हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

आपको पता होनी चाहिए फेस पील से जुड़ी सच्‍चाई

By:Pooja Sinha, Onlymyhealth Editorial Team,Date:Aug 28, 2015
अगर आप भी ड्राई और रफ त्वचा से पीलिंग द्वारा छुटकारा पाना चाहते हैं, लेकिन इसके साइड इफेक्ट से डर लगता है? तो इस चमकदार सच्चाई से जुड़े मिथ के बारे में जानें।
  • 1

    फेस पील से जुड़े ये मिथ

    फेस पीलिंग का इस्‍तेमाल स्किन की वाइटनिंग और ब्राइटनिंग के लिए किया जाता हैं। फेस पीलिंग के बाद नई हेल्दी स्किन की लेयर चेहरे पर आ जाती है, जिससे आपका कॉम्प्लेक्शन एकसार दिखता है, स्किन सॉफ्ट और टाइट भी हो जाती है। सन एक्सपोजर के चलते होने वाली टैनिंग से भी पीलिंग ठीक हो जाती है। साथ ही रफ या ड्राई स्किन को स्मूद बनाने में भी पीलिंग का रोल बेहद असरदार है। इसके अलावा इसका इस्‍तेमाल एक्ने ट्रीटमेंट के लिए भी किया जाता है। लेकिन कुछ लोगों को इसके इस्‍तेमाल से बहुत डरते हैं। अगर आप भी ड्राई, रफ त्‍वचा से पीलिंग द्वारा छुटकारा पाना चाहते हैं लेकिन इसके साइड इफेक्‍ट से डर लगता है? तो आइए हम इस चमकदार सच्‍चाई से जुड़े मिथ से पर्दाफाश करते हैं।

    फेस पील से जुड़े ये मिथ
  • 2

    मिथ : त्वचा के लिए फिजीकल पील असरकार होता है।

    सच : पील के बारे में पीलिंग की मात्रा द्वारा न लेकर अंतिम परिणाम द्वारा निर्णय लेना चाहिए। किस हद तक त्‍वचा के लिए पील करना है यह त्‍वचा की स्थिति और तरीके में कितना दम है, जैसे कारकों पर निर्भर करता है। लेकिन यह बात तय है कि पीलिंग से त्‍वचा में सुधार तो दिखाई देता ही है।

    मिथ : त्वचा के लिए फिजीकल पील असरकार होता है।
  • 3

    मिथ : केमिकल पील होने के कारण यह हानिकारक होता है।

    सच : यह बात बिल्‍कुल भी सच नहीं है क्‍योंकि ज्‍यादातर पील्स पौधे या फलों आधारित होते है और बहुत ही सुरक्षित होते हैं। हालांकि कुछ स्‍ट्रोक पीलिंग का इस्‍तेमाल कुछ विशिष्‍ट त्‍वचा रोग के इलाज के लिए किया जाता है। अभी तक आपने जितने भी स्किन ट्रीटमेंट्स इस्तेमाल किए जा रहे हैं, उनमें केमिकल पील्स सबसे कम नुकसानदायक स्किन ट्रीटमेंट है।

    मिथ : केमिकल पील होने के कारण यह हानिकारक होता है।
  • 4

    मिथ : पील के कारण त्‍वचा पर जलन और लालीपन का आना।

    सच : वास्तव में ये एक ऐसा स्किन ट्रीटमेंट है जो स्किन के ट्रेक्सचर को बेहतर बनाने का काम करता है। ज्यादातर छिलके काफी हल्के होते हैं और कोई साइड इफेक्ट नहीं है। हालांकि, दुर्लभ मामलों में आपको एलर्जी की प्रतिक्रिया हो सकती थी, इसलिए इसे करने से पहले पैच परीक्षण करना आवश्यक होता है।

    मिथ : पील के कारण त्‍वचा पर जलन और लालीपन का आना।
  • 5

    मिथ : पीलिंग केवल चेहरे के लिए होती है।

    सच : हालांकि पीलिंग मुख्‍य रूप से चेहरे के लिए होती है, लेकिन घुटनों और अंडरआर्म का कालापन दूर करने, मुंहासों के निशान और पीठ की पिगमेंटेशन को दूर करने के लिए लगभग शरीर के किसी भी हिस्‍से में इस्‍तेमाल किया जा सकता है।

    मिथ : पीलिंग केवल चेहरे के लिए होती है।
  • 6

    मिथ : सभी पीलिंग एक जैसी होती हैं और एक बार ही की जानी चाहिए।

    सच : प्रत्येक पीलिंग में एक्टिव तत्व काफी अलग होते हैं। विशिष्ट त्वचा की स्थिति के लिए विशिष्ट पीलिंग का इस्‍तेमाल होता हैं। जैसे मुंहासों वाली त्वचा के लिए,  सैलिसिलिक एसिड आधारित पीलिंग की सिफारिश की जाती हैं। पीलिंग की विस्‍तृत विविधता होती है और कुछ को केवल एक वर्ष में एक बार ही किया जाता है और जबकि कुछ को हर दो हफ्ते बाद किया जाता है।
    Image Source : Getty

    मिथ : सभी पीलिंग एक जैसी होती हैं और एक बार ही की जानी चाहिए।
Load More
X
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर