हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

बुढ़ापे से जुड़े ये 5 मिथ लोगों को लगते हैं सच

By:Rahul Sharma, Onlymyhealth Editorial Team,Date:Mar 28, 2016
वृद्धावस्था को लेकर मन में पहले से बनी नकारात्‍मक धारणाएं लोगों को डराती हैं। शोधकर्ताओं ने शोध कर इस विषय से जुड़ी कुछ सच्चाइयों को सामने लाया है, ताकि हमारी बुढ़ापे को लेकर ये नकारात्मक सोच बदल सके और हम सच से रूबरू हो सकें।
  • 1

    वृद्धावस्था से जुड़े मिथ और सच


    हम लोगों में बढ़ती उम्र को लेकर एक अजीब सी बेचैनी और डर होता है। इसका कारण हैं वृद्धावस्था को लेकर मन में पहले से बनी नकारात्‍मक धारणाएं।
    बुढ़ापे को लेकर मन में एक आम सोच होती है कि बुढ़ापे में उन्‍हें दूसरों पर आश्रित रहना पड़ेगा, शरीर और दिमाग साथ छोड़ देगा, बीमारियां घेर लेंगी आदि। सौभाग्‍य से हम लोगों की इस गलत धारणां को दूर करने के लिए शोधकर्ताओं ने शोध कर इस विषय से जुड़ी कुछ सच्चाइयों को सामने लाया है, ताकि हमारी बुढ़ापे को लेकर ये नकारात्मक सोच बदल सके और हम सच से रूबरू हो सकें। देखिये ज्यादा फर्क उम्र से नहीं बल्कि सिर्फ हमारे सोचने के तरीके से पड़ता है। तो चलिये जानते हैं वृद्धावस्था से जुड़े कुछ ऐसे ही मिथ और इनके पीछे के साच को -
    Images source : © Getty Images

    वृद्धावस्था से जुड़े मिथ और सच
  • 2

    वृद्धावस्था मतलब हमेशा बीमार रहना


    वृद्धावस्था का मतलब बीमारियां होना बिल्‍कुल नहीं है। इस बात में कोई शक नहीं कि बढ़ती उम्र के साथ शरीर की क्षमता में थोड़ी गिरावट आती है, लेकिन अगर यदि जवानी से लेकर वृद्धावस्था तक पोषक तत्‍वों पौष्टिक भोजन खाएं और नियमित व्यायाम और योग आदि करें तो बढ़ती उम्र में भी बीमारियां नहीं होती हैं।
    Images source : © Getty Images

    वृद्धावस्था मतलब हमेशा बीमार रहना
  • 3

    बढ़ती उम्र के साथ बदल जाती हैं सारी आदतें


    एक आम धारणा है कि उम्र बढ़ने के साथ लोगों कि जिंदगी नियम कायदों में बंध जाती है। और एक उम्र के बाद लोगों के स्‍वभाव में ज्‍यादा परिवर्तन आ जाता है। हालांकि वास्तव में उम्र के साथ लोग और भी ज्यादा बेहतर बन पाते हैं और जीवन को बेहतर ढ़ंग से जीना और इसका आनंद लेना सीख पाते हैं। यहां तक कि यदि स्वस्थ जीवनशैली का पालन किया जाए तो खाने-पीने की आदतों को बदलने की भी जरूरत नहीं होती है।
    Images source : © Getty Images

    बढ़ती उम्र के साथ बदल जाती हैं सारी आदतें
  • 4

    जोड़ों और शरीर में हमेशा दर्द रहता है


    हम अकसर लोगों को कहते सुनते हैं कि वृद्धावस्था में हड्डियां कमजोर हो जाती है और जोड़ों में हमेशा दर्द रहता है। लेकिन ऐसा सच नहीं है, यदि युवावस्था से ही शरीर का ध्यान रखा जाए और नियमित व्यायाम और स्वस्थ खान-पान का पालन किया जाए तो इस उम्र में भी हड्डियों से सम्‍बंधित कोई समस्‍या नहीं होती है और आप चुस्त-दुरुस्त रहते हैं।
    Images source : © Getty Images

    जोड़ों और शरीर में हमेशा दर्द रहता है
  • 5

    सभी क्षमताएं और इच्छाएं खतम हो जाती हैं


    एक सबसे बड़ा डर लोगों में देखा जाता है कि वे मानते हैं कि 30-40 की उम्र पार करते ही कामेक्षा खतम हो जाती है। हालांकि ये सच नहीं है, देखिये 70 साल की उम्र के बाद कामेच्‍छा में कमी आ सकती है, लेकिन इस समय तक आप स्वस्थ जीवनशैली और नियमित योग और व्यायाम कर दांपत्य जीवन का आनंद ले सकते हैं।
    Images source : © Getty Images

    सभी क्षमताएं और इच्छाएं खतम हो जाती हैं
Load More
X
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर