिए फुल क्रीम दूध

    खासतौर पर बच्चों के लिए दूध के किसी और फार्म की तुलना में फुल क्रीम दूध पीना बहुत जरूरी होता है। फुल क्रीम दूध एक स्वच्छ और संतुलित आहार पूरक होता है। यदि आप स्वस्थ वसा और पोषक तत्वों की बड़ी राशि प्राप्त करना चाहते हैं, तो फुल क्रीम दूध सबसे बेहतरीन विकल्प है।
    Image courtesy: © Getty Images

    किसे पीना चाहिए फुल क्रीम दूध
  • 6

    मुख्य अंतर

    टोन्ड दूध भैंस के दूध में से वसा को कम करने के लिए स्किम पाउडर दूध और पानी का मिश्रण होता है। वहीं दूसरी ओर फुल क्रीम अर्थात होल मिल्क में से क्रीम नहीं निकाली जाती है। यह होमाजनाइज़्ड (एकरूप) होता है।
    Image courtesy: © Getty Images

    मुख्य अंतर
  • 7

    फैट और कैलोरी

    टोन्ड दूध में फैट 3.0 प्रतिशत, प्रति ग्लास 120 कैलोरी होती हैं, जबकि फुल क्रीम दूध में फैट 3.5 प्रतिशत तथा प्रति ग्लास कैलोरी 148 होती हैं। इसीलिए इन्हें अलग-अलग आयु व स्वास्थ्य वर्ग के लोगों द्वारा पीने की सलाह दी जाती है।
    Image courtesy: © Getty Images

    फैट और कैलोरी
  • 8

    कोलेस्ट्रॉल

    टोन्ड दूध में कोलेस्ट्रॉल कम मात्रा में होता है। जबकि फुल क्रीम दूध में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा अधिक होती है। टोन्ड दूध के सेवन से कम कोलेस्ट्रॉल की खपत होती है। हालांकि, इसमें फुल क्रीम दूध जितने ही पोषक तत्व होते हैं।
    Image courtesy: © Getty Images

    कोलेस्ट्रॉल
Load More
X
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर