हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

क्या आप जानते हैं कि सेक्स का शरीर पर क्या प्रभाव पड़ता है ?

By:Rahul Sharma, Onlymyhealth Editorial Team,Date:Mar 21, 2014
सेक्स एक ऐसा विषय है जो हमारे जीवन के लिए बहुत अहम है और सेक्स का शरीर पर क्या प्रभाव पड़ता है इसके बारे में सही जानकारी होना हमारे लिए बेहद जरूरी है।
  • 1

    सेक्स और शरीर

    सेक्स ऐसा विषय है जिससे हर इंसान खुद को जुड़ा महसूस करता है। क्योंकि यह विषय हमारे देश में थोड़ा दबा हुआ व छुपाया जाने वाला है, इस कारण लोगों में इसकी सही जानकारी का अभाव है और वे इसके बारे में अधिक जानना चाहते हैं। इसी के चलते सेक्स को लेकर कई गलतफहमियां भी मौजूद हैं। लेकिन असल में तो सेक्स कई लिहाज से फायदेमंद है। वहीं इसके कुछ नुकसान भी हैं। कुछ मिला कर सेक्स से हमारे शरीर और हेल्थ पर काफी असर पड़ता है। चलिए जानते हैं कि शरीर पर सेक्स का क्या प्रभाव पड़ता है।

    सेक्स और शरीर
  • 2

    सेक्स करते रहना सेहत के लिए लाभदायक होता है

    खासतौर पर प्रतिबद्ध और अपने प्यारे साथी के साथ सुरक्षित सेक्स, चिकित्सा स्वास्थ्य लाभ युक्त होता है। यह एक व्यायाम की तरह लाभ प्रदान कर सकता है। ऐसे में बिस्तर एक अच्छी एक्ससाइज मशीन की तरह काम करता है और यौन गतिविधि 200 कैलोरी तक बर्न कर सकता है। सेक्स फिटनेस सुधारने में योगदान करता है।

    सेक्स करते रहना सेहत के लिए लाभदायक होता है
  • 3

    सेक्स शरीर में दर्द भी पैदा कर सकता है

    हां यह जानकारी शायद आपको अच्छी न लगे। लेकिन कभी कभी संभोग के दौरान शरीर दर्द का अनुभव करता है। दर्द के कई कारणों हगो सकते हैं, जैसे योनि का सूखापन, एसटीडी, मूत्र मार्ग में संक्रमण, एन्डोमीट्रीओसिस व कुछ अन्य कारण। यदि सेक्स में दर्द अधिक हो तो तत्काल डॉक्टर से संपर्क करें। रक्त स्राव या सेक्स के बाद दर्द योनि संक्रमण या किसी अन्य समस्या का परिणाम हो सकता है। सेक्स के दौरान पीठ के निचले हिस्से में दर्द भी हो सकता है।

    सेक्स शरीर में दर्द भी पैदा कर सकता है
  • 4

    शरीर के हार्मोन होते हैं प्रभावित

    सेक्स से हमारे जीवन को चार तरह के हार्मोन प्रभावित करते हैं। ये चार हार्मोंन ऑक्सिटोसिन हार्मोन, वैसोप्रेसिन हार्मोन, फेनाइलेथैलामाइलिन हार्मोन तथा टेसेटोस्टेरॉन हार्मोन होते हैं।

    शरीर के हार्मोन होते हैं प्रभावित
  • 5

    ऑक्सिटोसिन हार्मोन का शरार पर प्रभाव

    शोधकर्ताओं द्वारा ऑक्सिटोसिन हार्मोन का शोध करने पर ज्ञात हुआ कि शरीर में मौजूद यह हार्मोन कुछ गौंद की तर ह का होता है, जो पुरुष और स्त्री के बीच आकर्षण पैदै कर उत्तेजित करता है। यह हार्मोन स्त्रियों के स्तनों में दूध बनाने का काम भी करता है। सेक्स करने के बाद जब लिंग में उच्चेजना समाप्त हो जाती है तो उसे दोबारा उच्चेजित करने का काम भी यही ऑक्सिटोसिन हार्मोन ही करता है।

    ऑक्सिटोसिन हार्मोन का शरार पर प्रभाव
  • 6

    वैसोप्रेसिन हार्मोन का शरीर पर प्रभाव

    वैसोप्रेसिन हार्मोन, ऑक्सिटोसिन हार्मोन का ही एक सहायक हार्मोन होता है। शरीर विज्ञान के हिसाब से ऑक्सिटोसिन हार्मोन द्वारा शुरू किए गए काम को वैसोप्रेसिन हार्मोन पूरा करता है। इंसान के भीतर वैसोप्रेसिन हार्मोन ही है जो पुरुष को पुरुष और पति और महिला को पत्नि होने का जोरदार अहसास कराता है। इंसानों के अलावा जानवरों में यह हार्मोंन उन्हें उनका साथी चुनने में मदद करता है।

    वैसोप्रेसिन हार्मोन का शरीर पर प्रभाव
  • 7

    फेनाइलेथैलामाइलिन हार्मोन का शरीर पर प्रभाव

    शोधकर्ताओं के अनुसार फेनाइलेथैलामाइलिन हमारे शरीर में मौजूद एक जैव सक्रिय रसायन होता है। यह इंसान की इच्छाओं में बदलाव लाने का काम करता है। पुरुष व महिला के मन में सेक्स के लिए इच्छा और उत्तेजना पैदा करने के लिए यह हार्मोन ही उत्तरदायी होता है।

    फेनाइलेथैलामाइलिन हार्मोन का शरीर पर प्रभाव
  • 8

    टेसेटोस्टेरॉन हार्मोन का शरीर पर प्रभाव

    टेसेटोस्टेरॉन हार्मोन का निर्माण शरीर में युवा होने के साथ ही शुरू हो जाता है। जबकि कुछ शोधकर्ता मानते हैं कि इसका निर्माण गर्भावस्था से ही शुरू हो जात है और युवा होने पर यह पूरी तरह सक्रीय हो जाता है। इस कारण ही लड़के-लड़कियां देखते ही देखते बड़े होने लगते हैं। किशओर से युवावस्था में प्रवेश करने की प्रक्रिया 10 से 12 साल की उम्र में ही शुरू हो जाती है। इस आयु में टेसेटोस्टेरॉन हार्मोन के कारण ही यौनांगों का विकास होने लगता है। कुछ अध्ययन बताते हैं कि लड़कों में टेसेटोस्टेरॉन हार्मोन का स्तर लड़कियों कि तुलना में 20 गुना तक अधिक होता है। टेसेटोस्टेरॉन हार्मोन लड़को के अंडकोषों में और लड़कियों के अधिवृक्क ग्रंथी में होता है।

    टेसेटोस्टेरॉन हार्मोन का शरीर पर प्रभाव
  • 9

    ब्लड प्रेशर करे काबू और तनाव करे कम

    स्कॉटलैंड के एक रिसर्च के अनुसार सेक्स से ब्लड प्रेशर सामान्य रहता है और तनाव में भी कमी आती है। 24 महिलाओं और 22 पुरुषों पर की गई इस स्टडी में पाया गया कि जो लोग रेगुलर सेक्स करते थे उनमें तनाव कम था। एक दूसरे अध्ययन के मुताबिक सेक्स करते रहने से ब्लड प्रेशर को काबू करने में सहायता मिलती है।

    ब्लड प्रेशर करे काबू और तनाव करे कम
  • 10

    मजबूत होता है इम्यून सिस्टम और बढ़ता है मेटोबॉलिजम

    नियमित व सुरक्षित सेक्स करने से इम्यून सिस्टम मजबूत होता है। गौरतलब है कि कमजोर इम्यून सिस्टम होने से बीमारियों से पीड़ित होने का खतरा बढ़ जाता है। दरअसल इंटरकोर्स के दौरान शरीर से डीएचईए नामक हॉर्मोन निकलता है जो शरीर के इम्यून सिस्टम को बढ़ाता है। साथ ही सेक्स हार्ट रेट और सर्कुलेशन को बढ़ाता है। जो शरीर के मेटाबॉलिजम को बेहतर बनाता है।

    मजबूत होता है इम्यून सिस्टम और बढ़ता है मेटोबॉलिजम
  • 11

    दिल के लिए फायदेमंद

    भारतीयों में दिल की बीमारी काफी आम है। लेकिन शोध बताते हैं कि सेक्स से दिल की बीमारी से बचा सकता है। नियमित रूप से सेक्स करने वाले लोगों में दिल की बीमारी का खतरा कम हो जाता है। सेक्स से शरीर में कॉलेस्ट्रॉल की मात्रा घटती है, जिससे हार्ट अटैक का खतरा काम हो जाता है।

    दिल के लिए फायदेमंद
Load More
X