हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

पपीते के पत्‍तों का जूस पियेंगे तो नहीं होंगी ये बीमारियां

By:Aditi Singh , Onlymyhealth Editorial Team,Date:Dec 24, 2015
पपीते के पत्‍तों में विटामिन A, B, C, D और E और कैल्‍शियम की मात्रा भी होती है। आइयें जानते है कि डेंगू और मलेरिया के अलावा अन्य किन बीमारियों में लाभदायक है।
  • 1

    पपीते के पत्ते

    हम सभी जानते है कि डेंगू और मलेरिया जैसे रोगों में पपीते के पत्ते का रस लाभकारी होता है। पर पपीते के पत्‍ते कई अन्य औषधीय गुणों से भी  भरे हुए होते है। इसमें पेपेन,साइमोपेपेन, सिस्टेटिन, टोकोफेरोल, एस्कॉर्बिक एसिड, फ्लेवोनॉइड्स, साइनोजेनिक ग्लूकोसाइड्स आदि पाया जाता है । ये सभी तत्व एंटी इंफ्लैमेटरी एक्टीविटी से जुड़े हैं। यानी शरीर में होने वाले कोशिकाओं के विघटन या वायरस के दुष्प्रभाव को रोकने में प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत करते हैं।
    Image Source-Getty

    पपीते के पत्ते
  • 2

    कैंसर विरोधी गुण

    इसमें कैंसर विरोधी गुण होते हैं जो कि इम्‍यूनिटी को बढाने में मदद करते हैं और सर्वाइकल कैंसर, ब्रेस्‍ट कैंसर, अग्नाशय, जिगर और फेफड़ों के कैंसर को होने से रोकते हैं।पपीते के पत्तों को पानी में उबालने के बाद छान कर पीने से बुखार और हृदय संबंधी रोग में आराम मिलता है।
    Image Source-Getty

    कैंसर विरोधी गुण
  • 3

    संक्रमित रोग

    इसके पत्तों को पीस कर इसका लेप करने से चोट के कारण आई सूजन और दर्द में आराम मिलता है, साथ ही गठिया में भी फायदेमंद होता है।इन पत्तों से तैयार किया गया मरहम कटने, जलने, त्वचा पर पडऩे वाले दाने या किसी कीड़े के डंक मारने पर राहत पहुंचाता है।पपीते की पत्‍तियों में 50 एक्‍टिव सामग्रियां होती हैं जो कि सूक्ष्मजीवों जैसे फंगस, कीड़े, परजीवी और कैंसर कोशिकाओं के विभिन्न अन्य रूपों को बढने से रोकती हैं।
    Image Source-Getty

    संक्रमित रोग
  • 4

    सौंदर्य

    पपीते के पत्तों में विटामिन सी और ए मौजूद होता है, जो कि त्वचा के लिए लाभदायक है।अगर चेहरे पर मुंहासे हैं तो सूखी पपीते की पत्‍ती ले कर उसे थोड़े से पानी के साथ मिक्‍स कर के पेस्‍ट बना लें। फिर इस पेस्‍ट को चेहरे पर लगा कर सुखा लें और फिर पानी से धो लें। इनके उपयोग से त्वचा साफ, स्वास्थ और दमकती रहती है।
    Image Source-Getty

    सौंदर्य
  • 5

    सर्दी और जुखाम

    सूखे पत्तों की चाय या काढ़ा बना कर पीने से पाचन संबंधी समस्याओं में लाभ मिलता है। इससे प्लेटलेट्स और वाइट ब्लड सेल्स भी बढ़ते हैं। यह मलेरिया से लड़ने में प्रभावकारी है। इन पत्‍तियों में सर्दी और जुखाम जैसे रोगों से लड़ने की शक्‍ति होती है। अगर आप पपीते के पत्‍ते की चाय पियेंगे तो आपके पेट की खोई हुई भूंख दुबारा वापस आ जाएगी।
    Image Source-Getty

    सर्दी और जुखाम
Load More
X
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर