हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

फेफड़ों की समस्या को बढ़ाने वाले अजीब कारक

By:Rahul Sharma, Onlymyhealth Editorial Team,Date:Jul 13, 2015
अगर फेफड़े स्‍वस्‍थ हों तो शरीर भी स्‍वस्‍थ रहता है, क्‍योंकि यह शरीर की सफाई करता है, लेकिन वर्तमान में फेफड़ों की बीमारियों की समस्‍या बढ़ती जा रही है, इसके लिए कुछ अजीब कारक जिम्‍मेदार हो सकते हैं।
  • 1

    फेफड़ों की समस्या बढ़ाने वाले कारक

    जीवित रहने के लिए सांस लेना जरूरी है। लेकिन जिन लोगों को फेफड़ों अर्थात लंग की बीमारी है उनको अस्थमा जैसी बीमारी होने की आशंका भी अधिक रहती है। उनको सांस लेने में भी तकलीफ होती है। आज की जीवनशैली में फेफड़ों की बीमारियां भी बढ़ती जा रही हैं और इसके पीछे कुछ ऐसे कारक भी हैं जिनकी वजह से फेफड़ों की समस्या बढ़ रही है। चलिये जानें कि फेफड़ों की समस्या बढ़ाने वाले ये अजीब कारक कौन से हैं - 
    Images source : © Getty Images

    फेफड़ों की समस्या बढ़ाने वाले कारक
  • 2

    प्रदूषण और आनुवंशिक कारण

    अस्थमा श्वास संबंधी एक रोग है। इससे श्वासन नलियों में सूजन आ जाती है और वे सिकुड़ जाती हैं, जिससे सांस लेने में परेशानी होने लगती है। इसके लिए पर्यावरण प्रदूषण और आनुवंशिक कारण प्रमुख रूप से जिम्मेदार होते हैं। साथ ही उन लोगों को भी विशेष सावधानी रखनी चाहिए, जिन्हें धूल, धुआं, पालतू जानवरों और किसी दवा आदि से एलर्जी होती है।
    Images source : © Getty Images

    प्रदूषण और आनुवंशिक कारण
  • 3

    तंबाकू का सेवन से फेफडों का कैंसर

    एक या दोनों फेफडों में असामान्य कोशिकाओं के अनियंत्रित रूप से विकासित होने पर वायुमार्ग के अंदर परत बन जाती है। ये बहुत तेजी से विभाजित होती हैं और टय़ूमर का रूप ले लेती हैं। फेफडों के कैंसर के 10 में से 9 मामले में तंबाकू का सेवन ही कारण होता है। वातावरण में एसबेस्टस घुला होने के कारण भी ये समस्या होती है।
    Images source : © Getty Images

    तंबाकू का सेवन से फेफडों का कैंसर
  • 4

    पटाखों के धुएं से

    अस्थमा के रोगियों और कम उम्र के बच्चों को पटाखों और इनके धुएं से बचाकर रखना चाहिये। अस्थमा और पटाखे एक बेहद हानिकारक कॉम्बिनेशन है। पटाखों के जलने से निकलने वाला रसायन और टॉक्सिक धूल के कण वायु प्रदूषण को 200 प्रतिशत बढ़ा देता है, लोगों के अस्थमा को अचानक बहुत ज्यादा बढ़ा देता है। पटाखे छोटे बच्चों में ब्रांकिल अस्थमा को बढ़ाने वाला एक बड़ा कारक है।
    Images source : © Getty Images

    पटाखों के धुएं से
  • 5

    हृदय से संबंधित समस्याओं से

    पल्मोनरी इडेमा एक ऐसी स्थिति है, जो फेफड़ों में तरल पदार्थ भरने के कारण हो जाती है। इससे सांस लेने में तकलीफ होती है। इसका सबसे प्रमुख कारण हृदय से संबंधित समस्याएं होती हैं। इसके अलावा न्युमोनिया तथा विषैले तत्वों से संपर्क में आने व कुछ दवाओं से भी यह हो सकता है। इसके अलावा धूम्रपान इसका सबसे प्रमुख कारण होता है।
    Images source : © Getty Images

    हृदय से संबंधित समस्याओं से
  • 6

    कुछ चीजों से एलर्जी के कारण

    अनेक लोगों में एलर्जी के कारण अस्थमा का अटैक आ सकता है। यह एलर्जी मौसम, खाद्य पदार्थ, दवाइयाँ इत्र, परफ्यूम जैसी खुशबू और कुछ अन्य प्रकार के पदार्थों से हो सकती हैं। वहीं कुछ लोगों को रुई के बारीक रेशों, आटे की धूल, कागज की धूल, कुछ फूलों के पराग, पशुओं के बाल, फफूंद और कॉकरोज जैसे कीड़ों के प्रति एलर्जित होते हैं।
    Images source : © Getty Images

    कुछ चीजों से एलर्जी के कारण
  • 7

    बरसात के बाद

    बरसात होने के बाद नमी बनी रहती है। लेकिन तब भी खुली जगहों के अलावा घर व दफ्तर आदि में धूल के कुछ कण वातारण में तैरते रहते हैं। जो नमी के साथ ही वायु मंडल में एक परत के रूप में जम जाते हैं। इससे लोगों के सीने में जलन, कफ जमने एवं इंफेक्शन की परेशानी हो सकती है।
    Images source : © Getty Images

    बरसात के बाद
  • 8

    भावनात्मक मनोभाव के कारण

    मजबूत भावनात्मक मनोभाव (जैसे रोना या लगातार हंसना) और तनाव भी इस समस्या को बढ़ा सकते हैं। जी हां, सिर्फ पदार्थ ही नहीं बल्कि भावनाओं से भी दमे का दौरा शुरू हो सकता है। जैसे क्रोध, रोना व विभिन्न प्रकार की उत्तेजनाएं।
    Images source : © Getty Images

    भावनात्मक मनोभाव के कारण
Load More
X
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर