हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

ये 8 दवायें बढ़ा सकती हैं आपका वजन

By:Shipli Morya, Onlymyhealth Editorial Team,Date:Jun 11, 2015
किसी बीमारी के उपचार के दौरान या फिर सामान्‍य समस्‍या होने पर आप इन दवाओं का सेवन करते हैं, क्‍या आपको पता है कुछ दवायें ऐसी भी हैं जिनके सेवन से वजन बढ़ सकता है।
  • 1

    दवाओं से क्‍यों बढ़ता है वजन

    मधुमेह, उच्च रक्तचाप और अवसाद के इलाज के लिए दी जा रही दवाएं वजन बढ़ने का कारण हो सकती हैं। नीचे हम वैसी 10 दवाओं के बारे में बता रहे हैं जो आपके वजन को बढ़ा सकती हैं लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि आप अपनी दवाएं (संभवतः जीवन रक्षक दवाएं) लेना बंद कर दें। विस्‍तार से जानिये।

    Image Source - Getty Images

    दवाओं से क्‍यों बढ़ता है वजन
  • 2

    पॉक्सिल (पारोक्सेटीन)

    इसका इस्तेमाल बेचैनी/ चिंता को दूर करने के लिए किया जाता है। आमतौर पर इसके सेवन से वजन नहीं बढ़ता लेकिन अगर इसके सेवन के दौरान आपका वजन बढ़ने लगता है तो आपको डॉक्टर से इसे बदलने के बारे में बात करनी चाहिए।

    Image Source - Getty Images

    पॉक्सिल (पारोक्सेटीन)
  • 3

    डेपाकोटे

    दूसरी दवा है डेपाकोटे, जिसका इस्तेमाल बाइपोलर बीमारियों और माइग्रेन के इलाज में किया जाता है। इस दवा को भी नियमित रूप से खाने पर वजन बढ़ने लगता है। बाइपोलर बीमारियों के लिए इस दवा का विकल्प बाजार में उपलब्ध है जो आपके वजन को अपेक्षाकृत कम बढ़ने देंगी।

    Image Source - Getty Images

    डेपाकोटे
  • 4

    प्रोजैक

    तीसरी दवा है प्रोजैक (फ्लूओएक्सटाइन), हालांकि प्रोजैक दवा आमतौर पर वजन घटाने से संबंधित होता है लेकिन अगर इसे बहुत लंबे समय तक लिया जाता रहा तो इसका असर उल्टा भी हो सकता है और आपके वजन को बढ़ाने लग सकता है।

    Image Source - Getty Images

    प्रोजैक
  • 5

    रेमेरॉन

    यह अवसाद से मुक्त करने वाली दवा है जो मरीज के शरीर में सेरोटोनिन और नोरेपीनेफ्रिन को बढ़ा देता है। ये दोनों ही तत्व वजन को कम करने से जुड़े हैं। फिर भी इस दवा की वजह से वजन बढ़ भी सकता है।

    Image Source - Getty Images

    रेमेरॉन
  • 6

    जाईप्रेक्सा और क्लोजारिल (क्लोजापाइन)

    ये असामान्य एंटीसाइकोटिक दवाएं जिनका इस्तेमाल पागलपन और बाइपोलर बीमारियों को ठीक करने में किया जाता है, आपके वजन को बढ़ा सकती हैं। शोध के मुताबिक जाइप्रेक्सा का सेवन करने वाले 30 फीसदी लोगों का वजन 18 महीनों के भीतर ही बढ़ गया।

    Image Source - Getty Images

    जाईप्रेक्सा और क्लोजारिल (क्लोजापाइन)
  • 7

    डेल्टास्टोन

    मुंह से लिए जाने वाली दवा सांस से लिए जाने वाले रूप की तुलना में अधिक जोखिम भरी होती है। अगर इनका इस्तेमाल मुंह से लिए जाने वाली दवा के तौर पर लंबे समय तक किया जाए तो इससे वजन बढ़ने का रिस्क बहुत बढ़ जाता है। डॉक्टरों का कहना है कि स्टेरॉयड के काफी लंबे समय तक सेवन के साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं लेकिन व्यायाम,खान– पान और कुछ मामलों में मेटफॉर्मिन लेने से वजन कम करने में मदद मिल सकती है।

    Image Source - Getty Images

    डेल्टास्टोन
  • 8

    ट्राइसाइक्लिक

    एंटीडिप्रेसेंट जैसे एमिट्रिप्टाइलिन जैसी दवाएं अवसाद से मुक्ति दिलाने वाली अन्य दवाओँ की तुलना में वजन को अधिक बढ़ाती हैं। डॉक्टर अपने मरीजों के इलाज के लिए इन दवाओं का बहुत ही कम इस्तेमाल करते हैं क्योंकि इसके अधिक सेवन से मरीज के दिल को नुकसान पहुंच सकता है।

    Image Source - Getty Images

    ट्राइसाइक्लिक
  • 9

    एलेग्रा (फेक्सोफेनाडाइन और स्यूडोफेड्राइन)

    मनोरोग की दवाओं में एंटीहिस्टेमान गतिविधि की वजह से अक्सर वजन बढ़ जाता है। हेस्टामाइन को ब्लॉक कर देने से मस्तिष्क में उस एंजाइम का पहुंचना रूक सकता है जिससे खाने की खपत को विनियमित करने में मदद मिलती है।

    Image Source - Getty Images

    एलेग्रा (फेक्सोफेनाडाइन और स्यूडोफेड्राइन)
Load More
X
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर