हेल्‍थ संबंधी जानकारी के लिए सब्‍सक्राइब करें

Like onlymyhealth on Facebook!

अपने पैरेंट्स से हम सीखते हैं रिलेशनशिप के ये पाठ

By:Rahul Sharma, Onlymyhealth Editorial Team,Date:Mar 21, 2016
रिश्तों से जुड़ी बेस्ट अडवाइज़ या सीख लेने के लिये आपके मां-बाप से बेहतर कोई नहीं हो सकता है। उनके पास सालों का तजुर्बा और दूर दृष्टी होती है।
  • 1

    पैरेंट्स से सीखें रिलेशनशिप के ये पाठ


    हम अकसर रिलेशनशिप से संबंधित सीख या समाधान के लिये इंटरनेट, किताबों या फिल्मों का सहारा लेते हैं। हम अपने दोस्तों से बात करते हैं, लेकिन शायद माता-पिता से नहीं। शायद हमें लगता है कि वे आज के दौर के रिश्तों के बारे में उतना नहीं समझते हैं। लेकिन रिश्तों से जुड़ी बेस्ट अडवाइज़ या सीख लेने के लिये आपके मां-बाप से बेहतर कोई नहीं हो सकता है। उनके पास सालों का तजुर्बा और दूर दृष्टी होती है। तो चलिये जानें ऐसे ही कुछ रिलेशनशिप के जुड़े पाठ, जो हम अपने पैरेंट्स से सीख सकते हैं। -      
    Images source : © Getty Images

    पैरेंट्स से सीखें रिलेशनशिप के ये पाठ
  • 2

    छोटी-छोटी बातों की बड़ी अहमियत


     
    कैसे आपके या आपके पापा के शाम को दफ्तर से घर आने पर आपकी मां पानी और कॉफी का गिलास तैयार रखती हैं। कैसे पापा हमारी ज़रा सी तबियत खराब होने पर देर रात को भी दवाइयां लेने दौड़ पड़ते थे। ये बातें शायद बेहद छोटी लगें, लेकिन छोटी-छोटी बातें ज़िदगी में बड़ी अहमियत रखती हैं। हमें उनसे ये सीखना चाहिये।   
    Images source : © Getty Images

    छोटी-छोटी बातों की बड़ी अहमियत
  • 3

    परिवार के साथ समय बिताने सबसे पहली प्राथमिकता



    हमारे मां-बाप ने अपने माता-पिता और बाकी के परिवारजनों के साथ खुशी भरा समय बिताना हमेशा प्राथमिकता पर रखा है। फिर चाहे वे कितने भी व्यस्थ ही क्यों ना हों, किसी ना किसी तरह वे परिवार के साथ डिनर या टीवी देखने का समय निकाल ही लेते हैं। यही कारण है कि वे साथ नया साल या जन्मदिन मनाने का दबाव बनाते हैं। वे जानते हैं कि परिवार के साथ क्वॉलिटी टाइम बिताने की क्या अहमियत है।
    Images source : © Getty Images

    परिवार के साथ समय बिताने सबसे पहली प्राथमिकता
  • 4

    छोटी-मोटी बहस कोई जंग नहीं



    हम सभी ने कभी न कभी अपने मां-बाप को छोटी-छोटी बातों पर झगड़ते देखा होगा, और कभी कभी बड़ी बातों पर भी। लेकिन उन्होंने हमेशा इससे आगे बढ़ कर परिवार और खुद के रिश्ते पर ध्यान दिया और उसे बेहतर बनाया। तो हम उनसे सीख सकते हैं कि छोटी-मोटी बहस कोई जंग नहीं होती है।   
    Images source : © Getty Images

    छोटी-मोटी बहस कोई जंग नहीं
  • 5

    सफल शादी को होती है प्यार और दोस्ती दोनों की दरकार

     
    हमने देखआ है कि कैसे हर अच्छे बुरे वक्त में हमारे माता-पिता ने एक दूसरे का साथ न सिर्फ पकि-पत्नि बल्कि एक दोस्त की तरह दिया और पूरे परिवार को बेहतर ढंग से संभाला है। हम उन से सीख सकते हैं कि एक सफल शादी को सिर्फ प्यार ही नहीं दोस्ती की भी जरूरत होती है।
    Images source : © Getty Images

    सफल शादी को होती है प्यार और दोस्ती दोनों की दरकार
Load More
X
संबंधित जानकारी
  • सभी
  • लेख
  • स्लाइडशो
  • वीडियो
  • प्रश्नोत्तर