हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

पैर व टखनों में सूजन के कारण

By:Shabnam Khan , Onlymyhealth Editorial Team,Date:Dec 18, 2014
पैर व टखनों की सूजन किसी को कभी भी हो सकती है। ये समस्या बहुत दर्दभरी होती है। इसके कई कारण हो सकते हैं। सर्दी की वजह से, गर्भावस्था में, पैर व टखने की चोट लगने पर या फिर इन्फेक्शन आदि से पैरों में सूजन हो जाती है।
  • 1

    पैर व टखनों में सूजन की समस्या

    पैर व टखनों की सूजन एक दर्दभरी समस्या है। ये समस्या किसी भी उम्र में हो सकती है। इस स्थिति में पीड़ित व्यक्ति को काफी तकलीफ का सामना करना पड़ता है। इसमें पैर, खासतौर पर टखनों और एड़ियों के आसपास सूजन, लालिमा और जलन हो जाती है। ये सूजन की समस्या किसी भी मौसम में हो सकती है लेकिन सर्दियों में ये समस्या और अधिक बढ़ जाती है। इसके अलावा, कई और कारणों से ये सूजन की समस्या होती हैं। आइये पैरों व टखनों की सूजन के इन कारणों पर थोड़ा विस्तार से चर्चा करते हैं।

    Image Source - Getty Images

    पैर व टखनों में सूजन की समस्या
  • 2

    सर्दी से सूजन

    सर्दियों में पैरों, खासतौर पर पैर की उंगलियों पर लाल निशान बनने या खुजली के साथ सूजन आने की समस्या काफी आम है। चिलब्लेंस नामक यह बीमारी सर्दियों में नंगे पैर घूमने या तापमान में अचानक बदलाव से होती है। हालांकि सर्दियों में यह सामान्य बीमारी है, लेकिन ध्यान नहीं देने पर कष्टदायक हो सकती है। यह एक कनेक्टिव टिश्यूज डिजीज है। साधारण उपाय करके इससे बचा जा सकता है। सर्दी से बचाव रखें, दस्ताने व मोजे पहने। धूप में ही बाहर निकलें, सिंकाई करें।

    Image Source - Getty Images

    सर्दी से सूजन
  • 3

    गर्भावस्था की समस्या

    गर्भावस्था में टखने और पैर की सूजन आम समस्या है। हालांकि अचानक सूजन आया, या अत्यधिक सूजन आना किसी गंभीर समस्या की वजह से हो सकती है। ब्लड प्रेशर के बढ़ जाने, या गर्भावस्था के 20 हफ्तों के बाद यूरीन में प्रोटीन बढ़ जाने से ये समस्या हो सकती है। अगर टखने और पैर की सूजन के साथ साथ, पेट में दर्द, सिरदर्द, बार-बार मूत्र त्यागने, उल्टी व मतली की समस्या भी हो तो तुंरत चिकित्सक की सलाह लें।

    Image Source - Getty Images

    गर्भावस्था की समस्या
  • 4

    पैर या टखने की चोट

    पैर या टखने की चोट के कारण भी उस स्थान पर सूजन की समस्या हो सकती है। सबसे आम है टखने की मोच। ये तब होती है जब टखना गलत तरह से मुड़ जाता है। मोच या पैर की अन्य चोटों के कारण आई सूजन की समस्या से निपटने के लिए आराम सबसे अधिक जरूरी है। बर्फ की सिकाई और टखने को कंप्रैशन बेंडेज से बांधने से इस समस्या में राहत मिल सकती है। अगर ऐसा करने से भी आराम न हो, और सूजन बढ़ जाए तो चिकित्सक के पास जरूर जाएं।

    Image Source - Getty Images

    पैर या टखने की चोट
  • 5

    इन्फेक्शन

    पैर व टखनों में सूजन इन्फेक्शन का एक लक्षण भी हो सकता है। जिन लोगों को डायबिटीज या पैर की अन्य नर्व संबंधी समस्या होती है, उन्हें पैर के इन्फेक्शन का जोखिम अधिक होता है। अगर आपको डायबिटीज है, तो आपको अपने पैरों में होने वाले फफोलों और दर्द पर ध्यान देने की जरूरत है। अगर आपको पैर में सूजन या ब्लिस्टर यानी फफोला दिखता है तो तुरंत चिकित्सीय सलाह लें।

    Image Source - Getty Images

    इन्फेक्शन
  • 6

    खून का थक्का

    पैरों की नसों में होने वाले खून के थक्के पैरों तक आने वाले खून के बहाव को उल्टा दिल तक वापस भेज देते हैं। इस वजह से भी टखने व पैर सूज जाते हैं। ये खून के थक्के यानी ब्लड क्लॉट या तो सुपरफीशियल होते हैं जो त्वचा के नीचे ही नसों में होते हैं, या फिर गहरे हो सकते हैं। गहरे खून के थक्के पैरों की कुछ और मुख्य नसों को ब्लॉक कर सकते हैं। ये खून के थक्के जानलेवा भी हो सकते हैं अगर ये दिल या फेफड़ों तक पहुंच जाएं। अगर आपके एक पैर में सूजन है और साथ में दर्द भी, बुखार और पैर का रंग भी बदल रहा है तो फौरन चिकित्सक के पास जाएं।

    Image Source - Getty Images

    खून का थक्का
  • 7

    दिल, लीवर या किडनी में खराबी

    कई बार टखने व पैर की सूजन दिल, लीवर या किडनी की किसी बीमारी के लक्षण के रूप में प्रकट होता है। सूजा हुआ टखना दिल के दौरे का संकेत हो सकता है। अगर किडनी सही से काम न कर रही हों, तो भी पैर सूज सकते हैं। लीवर की बीमारी में अल्बमिन कहलाने वाले उस प्रोटीन के उत्पादन पर प्रभाव पड़ता है जो खून को दूसरे टीशू में फैलने से रोकता है। इस प्रोटीन के कम निर्माण से फ्लूड लीकेज बढ़ जाती है जो गुरुत्वाकर्षण के नियम के कारण पैरों में अधिक पहुंचता है, और उससे सूजन हो जाती है। किसी गंभीर समस्या से बचने के लिए पैर की सूजन के साथ चेस्ट पेन होने पर डॉक्टर से संपर्क करें।

    Image Source - Getty Images

    दिल, लीवर या किडनी में खराबी
  • 8

    दवाओं के साइड इफेक्ट्स

    कई दवाओं के साइड इफेक्ट की वजह से भी पैर व टखनों में सूजन हो जाती है। कैल्शियम चैनल ब्लॉकर, जो कि एक प्रकार की ब्लड प्रैशर की दवा है, उसका साइड इफेक्ट पैरों की सूजन ही होता है। इसके अलावा, एंटीडिप्रेसेंट्स खाने वाले लोगों को कई बार सूजन की इस समस्या का सामना करना पड़ता है। डायबिटीज की दवाएं भी पैर व टखने की सूजन का कारण हो सकती हैं। अगर आपको शक होता है कि आपकी सूजन का कारण आपके द्वारा खाए जाने वाली दवा ही है तो इस बारे में अपने डॉक्टर से बात करें।

    Image Source - Getty Images

    दवाओं के साइड इफेक्ट्स
Load More
X
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर