हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

वैरिकाज़ वेन्स के लिए प्राकृतिक उपचार

By:Rahul Sharma, Onlymyhealth Editorial Team,Date:Oct 30, 2015
त्वचा की ऊपरी सतह पर लाल या नीले रंग की उभरी हुयी दिखाई देने वाली नसों को वैरिकाज़ वेन्स कहा जाता है। वैरिकाज़ वेन्स को कुछ प्राकृतिक उपचार की मदद से सही किया जा सकता है।
  • 1

    वैरिकाज़ वेन्स का प्राकृतिक उपचार



    वेरीकोज वेन्स दरअसल त्वचा की ऊपरी सतह पर उभरी हुयी दिखाई देने वाली नसें होती हैं। ऐसा अधिक दबाव पड़ने के कारण नसों के वाल्व खराब हो जाने की वजह से होता है। सूजी, टेड़ी-मेड़ी और उभरी हुयी ये नसें लाल या नीले रंग की होती हैं, जो मुख्य रूप से जांघों या पिंडलियों पर दिखाई देती हैं। ये समस्या खराब दिनचर्या, व्यायाम न करने, खराब खानपान, घंटो तक बैठे रहने, तथा शारीरिक गतिविधि की कमी के कराण हो सकती है। इसके अलावा भारी वजन उठाने या इंटेंस एक्सरसाइज से भी ये समस्या हो सकती है। विटामिन-सी की कमी से भी ऐसा हो सकता है। हालांकि वैरिकाज़ वेन्स को कुछ प्राकृतिक उपचार की मदद से सही किया जा सकता है।
    Images source : © Getty Images

    वैरिकाज़ वेन्स का प्राकृतिक उपचार
  • 2

    गेंदे के फूलों से उपचार


    वैरीकोज वेन्स को ठीक करने में गेंदे के फूल बेहद प्रभावी होते हैं। इससे उपचार करने के लिये 1 कप गेंदे के फूलों को 4 कप पानी में तकरीबन 5 मिनट के लिये उबालें और फिर इसमें सूती कपड़े को भिगोकर उससे वैरिकाज़ नसों पर सिकाई करें। इस उपचार को नियमित करने से जल्दी लाभ होता है। आप गेंदे के फूल की ताजी पंखुडियां खा भी सकते हैं, इससे भी फायदा होता है।
    Images source : © Getty Images

    गेंदे के फूलों से उपचार
  • 3

    सेब का सिरका (एप्‍पल साइडर वेनिगर)


    सेब का सिरका एक प्राकृतिक उत्‍पाद है जोकि रक्त प्रवाह और रक्‍त परिसंचरण में सुधार करता है। इससे अपने पैरों की नियमित मालिश करने से वैरीकोज वेंस ठीक होती हैं। इसे रात को सोने से पहले करें और सुबह उठने के बाद भी कर सकते हैं। कुछ महीनों तक इसकी मालिश करने पर नसें ठीक होने लगती हैं। आप चाहें तो एक गिलास पानी में दो चम्‍मच वेनिगर को मिलाकर पी भी सकते हैं।
    Images source : © Getty Images

    सेब का सिरका (एप्‍पल साइडर वेनिगर)
  • 4

    जैतून, अरंडी और सरसों का तेल


    जैतून के तेल की मालिश करने से रक्त परिसंचरण बढ़ता और दर्द और सूजन कम होता है। मालिश के लिये जैतून के तेल में विटामिन ई को बराबर मात्रा में मिलाकर उसे थोड़ा सा गर्म कर लें। अब इस गर्म तेल से कुछ मिनटों के लिये नसों की मालिश करें। आप अरंडी या सरसों के तेल से भी इन नसों की मालिश कर सकते हैं।  
    Images source : © Getty Images

    जैतून, अरंडी और सरसों का तेल
  • 5

    बुचर ब्रूम बूटी



    बुचर ब्रूम वैरिकोज जड़ी बूटी में रुसोगेनिन्स नामक तत्व होता है जो सूजन को कम करने में मदद करता है। साथ ही इसमें एंटी-इफ्लेमेंटरी और एंटी-इलास्‍टेज गुण भी होते हैं जो नसों की तकलीफ को कम करते हैं। उपचार के लिये बुचर ब्रूम को रोज़ाना 100 मिलीग्राम की मात्रा में दिन में तीन बार लें। उच्‍च रक्तचाप से पीड़ित लोग इस जड़ी-बूटी का सेवन करने से पहले चिकित्‍सक से परामर्श अवश्‍य कर लें।
    Images source : © Getty Images

    बुचर ब्रूम बूटी
Load More
X
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर