हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

पीलिया या हेपेटाइटिस बी के इलाज के लिए घरेलू उपचार

By:Rahul Sharma, Onlymyhealth Editorial Team,Date:Nov 03, 2014
पीलिया या हेपेटाइटिस एक आम यकृत विकार हैं, जो कई असामान्य चिकित्सा कारणों की वजह से से हो सकते हैं, हालांकि कुछ घरेलू उपचारों की मदद से इसे ठीक किया जा सकता है।
  • 1

    पीलिया या हेपेटाइटिस का घरेलू इलाज

    पीलिया या हेपेटाइटिस एक आम यकृत विकार हैं, जोकि कई असामान्य चिकित्सा कारणों की वजह से से हो सकते हैं। पीलिया होने पर किसी व्यक्ति को सिर दर्द, लो-ग्रेड बुखार, मतली और उल्टी, भूख कम लगना, त्वचा में खुजली और थकान आदि लक्षण होते हैं। त्वचा और आंखों का सफेद भाग पीला पड़ जाता है। इसमें मल पीला और मूत्र गाड़ा हो जाता है। हालांकि ऐसे में कुछ घरेलू उपचार आपकी काफी मदद कर सकते हैं। तो चलिये जानें पीलिया या हेपेटाइटिस बी के इलाज के लिए कुछ घरेलू उपचार।  
    Image courtesy: © Getty Images

    पीलिया या हेपेटाइटिस का घरेलू इलाज
  • 2

    मूली का रस व पत्ते

    मूली के हरे पत्ते पीलिया में लाभदायक होते है। यही नहीं मूली के रस में भी इतनी ताकत होती है कि यह खून और लीवर से अत्‍यधिक बिलिरूबीन को निकाल सके। पीलिया या हेपेटाइटिस में रोगी को दिन में 2 से 3 गिलास मूली का रस जरुर पीना चाहिये। या फिर इसके पत्ते पीसकर उनका रस निकालकर व छानकर पीएं।
    Image courtesy: © Getty Images

    मूली का रस व पत्ते
  • 3

    टमाटर का रस

    टमाटर का रस पीलिया में बेहद लाभदायक होता है। इसमें विटामिन सी पाया जाता है, जिस वजह से यह लाइकोपीन (एक प्रभावशाली एंटीऑक्‍सीडेंट) में रिच होता है। इसके रस में थोड़ा नमक और काली मिर्च मिलाकर पीयें।
    Image courtesy: © Getty Images

    टमाटर का रस
  • 4

    आंवला

    आवंले में भी विटामिन सी प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। कमालकी बात तो यह है कि, आप आमले को कच्‍चा या फिर सुखा कर खा सकते हैं। इसके अलावा जूस के रूप में भी प्रयोग किया जा सकता है।
    Image courtesy: © Getty Images

    आंवला
  • 5

    नींबू या पाइनएप्‍पल का जूस

    नींबू के रस को पानी में निचोड़ कर पीने से पेट साफ होता है। इसे रोज खाली पेट सुबह पीना पीलिया में सही होता है। इसके अवाला पाइनएप्‍पल भी लाभदायक होता है। पाइनएप्‍पल अंदर से पेट के सिस्‍टम को साफ रखता है।
    Image courtesy: © Getty Images

     नींबू या पाइनएप्‍पल का जूस
  • 6

    नीम

    नीम में कई प्रकार के वायरल विरोधी घटक पाए जाते हैं, जिस वजह से यह हेपेटाइटिस के इलाज में उपयोगी होता है। यह जिगर में उत्पन्न विषाक्त पदार्थों को नष्ट करने में भी सक्षण होता है। इसकी पत्तयों के सर में शहद मिलाकर सुबह-सुबह पियें।
    Image courtesy: © Getty Images

    नीम
  • 7

    अर्जुन की छाल

    अर्जुन के पेड़ की छाल, दिल और मूत्र प्रणाली को अच्छा बनाने के लिए जानी जाती है। हालांकि, इसमें मौजूद एल्कलॉइड जिगर में कोलेस्ट्रॉल के उत्पादन को विनियमित करने की क्षमता भी रखता है। और यह गुण इसे हैपेटाइटिस के खिलाफ एक मूल्यवान दवा बनाता है।
    Image courtesy: © Getty Images

    अर्जुन की छाल
  • 8

    हल्दी

    देश के कुछ भागों में, लोगों को यह ग़लतफ़हमी है कि, क्योंकि हल्दी का रंग पीला होता है, पीलिया के रोगी को इसाक सेवन नहीं करना चाहिए। हालांकि यह एक कमाल का एंटी-इन्फ्लेमेट्री, एंटीऑक्सिडेंट, एंटी-माइक्रोबियल प्रभाव वाली तथा बढ़े हुए यकृत नलिकाओं को हटाने वाली होती है। हल्दी हैपेटाइटिस के खिलाफ सबसे प्रभावी उपायों में से एक है।
    Image courtesy: © Getty Images

    हल्दी
Load More
X
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर