हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

5 कारणों बाप-बेटे कभी भी नहीं बन पाते हैं अच्‍छे दोस्‍त

By:Aditi Singh , Onlymyhealth Editorial Team,Date:Jul 25, 2016
बच्चों से एक उम्र के बाद दोस्ती कर लेने से उनकी परवरिश ज्यादा बेहतर होती है। वो आसानी से अपने मन की बात और परेशानियों को आपसे बांटने लगते है। लेकिन बाप और बेटे की दोस्ती होना इतना आसान नहीं होता है। जानिए आखिर क्या कारण है इन इनके बीच दोस्ती होना इतना मुश्किल क्यूं होता है। कहते हैं कि एक पिता को अपने बेटे का बाप कम दोस्‍त ज्‍यादा बनना चाहिए।
  • 1

    तुम अभी बच्‍चे हो!

    कहते है कि बेटे के पांव में जब बाप का जूता आने लगे तो बाप को उसे दोस्त बना लेना चाहिए। पर कुछ पापा ऐसा नहीं करते। वो अपने बेटे को सारी जिंदगी बच्चे जैसा ही बिहेव करने की ठाने रहते है। यही कारण है कि कई बार पापा-बेटे के बीच में दोस्ती नहीं हो पाती है। पापा को समझना चाहिए कि बच्चा बड़ा हो गया है अब उसे नासमझ नहीं मानकर अपनी बातों और फैसलों मे शामिल करना चाहिए। जेनेरेशन गैप को भरने का भी ये एक अच्छा तरीका होता है।
    Image Source-getty

     तुम अभी बच्‍चे हो!
  • 2

    कब लोगे जिम्‍मेदारी?

    कुछ  बेटों की ये शिकायत होती है कि उनके पापा उनको समझदार या जिम्मेदार ही नहीं मानते। पर पापा जी, आपको समझना चाहिए, बदलते दौर मे अगर कोई चीज आपके मनमुताबिक नहीं हुई इसकी मतलब ये नहीं है कि बेटा गैरजिम्मेदार है। पूरे समय इंटरनेट पर बिताने वाला आपका बेटा जरूरी नहीं है कि समय कि बर्बादी कर रहा हो या कोई  गलत काम मे इनवाल्व हो। ऐसे में दोनों को चाहिए कि वह साथ बैठ कर इस पर बात करें, लेकिन ऐसा हो नहीं पाता। और इसी के चलते पिता और पुत्र के बीच तनातनी हो जाती है।
    Image Source-getty

    कब लोगे जिम्‍मेदारी?
  • 3

    तुम्‍हारे बस का काम नहीं...

    हमेशा अपने बेटो को नकारा साबित करने में पापा को पता नहीं कौन सा मेडल मिल जाता है। तुमसे कुछ नहीं होगा, फलाने का बेटा ये कर रहा है तुम किसी लायक नहीं हो। पापा जी आपको जानकारी हैरानी होगी, आपके बेटे की कमजोरियों को िकालते निकालते औपने उसे इसका आदी बना दिया है। ध्यान रहें ये आपके बेटे के व्यक्तित्व को तो ख राब ही करता है आपके साथ उसके रिश्तों पर भी बुरा असर डालता है। बेटा चाहता है कि पापा उसके साथ खड़े हों, उसे हौंसला और हिम्‍मत दें। ऐसे में जब पिता उसे ये बातें कहते हैं, तो वह उनसे हिचकने और दूर होने लगता है।
    Image Source-getty

    तुम्‍हारे बस का काम नहीं...
  • 4

    ये हैं तुम्‍हारे दोस्‍त?

    पापा लोगो को अपने बेटों के दोस्तों से बहुच परेशानी रहती है। पता नहीं क्यों। दोस्त को पापा ठीक से जानते भी नहीं होगें, पर उनपर खराब होने का टैग जरूर लगा देगें। अब लड़को को तो अपने दोस्तों से ज्यादा कुच बाता नहीं है। ऐसे मे पापा का हरदम उनतके दोस्तों की बुराई करना भला कैसे अच्छा लगेगा। ये भी एक बहुत बड़ा कारण है कि लड़के अपने पापा के ज्यादा अच्छे दोस्त नहीं बन पाते है। लेकिन पापा तो पापा ठहरे उन्‍हें कौन समझाए...
    Image Source-getty

    ये हैं तुम्‍हारे दोस्‍त?
  • 5

    बस आवारागर्दी करते रहो...

    लड़के है जी, दोस्तों के साथ घूमगें फिरेंगे ही। हम ये नहीं कहते है कि लड़कों को हमेशा अपने मन की करनी चाहिए। पर पापा जी आप तो हमेशा ही उसके पीछे पड़े रहते है। ये भी कोई बात हुई भला।  आपको समझना चाहिए कि  पिता का भरोसा न दिखाना, बेमतलब शक करना उन्‍हें परेशान कर देता है। इस लिस्‍ट में एक और बात तब जुड़ जाती है, जब बेटा भले ही घर का कोई काम निपट कर आया हो  और अनजान पिता उसे कह देते हैं कि तुम पूरे दिन आवारागर्दी करते हो, यकीनन कोई भी बेटा अपने पिता से यह बात नहीं सुनना चाहेगा।
    Image Source-getty

    बस आवारागर्दी करते रहो...
Load More
X
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर